dharmik kahani | हनुमान जी को सिंदूर क्यो लगाया जाता है?

dharmik kahani – स्वागत है आपका ज्ञान से भरी धार्मिक कहानियों (dharmik kahaniyan) की इस दुनिया मे|

religious stories in hindi धार्मिक कहानियों का इंसान की ज़िंदगी मे बहुत महत्तव होता है |

 

 

यहाँ पर आपको धर्म से जुड़े ऐसे रोचक तथ्यों से अवगत करवाया जाएगा जो आपकी जिंदगी मे बहुत काम आएंगी|

dharmik kahani | हनुमान जी को सिंदूर क्यो लगाया जाता है?

 

भगवान शंकर के अवतार और भगवान श्री राम जी के परम भक्त  श्री हनुमान जी के बारे मे आज आपको बहुत ही रोचक और ज़रूरी बात बताने जा रहे है  ।

 

रावण का वध करने के बाद जब भगवान श्री राम जी माता  सीता को  लेकर अयोध्या वापिस लौटे थे,

तो माता सीता और भगवान राम की सेवा के लिए  हनुमान जी भी उनके साथअयोध्या आगए थे एक दिन ऐसे ही जब माता सीता अपने माथे पर सिंदूर लगा रही थी

Advertisement

 

तब ये करते हुए हनुमान जी ने माता सीता को देख लिया और पूछने लगे की माता ये आप माथे पर क्या लगा रही  हो  ? इससे क्या होता है ?

dharmik kahani

 

यहां click करे- इस दिन भूल कर भी न तोड़े तुलसी के पत्ते | tulsi ke patte

 

महात्मा बुद्ध और भिखारी की अद्भुत कहानी 

Buddha-moral-story

 

 

Advertisement

सीता माता ने इसका हनुमान जी को बहुत सुन्दर जवाब दिया – “हनुमानस्त्रियां अपनी मांग में सिन्दूर इसलिए लगाती है ताकि वो जग ज़ाहिर कर सके कि उनके लिए पति की अहमियत सबसे ज़्यादा है. सिन्दूर पति की लम्बी आयु  और रक्षा के लिए लगाया जाता है |  और जो कोई भी स्त्री सिन्दूर लगाती है माता पार्वती उसके पति की रक्षा आवश्य करती है”

 

बस इतना सुनते ही हनुमान जी अंदर से  गद गद हो उठे | और माता सीता से पूछने लगे की हे माता ! कृपया मुझे बताएं की यह सिंदूर कहा मिलता है |

तब माता सीता बोली –  यह सिंदूर तो यही मेरे कक्ष मे ही है| वैसे यह बाहर बाज़ार मे बिकता है | पर हनुमान आप इस सिंदूर का क्या करोगे ? 

 

 

और यह तो आप सब जानते हो की वो कितने चंचल और नटखट  स्वभाव  के है ।

 

आपने हनुमान जी की केसरी रंग की मूरत मंदिरों में ज़रूर देखि होगी लेकिन क्या कभी आपने सोचा कि उनकी ये मूरत केसरी रंग की क्यों होती है. बच्चे ये सवाल अक्सर करते है और इस हनुमान कहानी को पढ़कर आपको भी जवाब मिल जाएगा और आप अपने बच्चो को भी अच्छे से समझा सकेंगे.

 

 

हनुमान जी को सिंदूर क्यो लगाया जाता है?dharmik kahani

इतनी बात सुनते ही हनुमान जी मुस्करा दिये और वहाँ से चले गए ।  राज महल से बाहर आकार  वो एक ऊचे  वृक्ष पर चढ़ गए और बाज़ार की तरफ देखने लगे.

 

बाज़ार मे उनको सिंदूर की काफी सारे दुकाने दिखाई दी वो वह पाहुच गए ओए पूरी सेंदूर की बोरी उठाई  और वह से किसी एकत स्थान पर चले गए वह हनुमान जी ने सिंदूर को अपने पूरे शरीर पर लगा लिया।

dharmik kahani

 

हनुमान जी ने अपने पूरे शरीर पर सिन्दूर लगा लिया क्यूंकि वे भी अपने श्री राम की लम्बी आयु की कामना करते थे.

 

तब से हनुमान जी रोज़ अपने पूरे शरीर पर सिन्दूर ग्रहण करने लगे और इसीलिए मंदिरो में हनुमान जी की मूरत सिन्दूरी रंग की होती है.

