GISAT-1

GISET-1 क्या है | GISET-1 के फायदे  | EOS-3 | GSLV F10 | ISRO 

news चैनलो से लेकर सोशियल मीडिया बार बार GISET-1 | EOS-3 | GSLV F10 | ISRO  जैसे शब्द देखने हो मिल रहे है | दोस्तों जिस दिन का भारत कई दिनो से इंतज़ार कर रहा था वो घड़ी आ चुकी है | 

जी हा दोस्तो , GISET-1 पृथ्वी  से 36000 किलोमीटर दूर अन्तरिक्ष मे भारत की तीसरी आँख बन कर तैनात हो चुका है |  भारत और विदेशो मे इसे कई नामो से पुकारा जाने लगा है  जैसे भारत का जासूस , चीन पाकिस्तान का यमदूत , निगहबान इत्यादि |

 

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (indian Space Research Organisation (ISRO) द्वारा 

 स्वतन्त्रता दिवस से ठीक 3 दिन पहले 12 अगस्त को ही सुबह 5:43 मिनट पर स्पेस सैंटर श्री हरीकोटा से GISET-1 लॉन्च कर दिया गया है |

कई एडवांस टेक्नोलोजी से लैस GISET-1 सीमा सुरक्षा से लेकर कृषि और मौसम परिवर्तन के साथ साथ कई दुर्लभ क्षेत्रो की रियल टाइम तस्वीरे ले सकने मे पूरी तरह  सक्षम है GISET-1 |

 

चलिये GISET-1  के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी लेते है |

 

GISET-1 क्या है ?

GISET-1 भारत द्वारा निर्मित जियो इमेजिंग सैटेलाइट है। यह एक भू -प्रक्षेपण उपग्रह है | जो  रियल टाइम तस्वीरे लेने मे सक्षम है |

ISRO द्वारा इस उपग्रह का एक कोड name रखा गया है जिसका नाम है –  ईओएस-03 (EOS-3) 

 

GISET-1 ISRO द्वारा निर्मित एक उपग्रह है जिसे GSLV F10 नामक रॉकेट लॉन्च विहीकल द्वारा पृथ्वी से 36000 किलोमीटर दूर अन्तरिक्ष की कक्षा मे स्थापित (प्रक्षेपित)  किया गया है | ताकि GISE-1 आसानी से धरती पर निगरानी रख सके और जरूरी जानकारी ISRO को मोहैया करवा सके | 

 GISET-1 2275 किलोग्राम है | अंतरिक्षीय कक्षा को ओर्बिट और उपग्रह को satellite बोला जाता है ||

 

GSLV क्या होता है ?

GSLV का पूरा नाम Geosynchronous Satellite Launch Vehicle है | इसे हिन्दी मे भू-तुल्यकाली उपग्रह प्रक्षेपण वाहन कहा जाता है | यह रॉकेट पूरी तरह से स्वदेशी यानी भारत निर्मित रॉकेट है | GSLV का निर्माण भरी वजनीय उपग्रहों को अन्तरिक्ष की कक्षाओं तक ले जाने के मकसद से तैयार किया गया है |

GISAT-1
GSLV F10

इसी तरह GISET-1  एक बड़ा और भरी उपग्रह है जिसे GSLV की मदद से पृथ्वी से 36000 किलोमीटर दूर अन्तरिक्ष मत प्रक्षेपित किया गया है | यह चौथी पीढ़ी यानी फ़ोर्थ जेनरेशन लौंचर (लॉन्च विहीकल) है |

 

इससे पहले GSLV 13 उपग्रहो को अन्तरिक्ष ले जाने के लिए उड़ान भर चुका है और अब यह  GISET-1 को  अन्तरिक्ष ले जाकर अपनी 14 वीं उड़ान पूरी कर लेगा |

 

GISET-1 के फायदे

GISET-1 की मदद से से भारत को बहुत सारे फायदे मिलेंगे| GISET-1 मे कई तरह की एडवांस टेक्नोलोजी के साथ 5 प्रकार के मल्टीस्पेक्ट्रम कैमरे है जो विभिन्न दुराभ क्षेत्रो एवं किसी भी मौसम मे को रियल टाइम तस्वीरे लेने मे सक्षम है | यानी हर भारतीय रियल टाइम तस्वीरे प्राप्त करके कई तरह की जानकारी जुटा सकता है |

 

भारतीय सीमा सुरक्षा सैनिको को फायदा – GISET-1 सीमाओं पर कड़ी नजर रखेगा  | भारतीय सैनिक GISET-1 की मदद  से रियल टाइम तस्वीरे देख कर ये आसानी से पता लगा सकेंगे की सीमा पर चीन पाकिस्तान द्वारा कोई गलत हरकत अथवा साजिश तो नहीं की जा रही |

 

