benefits of honey-शहद के फायदे, उपयोग और नुकसान

शहद के 20 फायदे, उपयोग और नुकसान – Honey (Shahad) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

 


benefits of honey-shahad ke fayde ||शहद के फायदे, उपयोग और नुकसान – आयुर्वेद मे शहद (honey) को एक अमृत के रूप मे माना गया है । इसे आयुर्वेद मे सबसे अधिक एक रामबाण औषधि (Medicine) के रूप मे जाना जाता है ।इसका उपयोग कई रूप मे किया जाता है ,पर सबसे अधिक इसका उपयोग एक औषधि  के रूप मे , सौन्दर्य साधन ऐवम सेहत को  स्वस्थ बनाए रखने के रूप मे किया  है । इसके इलावा ये कई प्रकार के व्यंजन(भोजन)  (food recopies) बनाने  के लिए भी किया जाता है । यह गाढ़े सुनहरे रंग का होता है ।यह खाने मे बहुत ही मीठा और स्वादिस्ट होता है । शहद(honey) आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह बहुत सारी बीमारियो को ठीक करने के लिए उपयोग मे लाया जाता है । नियमित रूप से शहद का सेवन करने से शरीर को स्फूर्ति, शक्ति और ऊर्जा मिलती है। शहद से शरीर स्वस्थ, सुंदर और सुडौल बनता हैं। यह मोटापा कम करने के साथ साथ कई बीमारियो को ठीक करने मे बहुत लाभकारी है शहद इतना  शुद्ध होता है की इसमे कभी कीड़े नहीं लगते . इसीलिए इसको आयुर्वेद मे अमृत बोला जाता है ।


benefits-of-honey

 

 

चलिये अब जानते है की शहद (honey)बनता कैसे है -how to make honey ?

दोस्तो शहद फूलो के रस यानी (फूलो का अर्क) से बनाई जाती है । फूलो के रस से अर्क बनाना कोई आसान कम नहीं होता | यह एक बहुत ही दुर्लभ प्रक्रिया होती है जो की सिर्फ शहद बनाने वाली विशेस प्रकार की मक्खियों द्वारा ही किया जाता है इनहि मक्खियों को मधुमक्खी (honey bee) कहा जाता है |

 

 

बहुत सारी मधुमक्खिया  मिल कर किसी ऊची जगह पर  कोने मे एक छत्ता सा बना लेती है  जिसमे वह फूलो से चूसा हुआ रस जमा करती रहती है । यह छत्ता  सभी मधुमक्खियाँ आपस मे मिल कर तैयार करती है | 

 

 

 

शहद बनने की प्रक्रिया -Honey making process
ऐसे बनाती है शहद- honey bees making honey
मधुमक्ख़ि (honey bee) फूलो की तलाश मे 10 किलोमीटर दूर तक चली जाती है। यह एक बार मे अपने अंदर 50 से
100 फूलो का रस इकठ्ठा कर सकती है। इसके पास एक एंटीना टाइप छड़ी होती है जिसकी सहायता से यह फूलो से “nectar” चूस लेती है। इनके पास दो पेट होते है एक पेट मे थोड़ा सा “nectar”इसको एनेर्जी देने के लिए इनके मेन पेट मे चला जाता है बाकी इसके दूसरे पेट मे स्टोर हो जाता है।
फिर आधे घंटे बाद यह इन रसो “nectar” का शहद बना कर मुहं के रास्ते बाहर निकालते हुए छत्ते मे भर देती है। इस प्रकार मधुमक्खी (honey bee) शहद बनती है। एक मधुमक्खी अपनी पूरी ज़िंदगी मे चमच्च के 12वे हिस्से का ही शहद बना पाती है।
शहद मे “fructose” की मात्रा अधिक होने की वजह से यह चीनी से भी 25% अधिक मीठा होता है। 28 ग्राम शहद से मधुमक्खी को इतनी ताकत मिल जाती है की वह पूरी धरती का चक्कर लगा सकती है।

 

 

दिन भर यह काम चलता रहता है | सूरज ढलने पर जैसे ही अंधेरा हो जाता है | तब मधुमक्खियों को दिखना  बंद हो जाता है | अंधेरे मे इनका एंटीना कोई प्रतिकृया नहीं देता जिस वजह से यह रात मे यानि अधेरे मे फूलो की पहचान नहीं कर पाती | अंधेरे मे फूलो की सुगंध की पहचान नहीं कर पाती |
उस समय यह अपने छत्तो मे जा कर चिपक जाती है और इंतज़ार करती है सुबह होने का | सुबह होते ही सूरज की पहली रोशनी के साथ फूलो से  रस चूसने और शहद बनाने की प्रक्रिया  फिर  आरंभ हो जाती है | इस तरह यह प्रक्रिया इनके पूरे जीवन काल तक चलतीरहती है | 

 

कैसे बनता है छत्ता ?

छत्ता ! मधुमक्खियों द्वारा एक खास प्रकार के मोमी पदार्थ की ममद से बनाया जाता है |मधुमक्ख़ि का छत्ता मोम का बना होता है जो इनके पेट की ग्रंथियो से निकलता है।

 

जैसा की नीचे image मे दिखाया गया है |

honey-benefits

 

 

मधुमक्खियाँ  अपने शरीर से खास प्रकार का मोमी  पदार्थ निकालती है |इसी मोमी पदार्थ की मदद से मधुमक्खियाँ अपना छत्ता तैयार करती है | यह छत्ता अपने आप मे इतना खास होता है की जब  मधुमक्खियाँ  छत्ते मे बने छोटे छोटे छिद्रो मे फूलो का अर्क लाकर डालती रहती है तो वह अर्क कभी भी छत्ते से नीचे नहीं  टपकता |  जैस की नीचे चित्र मे दिखाया गया है |

 

honey-benefits

 

 

छत्ते मे से निकलने वाली एक हल्की सी सुगंध छत्ते के आस पास के गंदे बेक्टीरिया को खत्म कर देती है | जिससे शहद की शुद्धता बरकरार रहती है | यही वजह है की शहद हजारी सालो टीके भी खराब नहीं होता |

 

 

एक छत्ते मे कई हज़ार मधुमक्खिया पाई जाती है जिनमे एक रानी मधुमक्खी होती है वो ही अंडे देती है । मधुमक्खियों द्वारा ताज़ा फूलो से रस निकालने का काम  24 घंटे चलते रहता है सभी मधुमक्खिया लगातार यह 

काम करती रहती है । तब जा कर एक महीने मे 700 ग्राम शहद बन पता है । शहद इतना  शुद्ध होता है की इसमे कभी कीड़े नहीं लगते . इसीलिए इसको आयुर्वेद मे अमृत बोला जाता है ।

 

 

benefits of honey-shahad ke fayde -शहद के फायदे, उपयोग और नुकसान

 

आखिर इतना काम करने की ऊर्जा इनको मिलती कहाँ से है ?
जैसा की आपने ऊपर पढ़ा की , इनके पास दो पेट होते है एक पेट मे थोड़ा सा “nectar” इसको एनेर्जी देने के लिए इनके मेन पेट मे चला जाता है बाकी इसके दूसरे पेट मे स्टोर हो जाता है। यही nectar” इनके लिए ऊर्जा स्त्रोत का काम करता है | जो इनको दिन भर काम करने की अद्भुत ऊर्जा प्रदान करती है |

 

 

यहाँ click करके जानो की कैसे बनती है रानी मधुमक्खी (Queen honey bee)?

 

90000 हज़ार मील उड़ना

 

एक किल्लो शहद बनाने के लिए पूरे छत्ते की मधुमक्ख्यों को लगभग 40 लाख फूलो रस चूसना परता है इसके लिए कुल 90000 हज़ार मील उड़ना पड़ता है। यह तय की गई कुल दूरी इतनी होती है की पूरी धरती के तीन चक्कर लगाए जा सकते है।

 

500 ग्राम शहद बनाने के लिए आने-जाने में मधुमख्खियाँ पृथ्वी के 3 चक्कर के बराबर दूरी तय करती है. शहद में पानी का अंश बहुत कम होने की वजह से इसमें बैक्टीरिया नहीं पनपने पाते. शुद्ध और असली शहद (honey) कभी खराब नहीं होता ।

