Mobile radiation से कैसे बचे

ऐसे बचें रेडिएशन के बुरे प्रभाव से

 


Mobile radiation- फोन को बगैर किसी प्रोटेक्टिव केस के इस्तेमाल न करे , इससे रेडिएशन का डायरेक्ट प्रभाव काफी हद तक कम हो जाएगा। जितना संभव हो फोन को अपने शरीर से दूर रखें।
घर या ऑफिस में ज्यादातर लैंडलाइन का इस्तेमाल करें। संभव हो तो जिस समय का इस्‍तेमाल न कर रहे हों इसे स्विच ऑफ कर दें। संभव हो तो स्पीकर फोन पर ही बात करें इससे आपका फोन आपके शरीर से तो दूर रहेगा।

Mobile radiation
1. प्रोटेक्टिव केस का इस्तेमाल:
अगर आप अभी तक अपने फोन के किसी प्रोटेक्टिव केस के बिना ही इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको एक केस अब ले लेना चाहिए। आपको बाजार में बहुत से ऐसे केस मिल जायेंगे जो मोबाइल फोन से होने वाले डायरेक्ट प्रभाव को काफी हद तक कम कर देते हैं। अगर आप ऐसा करते हैं तो आप अपने आपको और अपने स्वास्थ्य को कुछ हद तक सही रख सकते हैं।
Mobile radiation
2. अपने शरीर से मोबाइल फोन को दूर रखें:-
इस बात को आपको सभी प्रकार से गाँठ बाँध लेना है कि आपको फोन को जितना हो सके अपने शरीर से दूर रखना। अपने फोन को दिल के करीब वाली जेब में कभी न रखें, इसके अलावा अगर आप इसे अपनी पेंट की जेब में रखते हैं, तो यह भी आपके लिए सही नहीं है। ऐसा करने से आप मोबाइल फोन से होने वाले रेडिएशन से ज्यादा प्रभावित हो सकते हैं।
3. घर या ऑफिस में ज्यादातर लैंडलाइन का इस्तेमाल करें:-
अगर आप घर में या ऑफिस में हैं तो अपने मोबाइल फोन के स्थान पर लैंडलाइन का इस्तेमाल करें, इससे आप इसकी हानिकारक किरणों की चपेट में आने से बच सकते हैं।
Mobile radiation
4. ऑफ करके रखें अपना फोन:-
अगर हो सके और जिस समय आप अपने मोबाइल फोन को इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं तो इसे स्विच ऑफ करके रखे। खासकर रात में जब आप मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं करते हैं तो उस समय आप इसे बंद करके भी सो सकते हैं।
Mobile radiation
5. स्पीकर फोन पर करें बात:-
अगर आप मोबाइल फोन की डायरेक्ट किरणों से अपने आप को बचाना चाहते हैं तो आपको बता दें कि आप इसके माध्यम से स्पीकर फोन पर बातें कर सकते हैं। हालाँकि आपको ऐसा लग सकता है कि कोई दूसरा भी आपकी बातों को सुन रहा है, लेकिन आपका फोन आपके शरीर से तो दूर रहेगा।
6. एयर प्लान मोड पर रखे:-
कई बार ऐसा होता है कि जब आपको कोई कॉल नहीं उठानी होती है तो ऐसे में आप फोन को ऐरोप्लेन मोड में रख लेते हैं। ऐसा करने से हम मोबाइल रेडिएशन से बच सकते हैं।
Mobile radiation
7. सीधे इस्तेमाल न करे :-
