प्रधानमंत्री आवास योजना पूरी जानकारी

 प्रधानमंत्री आवास योजना पूरी जानकारी

प्रधानमंत्री आवास योजना- खुश खबरी दोस्तों अगर आपके पास अपना खुद का घर नहीं है और आप अपना घर लेने की योजना बना रहे हैं तो प्रधानमंत्री आवास योजना आपके लिए एक बेहतर विकल्प है।
जी हा दोस्तों,
हर किसी का सपना होता है कि उसका भी अपना एक खुद का घर हो एक पक्का मकान हो..
लेकिन बढ़ती हुई महंगाई, पैसे कि तंगी, आर्थिक तंगी, गरीबी और बेरोज़गारी जैसे कई कारणों कि वजह से उसका ये सपना सिर्फ सपनाही बन कर रह जाता है.
प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री आवास योजना
लेकिन अब और निराश होने कि ज़रूरत नही. ऐसे ही लोगो के लिए एक बहुत बड़ी खुशखबरी है|
जी हा दोस्तों अब हर किसी का होगा ये सपना साकार क्यों कि सरकार एक योजना ले कर आई है जिसका नाम है *प्रधानमंत्रीआवास योजना*
1.आखिर क्या है यह आवास योजना?
2.कौन कौन इस योजना का लाभ उठा सकता है?
3.कौन कौन इस योजना के लिए आवेदन कर सकता है?
4.इस योजना के आवेदन करने कि क्या शर्ते है?
5. इस योजना के तहत कहा से और कितना लोन मिल रहा है?
6.लोन कि राशि पर कितनी सब्सिडी दी जा रही है?
7.कितने आयवर्ग के लोगो को कितना लोन मिलेगा?
इन सभी सवालों के जवाब इस article मे बड़े विस्तार से बताया गया है|
क्या है यह योजना? – प्रधानमंत्री आवास योजना
इस योजना का नाम है प्रधानमंत्री आवास योजना.इस योजना कि घोषणा 25 जून 2015 को सुबह नरेंद्र मोदी जी ने कि थी.यह योजना सभी 29 राज्य और 7 केंद्र शासित प्रदेशों के सभी 4,041 शहरों और कस्बों में पूरी की जाएगी|
इस योजना के अंतर्गत दो करोड़ से ज्यादा मकानों का निर्माण किया जा रहा है| पूरा निर्माण 2015 से 2022 यानी इन 7 सालों के भीतर होगा| यानी 2015 से 2022 तक इन 7 सालो के भीतर उस हर आदमी का अपना खुद का घर होगा जो कभी खुद के घर होने का सपना देखा करता था. यह योजना ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों के लिए अलग अलग है.
ग्रामीण के लिए [प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण]
इन दो नमो से इस योजना कि शुरुआत कि गई है.
हर वर्ग के लिए –
पहले जहा इस योजना का लाभ गरीब वर्ग के लिए था वही अब इस योजना मे लोन कि रकम बढ़ाकर शहरी गरीब और मध्यम वर्ग के लोगो को भी इस योजना के दायरे मे लाया गया है.
लोन की बढ़ी सीमा – प्रधानमंत्री आवास योजना
पहले लोन कि रकम 3 से 6 लाख रूपए थी जिसे बढा कर अब 18 लाख रूपए कर दिया गया है. प्रधान मंत्री आवास योजना मे हाल ही मे किये गए इस  बदलाव के बाद सस्ते घरों कि योजना बिल्डर भी बढ़ावादेने मे जुट गए है और इस से सरकार कि व्याजसब्सिडी का फायदा उठाने वाले लोग भी उत्साहित हो रहे है.
प्रधानमंत्री आवास योजना का उद्देश्य
इस योजना का मुख्य दृश्य जरूरतमंद परिवारों कीआवासीय आवश्यकताओको पूरा करना है| इस योजना के तहत शहरों में मकान बनाने की कवायत कर रहे लोगों को बड़ी राहत देते हुए 9 लाख के घर पर देने वाले ब्याज पर 4% की छूट और 12 लाख तक के होम लोन पर 3% की छूट दी गई है|
प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ग्रामीण इलाकों में बनाए जाने वाले घरों के लक्ष्य में 33% का इजाफा कर दिया गया है यानी ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले 33% ज्यादा लोगों को इस आवास योजना में शामिल किया जा सकेगा प्रधानमंत्री ने होम लोन पर लिए जा रहे ब्याज दरों को घटाने की घोषणा की है इसका लाभ सभी वर्गों को मिलेगा|
प्रधानमंत्री आवास योजना
इसके अलावा जो लोग ग्रामीण इलाकों में अपना मकान बनाने के लिए निर्माण करना चाहते हैं या फिर मरम्मत करवाना चाहते हैं उनको इस योजना के तहत दो लाख रुपए तक के लोन पर दिए जाने वाले ब्याज में 3% की छूट दी जाएगी|
प्रधानमंत्री आवास योजना
क्या है प्रधानमंत्री आवास योजना के तीन चरण ?
पहला चरण-पहले चरण में देश के 100 शहरों में आवास योजना के तहत सस्ती दरों पर मकान बनाए जाएंगे यह पहला चरण अप्रैल 2015से शुरू किया जा चुका है और इसका पूरा करने के लिए मार्च 2017 तक का समय निर्धारित किया गया है|
दूसरा चरण-पहले चरण के संपन्न होने के बाद दूसरे चरण को प्रणाम 200शहरों को जोड़ा गया है दूसरे चरण में किफायती मकान बनाने के लिए 200 शहरों को जोड़ा गया है इस चरण को मार्च 2019 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है|
तीसरा चरण-तीसरे चरण को अप्रैल 2019 में शुरू किया जाएगा और मार्च 2022 तक पूरा होगा इस चरण में शेष बचे शहरों को शामिल किया जाएगा|
आयवर्ग क्या है (income category)
अगर आप पीएम आवास योजना के अंतरगत घर लेना चाहते हैं तो सबसे पहले ये देखें कि आप किस आयवर्ग में आते हैं। अगर आप 3 से 6 लाख रुपए तक के आयवर्ग में आते हैं
तो आपको ब्याज पर ज्यादा सब्सिडी मिलेगी, वहीं 6 से 12 लाख रुपए और 12 से 18 लाख रुपए सालाना आय वर्ग के लोगों का सब्सिडी कम होगी। 1 जनवरी 2017 से इस योजना के लाभ का दायरा बढ़ा दिया गया है।
मिडिल क्लास के लिए दो श्रेणी
प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ उठाने के लिए मध्यम वर्ग (MIG) के लिए दो श्रेणी बनाई गई है। इसमें 6 लाख रुपएसे लेकर 12 लाख रुपए तक की पहली कटेगरी है जबकि दूसरी कटेगरी 12 लाख रुपए से 18 लाख रुपए की है। 
6 से 18 लाख सालाना आय वर्ग के लोग कैसे प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं और क्या है इस योजना की शर्तें।
पहली शर्त
पीएम आवास योजना का उद्देश्य है कि सभी को पक्का मकान मिले। हां इस योजना की कुछ शर्तें जरूर हैं जिन्हें जानना आपके लिए बेहद जरूरी है।
सबसे पहले तो ऐसे लोग जिनके पास इस पहले से घर है वह इस योजना का लाभ नहीं उठा सकता है। प्रधानमंत्री आवास योजना का नियम है कि लाभ उसे ही मिलेगा जिसके पास पहले से कोई पक्का मकान नहीं होगा|
प्रधानमंत्री आवास योजना
दूसरी शर्त
इस योजना की दूसरी शर्त है कि परिवार के किसी सदस्य को भारत सरकार की किसी योजना के तहत आवास योजना का लाभ ना मिला हो।
यदि परिवार में किसी सदस्य को सरकारी योजना के तहत आवास का लाभ मिला है उसके किसी अन्य सदस्य को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं मिल सकता है।
तीसरी शर्त
इस योजना के लिए आवेदन के वक्त अविभाजित परिवार के सभी सदस्यों का आधार कार्ड का नंबर देना जरूरी है। इसमें पति-पत्नी, और अविवाहित बेटे और बेटी शामिल हैं। शादी के बाद बेटा या बेटी इस योजना के लिए अलग से आवेदन कर सकते हैं।
जरुरी निर्देश
पक्के घर का लाभ उठाने वाले माता-पिता के विवाहित बेटे-बेटियां तो वैसे भी अलग परिवार माने जाते हैं। हालांकि, पति-पत्नी दोनों PMAY का लाभ नहीं ले सकते।
यानी, बेटे-बहू या बेटी-दामाद के नाम पर हर हाल में एक ही मकान पर सब्सिडी मिल सकती है। यह उनकी मर्जी होगी कि मकान का मालिकाना हक कोई एक अपने पास रखें या दोनों साथ-साथ। आगे पढ़ें कितनी ब्याज पर कितनी सब्सिडी देगी सरकार।
प्रधानमंत्री आवास योजना
6 लाख सालाना आय वर्ग के लोगों के लिए
वहीं 6 लाख रुपए की वार्षिक आय वालों को 6 लाख रुपए तक का होम लोन मिल सकता है और ब्याज दर पर सरकार की तरफ से 6.5 फीसदी की सब्सिडी मिलती है। जिससे मासिक EMI में 2,219 रुपए की बचत होती है, ये बचत 20 वर्ष की अवधि में 2 लाख 46 हजार 625 रुपए तक होती है।
प्रधानमंत्री आवास योजना
12 लाख प्रति वर्ष आय वर्ग के लोगों के लिए
इसी तरह 12 लाख प्रतिवर्ष की आय वाले लोगों को 9 लाख रुपए तक लोन मिलेगा जिसमें ब्याज दर पर 4 फीसदी की सब्सिडी मिलेगी इसमें मासिक ईएमआई पर 2,158 रुपए की बचत होगी जो कि 20 वर्ष की अवधि में 2 लाख 39 हजार 843 रुपए तक होगी।
12 से 18 प्रति वर्ष लाख आयवर्ग वालो के लिए
यदि आपकी सालाना आय 12 से 18 लाख रुपए के बीच है तो आपको 12 लाख रुपए तक के लोन पर ब्याज दरों में 3 फीसदी की छूट मिलेगी। ये 110 स्क्वायर मीटर में हो रहे घर के निर्माण को लेकर दिए गए लोन पर निर्भर करेगा।
12 लाख रुपए पर 3 फीसदी की सब्सिडी को 20 साल में चुकाना होगा जिसके ब्याज पर मिली कुल छूट 2.30 लाख रुपए होगी। इस तरह से देखा जाए तो सरकार आपके लोन के लिए 2.30 लाख रुपए देगी जो कि आज के वक्त में बड़ी बचत है।
समझें ब्याज पर सब्सिडी का पूरा गणित
इसे ऐसे समझें मान लीजिए आपकी वार्षिक आय 18 लाख रुपए है तो आपको 12 लाख रुपए तक लोन मिलेगा जिस लोन पर सरकार आपको ब्याज दर पर 3 फीसदी की सब्सिडि देगी। इससे प्रतिमाह आपको 2,200 रुपए की बचत होगी जिसका 20 वर्ष में कुल 2 लाख 44 हजार 468 रुपए लाभ मिलेगा।
I. मान लेते हैं कि किसी व्यक्ति की आमदनी छह लाख रुपये है. 
(लोन की अधिकतम रकम छह लाख रुपये: सब्सिडी: 6.5 फीसदी)
लोन की वास्तविक राशि: 6 लाख रुपये
ब्याज दर : 9 फीसदी
मासिक क़िस्त: 5,398 रुपये
20 सालों में कुल ब्याज: 6.95 लाख रुपये
6.5 फीसदी सब्सिडी के हिसाब से आपका ब्याज सब्सिडी के बाद एनपीवी 2,67,000 रुपये हो जायेगा.
यही ब्याज सब्सिडी सरकार PMAY में लोगों को उपलब्ध करा रही है. इस हिसाब से आपका लोन वास्तव में छह लाख रुपये की जगह 3,33,000 रुपये हो जाता है. 
यह ध्यान रखें कि कर्ज लेने वाले ने नौ फीसदी सालाना के हिसाब से लोन लिया है. यह इसलिए घट जाता है क्योंकि ब्याज सब्सिडी की राशि कर्ज लेने वाले के एकाउंट में पहले ही डाल दी जाती है. 
इसका असर घटी हुई मासिक क़िस्त और ब्याज के कम बोझ के रूप में सामने आती है. 
लोन की संशोधित रकम : 3.33 लाख रुपये 
ब्याज दर : 9 फीसदी
मासिक क़िस्त: 2,996 रुपये
20 सालों में चुकाया गया कुल ब्याज: 3.86 लाख रुपये
मासिक क़िस्त में बचत : 2,402 रुपये
ब्याज में कुल बचत: 3, 08,939 रुपये।
II. मान लेते हैं कि किसी व्यक्ति की आमदनी 12 लाख रुपये है. 
(लोन की अधिकतम रकम नौ लाख रुपये: सब्सिडी: 4 फीसदी)
लोन की वास्तविक राशि: 9 लाख रुपये
ब्याज दर : 9 फीसदी
मासिक क़िस्त: 8,098 रुपये
20 सालों में कुल ब्याज: 10.43 लाख रुपये
4 फीसदी सब्सिडी के हिसाब से आपका ब्याज सब्सिडी के बाद एनपीवी 2,35,000 रुपये हो जायेगा.
लोन की संशोधित रकम : 6.65 लाख रुपये
ब्याज दर : 9 फीसदी
मासिक क़िस्त: 5,983 रुपये
20 सालों में चुकाया गया कुल ब्याज: 7.70 लाख रुपये
मासिक क़िस्त में बचत : 2,114 रुपये
ब्याज में कुल बचत: 2,72,445 रुपये
III. मान लेते हैं कि किसी व्यक्ति की आमदनी 18 लाख रुपये है.
(PMAY लोन की अधिकतम रकम 12 लाख रुपये: सब्सिडी: 3 फीसदी) 
लोन की वास्तविक राशि: 12 लाख रुपये
ब्याज दर : 9 फीसदी 
मासिक क़िस्त: 10,796 रुपये 
20 सालों में कुल ब्याज: 13.91 लाख रुपये 
3 फीसदी सब्सिडी के हिसाब से आपका ब्याज सब्सिडी के बाद एनपीवी 2,30,000 रुपये हो जायेगा.
लोन की संशोधित रकम : 9.7 लाख रुपये
ब्याज दर : 9 फीसदी 
मासिक क़िस्त: 8,727 रुपये 
20 सालों में चुकाया गया कुल ब्याज: 11.24 लाख रुपये 
मासिक क़िस्त में बचत : 2,069 रुपये 
ब्याज में कुल बचत: 2,66,649 रुपये
लोन के लिए कुल संस्थान  – प्रधानमंत्री आवास योजना
कुल 70 संस्थान शामिल है कर्ज देने के लिए| कर्ज देने वाली 70 संस्थाओं ने इस स्कीम को लागू करने के लिए बुधवार को नैशनल हाउसिंग बोर्ड (NHB) के साथ समझौता पत्र पर दस्तखत किया।
  प्रधानमंत्री आवास योजना
 इनमें 45 हाउजिंग फाइनैंस कंपनियां, 15 बैंक, 2 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, 1 कोऑपरेटिव बैंक, 4 छोटे फाइनैंस बैंक और 3 नॉन-बैंकिंग फाइनैंस कंपनियां-माइक्रो फाइनैंस इंस्टिट्यूशन शामिल हैं।
NHB के एमडी और सीईओ “श्रीराम कल्याणरमन” ने बताया कि वित्त वर्ष 20115-16 के दौरान 10 लाख रुपये तक के कुल 28.9 लाख यूनिट्स की नई बुकिंग में सरकारी बैंकों और हाउजिंग फाइनैंस बैंकों ने 9.5 लाख करोड़ रुपये का लोन दे चुकी है। यह रकम कुल बुकिंग का 64% है।
5 साल और बढ़ी सीमा
अगर आपकी सालाना आय 18 लाख रुपए है तो आपको पीएम आवास योजना पर 20 साल के होम लोन पर 2.4 लाख रुपए का लाभ मिल सकता है, बशर्ते आप पहली बार घर खरीदने जा रहे हों।
पहले लोन चुकाने की सीमा 15 वर्ष थी जिसे बढ़ाकर अब 20 साल कर दिया गया है। सरकार अब आपके ब्याज पर सब्सिडी देगी जिससे मिलने वाली छूट का लाभ बढ़ जाएगा। इसके लिए सरकार ने रियल स्टेट मार्केट को चुना है।
  प्रधानमंत्री आवास योजना

 

घर की मरम्मत कराने के लिए भी मिलेगा लाभ
आप किसी बिल्डर से घर खरीद रहे हैं या कोई पुराना मकान खरीद रहे हैं तो आपPMAYका लाभ उठा सकते हैं। जो लोग घर खरीदने की बजाय इसे खुद बनवा रहे हैं, उन्हें भी इस योजना का लाभ मिलेगा। जिनके पास अभी पक्का मकान है,
वो इसकी मरम्मत करने या इसमें कुछ और कमरे जुड़वाने या किसी दूसरे तरह से इसका विस्तार करने के लिए भी लोन ले सकते हैं। बैंक आपको मौजूदा पक्का मकान में किचन, कमरा आदि बनाने के लिए योजना के तहत लोन देने से यह कहकर इनकार नहीं कर सकता कि आपके पास पहले से ही पक्का मकान है।
  प्रधानमंत्री आवास योजना
कार्पेट एरिया कितना होगा?
हर कैटिगरी के लाभार्थी के अनुसार घर का क्षेत्रफल भी तय है। हालांकि, इसके तहत उसी एरिया को मापा जाता है जो दीवारों से घिरा हो जिसे कार्पेट एरिया कहा जाता है। इसमें दीवार की मोटाई का माप शामिल नहीं होता।
आसान शब्दों में कहें तो जिस भाग पर आप दरी बिछा सकते हैं, वही घर का कार्पेट एरिया कहलाएगा। मिडल इनकम ग्रुप (MIG)के लोगों के लिए कार्पेट एरिया 90 वर्ग मीटर यानी 968.752 वर्ग फीट है जबकि MIG II कैटिगरी के लिए यह 110 वर्ग मीटर यानी 1184.03 वर्ग फीट है।
  प्रधानमंत्री आवास योजना
खत्म हो सकती है कार्पेट एरिया की सीमा
एरिया तय किए जाने से शहरी क्षेत्र में लोग इस योजना के प्रति बहुत दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि सरकार कार्पेट एरिया की सीमा खत्म कर देगी।
कहां से ले सकते हैं लोन
आप कमर्शल बैंकों, हाउजिंग फाइनैंस कंपनियों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों, राज्य सहकारी बैंकों, शहरी सहकारी बैंकों, छोटे वित्तीय बैंकों, गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों आदि से लोन लेकर ब्याज पर उचित सब्सिडी पा सकते हैं।
आपको किसी तरह का प्रोसेसिंग चार्ज भी नहीं देना होगा। हां, आप योजना के तहत जितना लोन लेने के योग्य हैं, उससे ज्यादा लोन ले रहे हैं तो अतिरिक्त रकम पर आपको नॉर्मल प्रोसेसिंग फी देनी पड़ सकती है
  प्रधानमंत्री आवास योजना

यहां click  करे  👉 *किसी को भी हो सकता है हार्ट अटैक*

https://www.gyandarshan.online/2019/01/heart-attack.html

 

दोस्तों यह पोस्ट आपको  कैसी लगी,नीचे  कमेंट करके ज़रूर बताना

यदि आपको लगता है कि इस पोस्ट मे कुझ और कंटेंट भी ऐड (add)हो सकता है तो plz आप उसे भी बताना मे इसमें वो ज़रूर add करूँगा

दोस्तों यदि आपके पास भी कोई रोचक या मोटिवेशनल  स्टोरी है, या फिर कोई भी ऐसी जानकारी जो आप लोगो तक पहुंचना चाहते हो,तो आप वो  content मुझे मेल कर सकते हो. आपके उस article को आपके ही नाम से मे अपनी इस website pr पोस्ट करूंगाइसके साथ अपनी फोटो भी देना ताकि उसे अपनी वैबसाइट पर  दिखा सकू

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!