रियल टाइम तस्वीरों की मदद से मौसम एवं भौगोलिक स्थिति का सही और सटीक अनुमान लागाने मे आसानी होगी |

 

कृषि एवं किसानो को फाइदा- रियल टाइम फुटेज की मदद से कृषि विज्ञान भारतीय  किसानो  को मौसम की सटीक जानकारी दे सकेंगे | जिससे किसानो को बहुत लाभ पहुंचेगा वह चिंता मुक्त होकर मौसम अनुसार बीज की बुआई कर सकेंगे | सिर्फ यही नहीं मौसम की मार की वजह से खेतों मे लगी कई फसले बर्बाद  होने से भी बचेंगे |

 

इससे पहले ही लॉन्च किया जाना था GSET-1

सबसे पहले यह मिशन 2020 फरवरी मे पूरा किया जाना था लेकिन कोरोना महामारी lockdown की वजह से यह मिशन पूरा नहीं हो पाया | फिर इसकी लोंचिंग डेट आगे बरहा दी गई |

 

इससे पहले GSET-1 को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (indian Space Research Organisation (ISRO) द्वारा जीएसएलवी एफ 10 (GSLV F10) लॉन्च विहीकल की मदद से 5 मार्च – 2021  को लॉन्च किया जाना था लेकिन कुछ तकनीकी खराबी की वजह से इस लोंचिंग को रोक दिया गया |

 

ISRO – भविष्य के मिशन 

और भी जादा जानकारी – पारदर्शिता – स्पष्टता लाने के लिए आने वाले टाइम मे ISRO कई और भी भू प्रक्षेपण उपग्रहों के इलवा गगन यान मिशन पर भी तेजी से काम कर रहा है | गगन यान को 2021 दिसंबर तक लॉन्च कर दिया जाएगा | मिली सूचना के अनुसार यह यान पहला मानव रहित यान होने वाला है इसमे एक लेडी स्पेस साइंटिस्ट और एक एक रोबोट को बैठा के अंतरिश मे भेजा जरगा |

 

Q&A

 

Q –  GISET-1   का पूरा नाम क्या है ?

A-    GISET-1  सामूहिक शब्दो का शॉर्ट फॉर्म है  |  GISET-1   तीन शब्दो से मिलकर बना है जिसमे G का अर्थ है जियो  आई (I) का अर्थ है images  SET का अर्थ है सैटेलाइट (satellite)

 

Q – GISET-1 की लोंचिंग डेट क्या है ?

A – 12 अगस्त – 2021 

 

Q – GSET-1 केए कुल कितना वजन है ?

A –  GISET-1 2275 किलोग्राम है |

 

Q –  GISET-1 कहाँ से लॉन्च किया ?

A – श्री हरीकोटा स्पेस सैंटर से 

 

Q –  GISET-1  किस लॉन्च विहीकल की मदद से कक्षा प्रक्षेपित किया गया  है ?

A – GSLV F10 की मादा से जिसका पूरा नाम है – Geosynchronous Satellite Launch Vehicle है | इसे हिन्दी मे भू-तुल्यकाली उपग्रह प्रक्षेपण वाहन कहा जाता है 

 

Q –  GISET-1  को धरती से कितनी दूर प्रक्षेपित किया गया ?

A – 36000 किलोमीटर दूर स्पेस ओर्बिट मे \

 

Q –  अन्तरिक्ष मे अब तक भारत के कुल कितने उपग्रह है ?

A – ISRO अब तक वर्तमान समय मे  कुल 35 उपग्रह (satellite) स्थापित कर चुका है | जिनमे से –

  • 19 राष्ट्रीय भू प्रेक्षण उपग्रह (National Earth Observation Satellite)  
  • 18 संचार उपग्रह  (18 communication satellites)
  • 8 नौपरिवहन उपग्रहों (8 navigational satellites) 

 

इन्हे जरूर पढ़े – 

चंद्रयान 3 क्या है कब और क्यों लॉन्च किया गया था ? इसके फायदे 

चंद्रयान 2 कब और क्यों लॉन्च किया गया था ? इसके फायदे

जरूर पढ़े – ISRO का जन्म कैसे हुआ ?

क्या है यह  GSLV Mk 3  और कैसे काम करता है ? 

जरूर  पढ़े – मून मिशन क्या है ? इससे देश को क्या फाइदा मिल रहा है ?

 

success and motivational

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

duniya ke 10 sabse jahrile saamp Top 10 richest country Agnipath yojna | अग्निपथ योजना क्या है पूरी जानकारी Rape of nanking history in hindi  How to control your mind These 5 bad habits are the biggest obstacle to success Rich mindset and poor mindset Rich mindset and poor mindset kya hai ये 10 आदतें आपको कभी अमीर नहीं बनने देंगी masturebation करना सही या गलत