लंबी बातचीत के लिए कभी भी हैंडसेट का इस्तेमाल सीधे ना करें। आप इयरफोन का इस्तेमाल कर सकती हैं। इसके अलावा आप ब्लूटूथ डिवाइस का इस्तेमाल भी कर सकती हैं। यह सुविधाजनक भी होते हैं। इनका इस्तेमाल करने से रेडिएशन का खतरा कम हो जाता है।
8. कमजोर नेटवर्क मे न उपयोग करे :-
कभी भी उस समय मोबाइल फोन से बात ना करें जब नेटवर्क काफी कमजोर हो। इस दौरान आपके मोबाइल से काफी रेडिएशन निकलती है।
Mobile radiation
9. लंबी बात चीत न करे :-
फोन पर लंबी बातचीत करने से बचें। अगर आपको किसी से लंबी बातचीत करनी भी हो तो लैंडलाइन का इस्तेमाल करें या फिर आप उनसे मिल लें।
10. ज़ेब मे रख न चले:-
अपने जेब के बजाय मोबाइल फोन को अपने हैंडबैग में रखकर चलें, क्योंकि यह आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है।सीन की तरफ कभी भी मोबाइल को न रखे। सिर की तरफ कभी भी मोबाइल को रख कर न सोए। मैसेज करने से बेहतर है कि आप फोन पर बात कर लें। ऐसा करने से रेडिएशन थोड़े कम होते हैं।
11. रात को ऐसा न करे :-
रात को सोते समय कभी भी अपने फोन को अपने पास ना रखें। इसे अपने से दूर ही रखने में समझदारी है। इसके अलावा सुबह के समय अलार्म के लिए अलार्म घड़ी का इस्तेमाल करें। मोबाइल पर अलार्म रखना बेवकूफी के अलावा और कुछ नहीं है।
Mobile radiation
12. कम रेडिएशन वाला फ़ोन ख़रीदिए:-
मोबाइल फ़ोन से हमारे शरीर पर पड़ने वाले बुरे प्रभावों को देखते हुए भारत सरकार ने तय किया भारत में बिकने वाले मोबाइल फ़ोंस का स्पेसिफ़िक एब्ज़ोर्प्शन रेट (Specific Absorption Rate; SAR) 1.6 वाट/किग्रा से कम होगा। इसलिए यह आवश्यक है कि आपके कम से कम स्पेसिफ़िक एब्ज़ोर्प्शन रेट वाला मोबाइल फ़ोन ही प्रयोग करें।
13. अनावश्यक मोबाइल पास न रखें:-
मोबाइल इस तरह जीवन में शामिल हो चुका है कि हम सदा उसे अपने क़रीब ही रखते हैं। उसे हमेशा अपने हाथों और जेब में रखते हैं। यदि आप अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत हैं तो इसे ज़रूरत न होने पर स्वयं से दूर रखें। जिससे इससे निकलने वाले हानिकारक विकिरण से आप बच सकें।
Mobile radiation
14. ईयरफ़ोन का प्रयोग करें:-
ईयरफोन सिर्फ़ गाने सुनने के लिए नहीं है आप इससे फ़ोन पर बात भी करें क्योंकि जब आप ईयरफ़ोन का प्रयोग करते हैं तो फ़ोन आपके सिर और कान से दूर रहता है जिससे काफी हद तक आप रेडिएशन से बचे रहते हैं। लम्बी बातचीत के लिए ईयरफोन का प्रयोग करना स्वास्थ्य की दृष्टि से सर्वोत्तम है।
15. बेहतर मोबाइल नेटवर्क की सेवाएँ लीजिए:-
जब आप बेहतर मोबाइल नेववर्क सेवा प्रदाता की सेवाएँ लेते हैं तो आपके फ़ोन में हमेशा नेटवर्क फुल रहता है। शोधों से साबित हुआ है कि कमज़ोर मोबाइल नेटवर्क यानि कमज़ोर मोबाइल सिग्नल से मोबाइल रेडिएशन अधिक होता है। इसलिए कोशिश करें कि जब आप फुल कवरेज क्षेत्र में हों तभी लम्बी बात करें।
16. मोबाइल को सही तरीक़े से साथ रखें:-
मोबाइल को शर्ट और पैंट की जेब में कम से कम रखें क्योंकि शर्ट की जेब में रखने से दिल की बीमारी और पैंट की जेब में रखने से नपुंसकता का ख़तरा रहता है। मोबाइल को तकिए के नीचे रखकर कभी नहीं सोना चाहिए इससे आपकी याददाश्त पर बहुत गम्भीत प्रभाव पड़ता है। इसलिए फोन के लिए एंटीरेडिएशन वाले फोन कवर प्रयोग करें और फ़ोन को आवश्यकता न होने पर ख़ुद से उचित दूरी पर रखें।
17. मोबाइल मे लम्बी बात कम से कम करें:-
आपने भी अनुभव किया होगा कि जब आप आप फ़ोन पर लम्बी बात करते हैं तो आपको दिमागी थकावट महसूस होने लगती क्योंकि बीस मिनट फोन को कान से चिपकाकर बात करने से मस्तिष्क का तापमान दो डिग्री सेल्सियस बढ़ जाता है। ऐसा नियमित होने से आपको ब्रेन ट्यूमर हो सकता है। इसलिए फोन पर कम से कम शब्दों में बात को करने की कला सीखिए क्योंकि आपका स्वास्थ्य सबसे पहले है।
18. फ़ोन को बंद कर दीजिए या फ़्लाइट मोड में डाल दीजिए:-
आज सभी स्मार्टफ़ोंस में फ़्लाइट मोड की सुविधा होती है इससे फ़ोन नेटवर्क से कट जाता है और रेडिएशन की सम्भावना न्यूनतम हो जाती है। यदि आपके फोन में ऐसा विकल्प नहीं है तो आप फोन को बंद करके अपने पास रख सकते हैं। यात्रा के दौरान ऐसा करना सबसे अच्छा माना जाता है।
19. टहल-टहलकर बात न करें:-
बहुत से लोग सोचते हैं कि जब वे मोबाइल पर बात करें तो साथ में टहल भी लें। लेकिन ऐसा करना स्वास्थ्य की दृष्टि से हानिकारक है क्योंकि यदि आप कम नेटवर्क वाले क्षेत्र में होंगे तो फ़ोन बार-बार अधिक नेटवर्क सिग्नल के लिए स्कैन करेगा और मोबाइल से होने वाला रेडिएशन कई गुना बढ़ जाएगा। इसलिए किसी एक जगह बैठकर या खड़े होकर बात करें।
20. कई साल पुराने फ़ोंस का प्रयोग करना छोड़ दें:-
यदि आप 3 साल या उससे अधिक पुरानी टेक्नोलॉजी वाला कोई फोन प्रयोग कर रहे हैं तो उसे तुरंत बदल दीजिए और एक स्मार्टफ़ोन ख़रीदिए जिसका स्पेसिफ़िक एब्ज़ोर्प्शन रेट (Specific Absorption Rate; SAR) 1.6 वाट/किग्रा से कम हो। साथ ही घर में बच्चों को मोबाइल का प्रयोग कम से कम करने दें।

दोस्तों यह पोस्ट आपको  कैसी लगी,नीचे  कमेंट करके ज़रूर बताना

यदि आपको लगता है कि इस पोस्ट मे कुझ और कंटेंट भी ऐड (add)हो सकता है तो  plz आप उसे भी बताना मे इसमें वो ज़रूर add करूँगा

दोस्तों यदि आपके पास भी कोई रोचक या मोटिवेशनल  स्टोरी है, या फिर कोई भी ऐसी जानकारी जो आप लोगो तक पहुंचना चाहते हो,तो आप वो  content मुझे मेल कर सकते हो. आपके उस article को आपके ही नाम से मे अपनी इस website pr पोस्ट करूंगाइसके साथ अपनी फोटो भी देना ताकि उसे अपनी वैबसाइट पर  दिखा सकू

 

My mail 👉 mikymorya123@gmail.com

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!