Best Raksha bandhan nibandh | रक्षाबंधन खूबसूरत निबंध

अक्सर स्कूलों मे बच्चो को Raksha bandhan nibandh लिखने को कहा जाता है. तो इस बात को ध्यान मे रखते हुए  हम आपके लिए रक्षाबंधन पर  best Raksha bandhan nibandh लाए है.

नमस्कार दोस्तों मै सुमित मौर्या, मेरी तरफ से आप सभी को रक्षाबंधन की शुभ मंगल कामनाऐ.

रक्षाबंधन का अर्थ

रक्षाबंधन दो शब्दों से मिल कर बना है – रक्षा और बंधन.

Advertisement

रक्षा यानी जान की रक्षा करने वाला बंधन का अर्थ कोई धागा.

राखी के त्यौहार को रक्षा बंधन इसलिए भी कहा जाता है. क्योंकि इस दिन ज़ब बहन अपनी भाई की कलाई पर रेशम का धागा बांधती है तो भाई अपनी बहन की रक्षा का वचन देता है. हर मुसीबत मे अपनी बहन की सहायता करने की जिम्मेदारी ले लेता है.

 

Raksha bandhan – रक्षाबंधन पर निबंध | Raksha Bandhan Hindi Essay 

रक्षाबंधन Raksha bandhan हिन्दुओं का प्रमुख पर्व है। यह पर्व हर वर्ष, साल के अगस्त महीने मे मनाया जाता है. पूरे भारत मे यह त्यौहार खूब हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है.

रक्षाबंधन को राखी का त्यौहार भी बोला जाता है.

राखी से कुछ दिन पहले ही बाजार की चमक पहले से दोगुनी हो जाती है. बाजार तरह तरह की सुंदर और खूबसूरत रखियों (भाई की कलाई पर बांधा जाने वाला रक्षाबंधन बंधन) से सज जाती है.

 

इस दिन बहने बाजार से खूब शॉपिंग करती है और अपने भाई के लिए खूबसूरत रखियां खरीदती है.

यह त्योहार भाई-बहन के पवित्र प्रेम का प्रतीक है।

 

इस दिन बहने अपने भाइयों के माथे पर तिलक लगाकर कलाई पर राखी बाँधती हैं और आरती उतारकर अपने भाई की लंबी आयु की कामना करती हैं।

Raksha-bandhan-nibandh

बहन अपने हाथो से भाई को कुछ मीठा जैसे मिठाई या चॉकलेट खिलाती है.

Raksha-bandhan-nibandh

वही  भाई  भी अपनी बहन को उसकी रक्षा का वचन देता है। और बहन को  प्रेम स्वरूप सुंदर भेट प्रदान करता है । 

 

Advertisement

यह राखी का त्योहार संपूर्ण भारतवर्ष में  बल्कि अब विदेसों मे भी मनाया जाता है।

 

हम यह पर्व सदियों से मनाते चले आ रहे हैं। रक्षा बंधन (Raksha bandhan) का पौराणिक कथाओ मे भी कई बार उल्लेख हुआ है । 

 

Raksha bandhan के इतिहास पर आधारित कई  कहानिया भी मिलती है ।

 

आजकल इस त्योहार पर बहनें अपने भाई के घर राखी और मिठाइयाँ ले जाती हैं।

 

भाई राखी बाँधने के पश्चात् अपनी बहन को दक्षिणा स्वरूप रुपए देते हैं या कुछ उपहार देते हैं। इस प्रकार आदान-प्रदान से भाई-बहन के मध्य प्यार और प्रगाढ़ होता है।

 

Raksha bandhan ऐतिहासिक महत्त्व 

सन् 1535 में जब मेवाड़ की रानी कर्णावती पर बहादुर शाह ने आक्रमण कर दिया,

तो उसने अपने राज्य की रक्षा के लिए मुगल बादशाह हुमायूँ को राखी भेजकर मदद की गुहार की थी।

 

क्योंकि रानी कर्णावती स्वयं एक वीर योद्धा थीं इसलिए बहादुर शाह का सामना करने के लिए वह स्वयं युद्ध के मैदान में कूद पड़ी थीं, परंतु हुमायूँ का साथ भी उन्हें सफलता नहीं दिला सका।

राखी का त्यौहार रक्षाबंधनइस दिन सभी नए-नए कपड़े पहनते हैं। सभी का मन हर्ष और उल्लास से भरा होता है।

 

बहनें अपने भाइयों के लिए। खरीदारी करती हैं, तो भाई अपनी बहनों के लिए साड़ी आदि खरीदते हैं और उन्हें देते हैं। यह खुशियों का त्योहार है।

 

जिस लड़की का विवाह हो जाता है वो अपने ससुराल से मायके आकर अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है और हर्षोल्लास के साथ राखी का त्यौहार मनाती है.

कुछ भारतीय नारिया बॉर्डर पर फौजी भाइयो को भी राखी बांध कर उन्हें अपना भाई मानती है.

Advertisement

रक्षाबंधन के दिन कई लोग पेड़ पौधो को राखी बांध कर पर्यावरण रक्षा का खूबसूरत सन्देश देते है.

 

हमारे हिन्दू समाज में वो लोग इस त्योहार को नहीं मनाते, जिनके परिवार में से रक्षाबंधन वाले दिन कोई पुरुष-भाई, पिता, बेटा, चाचा, ताऊ, भतीजा-मर जाता है।

 

इस पुण्य पर्व पर किसी पुरुष के निधन से यह त्योहार खोटा हो जाता है। फिर यह त्योहार पुनः तब मनाया जाता है जब रक्षाबंधन के ही दिन कुटुंब या परिवार में किसी को पुत्र की प्राप्ति हो।

हमारे हिन्दू समाज में ऐसी कई परंपराएँ हैं, जो सदियों से चली आ रही हैं।

उन्हें समाज आज भी मानता है। यही परंपराएँ हमारी संस्कृति भी कहलाती हैं।

 

परंतु कई परंपराएँ, जैसे—बाल विवाह, नर-बलि, सती प्रथा-आदि को कुरीति मानकर हमने अपने जीवन और समाज से निकाल दिया है; परंतु जो परंपराएँ हितकारी हैं, उन्हें हम आज भी मान रहे हैं। Raksha bandhan

अत: रक्षाबंधन का त्योहार एक ऐसी परंपरा है, जो हमें आपस में जोड़ती है.

इसलिए इसे आज भी सब धूमधाम और पूरे उल्लास के साथ मनाते हैं।

 

Raksha bandhan nibandh अक्सर स्कूलों मे बच्चों द्वारा बोला जाता है जिससे बच्चों को रक्षाबंधन की अच्छी जानकारी हो जाती है.

 

तो दोस्तों Raksha bandhan nibandh आपको कैसा लगा. यह Raksha bandhan nibandh अपने सभी दोस्तों मे जरूर शेयर करे.

 

इन्हे भी पढे

 

 

 

Advertisement

 

 

 

 

 

Advertisement
Advertisement

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *