online FIR |अगर पुलिस FIR लिखने से मना कर दे तो ! करें ये

अगर पुलिस FIR लिखने से मना कर दे तो करें ये काम, तुरंत दर्ज होगी FIR और होगी कार्यवाही !

 online FIRएफआईआर (FIR) का मतलब होता है First Information Report. कोई भी क्रिमिनल ऑफेंस होने पर पुलिस में जाकर FIR लिखवाना पड़ता है. FIR लिखवाने के बाद ही पुलिस आगे की कारवाई करती है और शिकायत मिलने पर ही FIR लिखा जाता है. पीड़ित व्यक्ति पुलिस स्टेशन जाकर FIR लिखवाता है जिसके बाद पुलिस आरोपियों पर उचित कारवाई करती है.
 online FIR
FIR एक प्रकार का लिखित दस्तावेज होता है जिसे शिकायत मिलने पर पुलिस तैयार करती है. लेकिन कई बार ऐसे मामले सामने आते हैं जब पुलिस FIR लिखने से मना कर देती है. पुलिस बड़े लोगों की FIR तो बिना किसी दिक्कत लिख लेती है लेकिन गरीब लोगों कीFIR लिखने में पुलिस कई बार आनाकानी करती है.
 online FIR
गरीब लोग पुलिस को अपना मसीहा समझते हैं लेकिन आप ही बताइए जब पुलिस ही उनके साथ ज्यादती करने लगे तब क्या करना चाहिए. ऐसे हालात आने पर लोग निराश हो जाते हैं और फिर पुलिस पर से उनका विश्वास उठ जाता है.
लेकिन अब निराश होने की जरूरत नहीं है. FIR कोई भी व्यक्ति लिखवा सकता है. आज हम आपको बताएंगे कि पुलिस द्वारा FIR न लिखने पर आपको क्या करना चाहिए.
FIR कब लिखवाई जाती है?
बता दें कि कोग्निजेबल ऑफेंस होने पर ही FIR रजिस्टर करवाई जाती है. कोग्निजेबल ऑफेंस का मतलब एक ऐसा ऑफेंस जिसमें पुलिस को अरेस्ट करने के लिए वारेंट की जरूरत नहीं होती. इस स्थिति में पुलिस आरोपी व्यक्ति को गिरफ्तार करके उससे पूछताछ कर सकती है.
 online FIR
पुलिस के पास अधिकार होता है कि वह आरोपी व्यक्ति को गिरफ्तार कर सके. वहीं, यदि ऑफेंस नॉन कोग्निजेबल है तो इस स्थिति में FIR दर्ज नहीं किया जाता. कोर्ट के दखल के बाद ही इस तरह के FIR दर्ज किये जा सकते हैं. कोर्ट के आर्डर के बिना पुलिस एक्शन नहीं ले सकती.
कैसे लिखवायें FIR
किसी भी विक्टिम के पास हक है कि वह सीधे पुलिस स्टेशन में जाकर मौखिक या लिखित रूप से FIR दर्ज करवा सकता है.विक्टिम PCR कॉल के जरिये भी FIR रजिस्टर करवा सकता है.
ऑफेंस की जानकारी मिलने पर ड्यूटी ऑफिसर एएसआई को मौके पर भेजते हैं. एएसआई मौके पर पहुंचकर विक्टिम का स्टेटमेंट लेता है और उसे रिकॉर्ड करता है. इस शॉर्ट रिपोर्ट के बेसिस पर पुलिस FIR दर्ज कर सकती है. लेकिन केवल जघन्य अपराधियों के लिए ही यह प्रक्रिया फॉलो की जाती है.
 online FIR
 online FIR
पुलिस FIRन लिखे तो क्या करें
पुलिस द्वारा FIR न लिखने पर आप शिकायत ऑनलाइन भी लिखवा सकते हैं. इसके लिए आपको संबंधित एरिया की पुलिस वेबसाइट पर जाकर प्रॉसेस फॉलो करना होगा.दिल्ली में e-FIR एप की मदद से भी FIR दर्ज किया जा सकता है.
कोग्निजेबल ऑफेंस के लिए पुलिस द्वारा FIR न लिखने पर आप इसकी शिकायत सीनियर अफसर से भी कर सकते हैं.इसके बाद भी FIR रजिस्टर न हो तो पीड़ित CRPC के सेक्शन 156 (3) के तहत मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के पास शिकायत कर सकते हैं.
मजिस्ट्रेट के कहने पर पुलिस को FIR लिखना ही होगा और न लिखने पर सुप्रीम कोर्ट उनके खिलाफ एक्शन ले सकती है.सुप्रीम कोर्ट के आर्डर के अनुसार FIR लिखवाने के एक हफ्ते के अंदर फर्स्ट इन्वेस्टीगेशन कम्पलीट हो जाना चाहिए.
 online FIR

Online FIR

 

online FIR

दोस्तों यह पोस्ट आपको  कैसी लगी,नीचे  कमेंट करके ज़रूर बताना

यदि आपको लगता है कि इस पोस्ट मे कुझ और कंटेंट भी ऐड (add)हो सकता है तो  plz आप उसे भी बताना मे इसमें वो ज़रूर add करूँगा

दोस्तों यदि आपके पास भी कोई रोचक या मोटिवेशनल  स्टोरी है, या फिर कोई भी ऐसी जानकारी जो आप लोगो तक पहुंचना चाहते हो,तो आप वो  content मुझे मेल कर सकते हो. आपके उस article को आपके ही नाम से मे अपनी इस website pr पोस्ट करूंगाइसके साथ अपनी फोटो भी देना ताकि उसे अपनी वैबसाइट पर  दिखा सकू

 

My mail 👉 mikymorya123@gmail.com

My mail 👉 mikymorya123@gmail.com

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!