 

 

चलिये अब जानते है शहद के फायदे के अनगिनत फ़ायदों के बारे मे – 

 

honey-benefits

 

शहद के फायदे – benefits of honey 

 

आयुर्वेद मे शहद (honey) को एक अमृत के रूप मे माना गया है । इसे आयुर्वेद मे सबसे अधिक एक रामबाण औषधि(Medicine) के रूप मे जाना जाता है ।इसका उपयोग कई रूप मे किया जाता है ,पर सबसे अधिक इसका उपयोग एक औषधि  के रूप मे किया जाता है । 

 

शहद (honey) अपने खास तरह के गुड़ो की वजह से , सदियो से शहद (honey) का उपयोग सौंदर्य प्रसाधनों  के रूप मे , संतुलित भोजन , पेय पदार्थ जैसे काढ़ा  के रूप मे , कई प्रकार की औसधियाँ बनाने के रूप मे या फिर कई तरह की छोटी  बड़ी बीमारियो को ठीक करने के लिए एक घरेलू उपचार के रूप मे किया जाता आरहा है |

 

 

शहद की खासियत –

 

शहद (honey) में आयरन, कैल्सियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, सोडियम और जिंक आदि खनिज तत्व पाए जाते है. शहद याददाश्त तेज करता है, कमजोर तंत्रिका तंत्र को ठीक करता है.

 

शहद (honey) में मोनोसेकेराइड, फ्रुक्‍टोज और ग्‍लूकोज एक अच्छी मात्रा मे पाया जाता है , जिस  वजह से शरीर मे ऊर्जा बनी रहती है | 

 

अपने इन्ही गुणो की वजह से जब शहद को बसी पेट गुंन  गुने पानी  मे मिलकर पिया जाता है तो यह तेजी से चर्बी को जलाने लगता है यानी शरीर मे एक्सट्रा चर्बी नहीं बनती बोडु स्लिम और फिट रहती है |

 

 

 

शहद (honey) मे एंटीओक्सीडेंट के गुण पाए जाते है जिस वजह से  शहद का नियमित सेवन करने से शरीर मे रोगाणु प्रतिरोधकल क्षमता बढ़ जाती है यानी शरीर को बीमारियो से बचा कर रखता है  | शरीर मे रोगाणु प्रतिरोधकल क्षमता से शरीर जल्दी बीमार नहीं होता | यह शरीर मे आने वाले बुरे बेक्टीरिया को अपनी एंटीओक्सीडेंट खासियत की वजह से उन बुरे बेक्टीरिया खत्म कर देता है |शहद में एंटीसेप्टिक ओर जीवाणुरोधी गुण भी होते है।

 

 

शहद(honey) को ऊर्जा का स्त्रोत माना जाता है ,शहद का नियमित सेवन खोई हुई शक्ति वापस लौटाता है. शहद शरीर को सुन्दर, स्फूर्तिवान, बलवान, दीर्घजीवी और सुडौल बनाता है.

 

शहद(honey) एक ऐसी एंटीबायोटि‍क औषधि है, जो पूर्णत: प्राकृतिक है। स्वास्थ्य से लेकर सुंदरता तक, इसके पास हर समस्या का समाधान उपलब्ध है।

 

 

 

 

शहद हजारो साल तक भी खराब नही होता यह एक मात्र ऐसा फूड है जिसके अंदर ज़िंदगी जीने के लिए सभी आवश्यक चीजे पाई जाती है।शहद में विटामिन ए, बी, सी, आयरन, कैल्शियम, सोडीयम फास्फोरस, आयोडीन पाए जाते हैं। रोजाना शहद का सेवन शरीर में शक्ति, स्फर्ति, और ताजगी पैदाकर रोगों से लड़ने की शक्ति भी बढ़ाता है|

 

 

 

 

 

 शहद का उपयोग चेहरे की सुंदरता के लिए – honey benefits for skin- benefits of honey on skin

 

honey-face-masks-for-dry-skin

 

 

शहद(honey) आंटिओक्सीडेंट होने के साथ साथ एक Moisturizer भी है ।शहद एक ऐसा Moisturizer है जो हर प्रकार की स्किन के लिए लाभकारी है ।

शहद सूखी त्वचा, खुजली और विभिन्न त्वचा रोग को दूर करता है. एलर्जी, कफ और स्किन जलने में शहद बहुत उपयोगी माना गया है.

