painkiller is danger for health पेनकिलर खाने वाले सावधान

painkiller is danger for health पेनकिलर खाने वाले सावधान

painkiller is danger for health-  पेनकिलर खाने वाले सावधान – नमसकर दोस्तों  ! स्वागत है आपका gyandarsan.online के इस पोस्ट मे| आज हम आपके लिए painkiller  से जुड़ी बहुत ही जरूरी जानकारी ले कर आए हैं | 

रोजाना painkiller का सेवन सेहत के लिए कितना हानिकारक   सिद्ध होता है यह आज आपको  इस पोस्ट को रीड करके  पता चलेगा | यह जानकारी हम बहुत रिसर्च करने के बाद आप तक लेकर आए है | painkiller is danger for health

 

 

पेनकिलर खाने वाले सावधान |painkiller is danger for health

 

दर्द से तुरंत आराम पाने के लिए आप पेन किलर खा तो लेते हो लेकिन इसके होने वाले नुकसान से शायद आप अनजान हो | जी हा ! आपकी शरीर पर इसका नुकसान कुछ समय बाद किसी न किसी रूप मे दिखने लगता है |

 

painkiller
painkillar

 

टैस्ट कराने कि ज़रूरत नहीं – painkiller

सिरदर्द एक बहुत ही सामान्य समस्या है और तकरीबन 80% से 90% जनसंख्या अपने जीवनकाल में सिरदर्द से एक बार पीड़ित जरूर होती है और अगर हम चिकित्सकीय रूप से देखे तो 90% से 95% जो सिरदर्द होते हैं, वह साधारण सिरदर्द होते हैं।

 

यदि सही तरह से इसके लक्षण जाने जाएं और बीमारी का इतिहास जान लिया जाए तो ज्यादातर मरीजों को किसी भी तरह के टैस्ट करने कि ज़रूरत नहीं होती है।

 

कुछ प्रकार के सिरदर्द में अलग से संकेत होते हैं। अगर वे लक्षण होते ह! तो ही dr.चिकित्सक जांच के लिए बोलते हैं, अन्यथा ज्यादातर मरीजों में कोई टेस्ट या जांच की जरूरत नहीं होती। जीवनशैली प्रबंधन व दवाइयों से आसानी से ही ठीक किया जा सकता है।

 

न्यूरो फिजिशियन व न्यूरोलोजिस्ट डॉ. नमित गुप्ता ने कहा कि 100 मरीजों में लगभग 80 से 85 वह मरीज होते हैं, जिनमें माइग्रेन या माइग्रेन जैसे स्पेक्ट्रम विकार से पीड़ित होते हैं।

 

माइग्रेन एक तरह का मुख्य सिर के दर्द विकार है। सिर के दर्द को दो भागों में बांटते हैं, मुख्य सिरदर्द और सेकेंडरी सिरदर्द। मुख्य सिरदर्द कि श्रेणी में माइग्रेन एक तरह से सिरदर्द है।

 

painkiller

 

 

 

 

 

अक्सर लोग सिरदर्द का संबंध गैस या एसिडिटी से जोड़ देते हैं। यह इसलिए है, क्योंकि ज्यादातर मामलों में माइग्रेन के मरीजों में जठरांत्र संबंधी लक्षण होते है जैसे दिल कच्चा होना, उल्टी करने का मन, पेट में भारीपन आदि।

माइग्रेन का दर्द शुरू होने से पहले यह लक्षण हो सकते हैं और मरीज इसे गैस या एसिडिटी समझकर इसका उपचार करने में लग जाता है।

 

painkiller

 

अधिकांश समय मरीज बिना पर्ची के दर्द निवारक दवायें ले लेते हैं। नियमित दर्द निवारक दवायें लेने पर यह गुर्दे और जिगर पर खराब प्रभाव छोड़ता है। यह दवाइयां सिरदर्द को सिर्फ रोकती हैं, फिर वह चाहे माइग्रेन का दर्द हो, ट्यूमर का या दिमाग में किसी तरह की सूजन का।

 

यह उस बीमारी को दबा देगा और लगेगा की ठीक हो गया है पर अंदर ही अंदर वह बढ़ जाती है। अगर आपने 2-3 बार दर्द निवारक दवाइयां ली हैं और ठीक नहीं हुआ तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श करें। चिकित्सक आपको कुछ खास दवा दे सकते हैं, जो दर्द निवारण में सहायक होंगे।

इन दवाओं का आपके दूसरे अंगों पर कोई दुष्प्रभाव नहीं होगा और रोगी लंबे समय तक ले सकता है।

 

painkiller

 

 

 

 

 

 

अक्सर सिर दर्द, पेट दर्द या बदन दर्द को कम करने के लिए हम कुछ ऐसे पेनकिलर्स ले लेते हैं जिनसे हमें कुछ समय

के लिए तुरंत आराम मिल सके। लेकिन हमारी थोड़ी सी लापरवाही इन दर्द की दवाओं को हमारे लिए ही दर्द बना सकती हैं।

 

दर्द से तुरंत आराम के लिए बिना प्रिस्क्रिप्शन मिलने वाली दवाएं ‘ओवर द काउंटर ड्रग्स’ (ओटीसी) कहलाती हैं जिनकी हल्की डोज से आपको आराम तो मिल जाता है लेकिन हमारी जरा सी चूक से हमें इनका साइड एफेक्ट भी झेलना पड़ सकता है।

 

यहां click करे- इस हद्द तक खतरनाक है जंक फूड आपकी सेहत के लिए

 

 

painkiller

 

 

ये हो सकते हैं साइड एफेक्ट्स    – painkiller

– कॉन्सटपिशन या लूज मोशन्स।

– गैस्ट्रो-इन्टेस्टाइनिल समस्याएं।

– पेट में अल्सर या ब्लीडिंग।

– मानसिक स्मस्याएं जैसे अनिद्रा, ध्यान न लगना आदि।

– श्वास संबंधी दिक्कतें।

– त्वचा पर चकत्ते और खुजली या जलन।

– लंबे समय तक पेन किलर के इस्तेमाल से लिवर और किडनी तक के खराब होने का खतरा हो सकता है।

 

एक्सपर्ट की राय

पेनकिलर (painkiller) दवाओं के इस्तेमाल को लेकर सीनियर फिजीशियन डॉ. के.सी. सूद का मानना है कि तेज दर्द में राहत के लिए ओटीसी दवाओं का हल्का डोज ले सकते हैं लेकिन इनपर निर्भरता बहुत खतरनाक हो सकती है। लंबे समय तक इन दवाओं का बिना सोचे-समझे या बिना डॉक्टरी परामर्श के सेवन करने से किडनी खराब होने तक का खतरा हो सकता है।

 

 

painkiller

 

 

 

 

हमेशा रखें इन बातों का ध्यान – painkiller

पेन किलर  (painkiller) दवाओं के साइड एफेक्ट्स से बचने के लिए यह जानना भी जरूरी है कि आप पेन किलर (painkiller) लेते वक्त ऐसी कौन सी गलती कर रहे हैं जिससे आपको साइड एफेक्ट झेलना पड़ सकता है।

 

खाली पेट पेन किलर न लें – painkiller

खाली पेट पेन किलर दवाएं लेने से शरीर में गैस्ट्रिक या एसिडिटी बहुत अधिक बढ़ जाती हैं जिससे तबियत और बिगड़ सकती है। हमेशा पेन किलर (painkiller) लेने से पहले थोड़ी डाइट जरूर लें।

 

एल्कोहल से बरतें दूरी – painkiller

एल्कोहल और पेन किलर (painkiller) का कांबिनेशन आपको स्ट्रोक या हार्ट अटैक तक की स्थिति में पहुंचा सकता है। चूंकि पेन किलर दवाएं और एल्कोहल, दोनों ही एसिडिटी बढ़ाते हैं तो आप सोच सकते हैं कि इन दोनों का प्रभाव कितना नकारात्मक हो सकता है।

 

 

painkiller

 

 

यहां click करे- ऐसे होता है दिल के रोगों का इलाज

 

 

 

पानी की कमी न होने दें –

भले ही आप दवा दो घूंट पानी से लेते हों लेकिन दवा लेने के बाद शरीर में पानी की कमी न हो इसका पूरा ध्यान रखें।

आप जब दवा लेते हैं तो किडनी के पूरे सिस्टम पर उसका सीधा प्रभाव पड़ता है। ऐसे में अच्छी मात्रा में पानी के सेवन से दवाओं का टॉक्सिन तेजी से शरीर से बाहर निकलता है और साइड एफेक्ट की आशंका कम हो जाती है।

 

 

painkiller

 

 

दवा को तोड़ कर या क्रश करके न लें –

कई बार लोगों को पूरी गोली निगलने में दिक्कत होती है, खासतौर पर बच्चे दवा खाने में बहुत आनाकानी करते हैं। ऐसे में हम दवाओं को तोड़कर या क्रश करके उन्हें खिला देते हैं।

 

ऐसे में दवा का पूरा डोज तेजी से शरीर में घुलता है और कई बार हमारा शरीर उसके प्रभाव को संभाल नहीं पाता

 

 

और यह दवा के ओवरडोज की तरह काम करता है।ऐसे में अगर आपको पूरी एक टैबलेट लेनी है तो उसे तोड़कर लेने के बजाय पूरी निगलें। हां, दवा के आधे डोज के लिए तोड़ने में कोई दिक्कत नहीं है।

 

 

painkiller

 

 

 

(painkiller) को  अपनी लत न बनाएं –

कई बार लोग थकान मिटाने और दर्द से आराम के लिए पेन किलर दवाओं के इतने आदी हो जाते हैं कि दवाएं उनके रुटीन का हिस्सा हो जाती हैं।लंबे समय तक इनका इस्तेमाल किडनी, लिवर और कई मानसिक समस्याओं का कारण हो सकता है।

 

एक बार में एक से अधिक पेनकिलर (painkiller) न लें-

दर्द कितना भी तेज हो लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि आप में एक से अधिक पेन किलर लें।किसी भी पेन किलर का प्रभाव पता चलने में कम से कम 15 से 30 मिनट तो लगते ही हैं।

 

ऐसे में अगर आप बेसब्र होकर पेन किलर की ओवरडोज करेंगे तो ब्लीडिंग, किडनी फेल्योर, दिल का दौरा, ब्लड क्लॉटिंग जैसे साइड एफेक्ट ह हो सकते हैं।

 

painkiller

 

 

 

पेनकिलर (painkiller) दवाओं की हल्की डोज आपके दर्द को राहत पहुंचाने के लिए ही है, लेकिन कई बार हमारी जरा सी लापरवाही दर्द कम करने के बजाय हमारे लिए और बड़े दर्द का सबक हो सकती है।


हृदयरोगी  -मांसाहार, धूम्रपान, शराब, अत्यधिक चाय, कॉफी, फास्ट फूड, जंकफूड, सॉस, तली सब्जियां, चिप्स, डिब्बाबंद भोजन, चीज, खोया, मलाई, मक्खन तथा अंडे की जर्दी, नारियल का तेल, चॉकलेट, आइसक्रीम आदि से बचें। अपने को हृदय रोग से बचाने हेतु तनाव मुक्त प्रसन्नचित्त रहना चाहिए। शाकाहार, योग तथा प्राणायाम के जरिए निरोग रह सकते हैं।

 

 

 

 

यदि स्वस्थ जीवन जीना चाहते हो तो – जान लो सेहत से जुड़ी ये खास बाते -health tips in hindi

 

आज कल  ज़्यादातर लोग धन कमाने मे इतने व्यस्त हो गए हैं की अपनी सेहत की तरफ ध्यान ही नहीं देते।जिसके चलते मोटापा ,मधुमेह ,दिल की बीमारियाँ ,पेट की बीमारी ,जैसी नई नई छोटी बड़ी बीमारियों से घिरे जाते है .

लंबे समय तक जीवन का असली आनंद तभी ले पगोगे जब आप स्वस्थ रहोगे आपका शरीरी निरोगी रहेगा | धन तो फिर भी कमाया जा सकता है लेकिन एक बार स्वस्थ बिगड़ जाए तो बहुत मुश्किल से सुधरता है , या फिर सारी जिंदगी दवाइयों के सहारे चलना पड़ता है |इसलिए जीवन मे धन से जादा एक अच्छी सेहत का होना  जरूरी है |

 

एसी ही और भी तमाम पोस्ट पढ़ने के लिए घरेलू उपचार वाली केटेगरी मे विजिट करे |हमारे इस ब्लॉग मे घरेलू नुस्खो को लेकर तमाम पोस्ट पढ़ने के लिए घरेलू नुस्खो वाली केटेगरी मे जाए |हम अपने इस ब्लॉग पर स्वास्थ्य से संबन्धित पोस्ट डालते रहते है |

 

immunity-power-kaise-badhaye 

जरूर पढ़े – शरीर को स्वस्थ,मजबूत ,और सुंदर बनाने के लिए एक हज़ार से भी जादा हैल्थ एवं निरोगी टिप्स

जरूर पढ़े – छोटी बड़ी बीमारियों को ठीक करने के लिए दादी माँ के एक हज़ार से भी जादा असरदार घरेलू नुस्खे  

जरूर पढ़े– हल्दी वाले दूध के 11 बेहतरीन फायदे| कब ?- कैसे ?- और कितना use करना है |

turmeric

 

राममूर्ति नायडू | Rammurthy Naidu

जरूर पढ़े – बासी  रोटी खाने के ज़बरदस्त फायदे  

painkiller is danger for health पेनकिलर खाने वाले सावधान

यहां click करे- जानिए कितना खतरनाक  है चक्की से पिसा हुआ आटा ? 

multigrain-wheat-benefits

  • एलोवेरा भरपूर फाइदा उठाने के लिए इसका  सही उपयोग जान लें | कब? – कितना?  और कैसे करना करना चाहिए  एलोवेरा का उपयोग ?Aloe Vera
benefits-of-honey

Leave a Comment

Your email address will not be published.

masturebation करना सही या गलत Porn video ke nuksan | ऐसे होती है ज़िंदगी नर्क How to find good bad people in hindi get success from failure in hindi multigrain wheat benefits in hindi सम्मान कैसे कमाया जाता है | how to achieve self respect Indian fundamental rights hindi English Premier League weekend best bets Australia vs England, Women’s World Cup 2022 Final crypto tax in india