 

शहद के फायदे, उपयोग

 

होठों पर शहद(honey) लगाने से होंठ नर्म, मुलायम होते हैं. जानिए सही तरीका –

होठों पर शहद लगाने का सबसे सही समय रात का होता है | रात को सोने से पहले होठो पर शहद लगा कर सो जाए फिर सवेरे तक आप अपने होठो मे काफी अच्छा रिजल्ट पाएंगे | सर्दियों के मौसम मे या बहुत अधिक दुस्त धूप मे रहने की वजह से होठ मे रूखापन आजाता है होठो से नमी खत्म हो जाती है तो ऐसे मे शहद को रात भर होठो मे लगा कर रखने से बहुत अच्छा  रिजल्ट देखने को मिलता है | यह आपको 7 दिन करना है सात  दिन मे आपको अच्छा रिजल्ट दिखने लगेगा |

benefits of honey on skin

 

शहद (honey) चेहरे की स्किन सॉफ्ट बनाने के लिए :

1 चम्मच शहद में आधा नींबू का रस मिलकर पेस्ट बनायें. साफ पानी से चेहरा धो-पोंछकर फिर यह पेस्ट चेहरे पर लगायें. 20 मिनट बाद सूख जाने पर गुनगुने पानी से धो लें. इसके बाद हल्के हाथों से तौलिये से चेहरा पोंछ लें. यह प्रयोग सप्ताह में 1-2 बार करें.

honey-benefits-for-skin

benefits of honey on skin

 

चेहरे पर चमक (Glow) लाने के लिए शहद(honey : benefits of honey on skin

आधा चम्मच शहद के साथ आधे टमाटर का रस मिलायें. 15 मिनट तक चेहरे पर लगाने के बाद ठंडे पानी से धोएं. इसे आप 4 दिन का अंतर देकर लगा सकते हैं.

 

  • टमाटर में नेचुरल एसिड होता है जो कि एक्‍ने और एक्‍ने स्‍कार को Astringent बन कर साफ करने में मदद करता है। इसमें अच्छी मात्रा मे  विटामिन सी और एंटीऑक्‍सीडेंट पाया जाता है जो कि स्‍किन से ऑइल साफ करने में मदद करता है तथा फेस के बड़े रोम को बंद कर देता है ताकि बाहर की धूल इन खोले हूर रोम मे जमा होकर स्किन को अंदर से खराब न कर दे | 

 

honey-benefits-for-skin

 

 

 

  • अपने इन्ही गुणो की वजह से जब टमाटर में नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर इस्तेमाल किया जाता है तो यह  त्वचा के बढ़े हुए रोम छिद्र को कम कर देता है | 20 मिंट तक इस रस को फेस पर लगाकर रखे फिर इसको फेस को पानी से धो ले |

 

टमाटर के रस को फेस पर लगाने से मुंहासे दूर हो जाते हैं और मुंहासे होने के चांसेस कम हो जाते हैं। ऑयली स्किन पर टमाटर और नींबू का रस लगाने से निखरी त्वचा मिलती है

honey-benefits-for-skin

 

  • इसके इलवा कच्चे दूध मे एक चिममच नींबू मिलकर लगाने से स्किन मे काफी गलो आता है इसका रेसाल्ट आपको सातवें दिन मे दिखेगा यानि का सैट दिन इसका अपने चेहरे पर रोज रात को या सुबह मे उपयोग करे |

 

 

शहद (honey) से चेहरे के काले दाग-धब्बे हटायें : benefits of honey on skin||

शहद को चेहरे पर लगाने का सही तरीका || 

 

ये जानने के लिए नीचे  नंबर 2 दबाए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!