Advertisement

 

 

ऐसे हालत मे हनुमान जी  राज महल मे चले गए जहा भगवान श्री राम की सभा चल रही थी व्हा माता सीता और लक्ष्मण जी भी विराजमान थे |

 

इतने मे वह हनुमान जी पूरे शरीर मे सिंदूर लगाए उस राज सभा मे आगए |

 

हनुमान जी को ऐसे हालत ईएसए रूप देख कर पूरे राजसभा मे हलचल मच गई को कऔन है यह कौन घुसा आया है ।dharmik kahani

 

dharmik-kahani

hanuman

लेकिन भगवान श्री राम जी हनुमान जी को पहचान गए थे ।

जब भगवान् राम ने देखा कि हनुमान ने अपने पूरे शरीर पर सिन्दूर लगाया हुआ तो इसका कारण पुछा. इसके जवाब में हनुमान जी ने कहा “हे भगवन, सीता माता ने कहा था कि ज़रा सा सिन्दूर सिर पर लगाने से आपकी आयु लम्बी हो जायेगी.

 

अगर ज़रा सा सिन्दूर लगाने से आपकी आयु लम्बी हो सकती है तो अगर मैं अपने पूरे शरीर पर सिन्दूर लगा लू तो अवश्य ही इसका बहुत अच्छा प्रभाव होगा.”

 

 

यहां click करे-कैसे बना उल्लू माँ लक्ष्मी का वाहन | लक्ष्मी माता  ने क्यो चुना उल्लू को ? 

 

 

श्री राम हनुमान की श्रद्धा से बहुत प्रसन्न हुए और ये वरदान दिया कि जो भी भक्त हनुमान को सिन्दूर लगाएगा या हनुमान की सिन्दूर के साथ पूजा करेगा उसे लम्बी आयु, यश और खुशहाली मिलेगी. और तब से भक्त जन हनुमान जी की मूरत पर सिन्दूर लगाते और चढ़ाते है.

 

dharmik kahani

Advertisement

 

 

सिंदूर असीम ऊर्जा का प्रतीक है। इससे जीवन में सकारात्‍मकता आती है। हनुमान जी को सिंदूर और तेल का चोला चढ़ाने से तथा मूर्ति का स्पर्श करने से सकारात्मक ऊर्जा मिलती है।

जिन लोगों को शनिदेव की पीड़ा हो उन्हें बजरंग बली को तेल-सिंदूर का चोला अवश्य चढ़ाना चाहिए।

 

 

हनुमान जी को सिंदूर क्यो लगाया जाता है?

dharmik kahani | हनुमान जी को सिंदूर क्यो लगाया जाता है?

सिंदूर चढ़ाने की विधि dharmik kahani

सबसे पहले श्री हनुमान की प्रतिमा को स्नान करवाएं।

फिर सभी पूजा सामग्री अर्पण करें।

इसके बाद मन्त्र का उच्चारण करते हुए चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर या सीधे प्रतिमा पर हल्का सा देसी घी लगाकर उस पर सिंदूर का चोला चढ़ा दें।

 

 

 सिंदूर लगते समय इस मन्त्र का जप करे – dharmik kahani

सिन्दूरं रक्तवर्णं च सिन्दूरतिलकप्रिये।
भक्तयां दत्तं मया देव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम।।

 

महाभारत काल की अद्भुत ज्ञान से भरी  एक सच्ची ऐतिहासिक घटना – 🙏 इस video को 👉🎧 लगाकर एक बार जरूर देखे. 

 

 

तो दोस्तों ज्ञान से भरी यह video कैसी लगी? ऐसी ही और भी तमाम videos देखने के लिए नीचे दिये गए लाल बटन पर clik करो (दबाओ) 👉

 

Advertisement
Hindi-moral-stories

Hindi moral stories videos

 

 

धार्मिक ज्ञान – ज्ञान से भरे धार्मिक कहानियों का रोचक सफर- 

 

जरूर पढ़े – गरुनपुराण के अनुसार – मरने के बाद का सफर

religious-stories-in-hindi

 

Moral-Story-n-Hindi

कर्मो का फलयहाँ  click करे – कर्मों का फल या दंड मिलता ही मिलता है ऐसी 4 कहानिया  जो आपको अच्छा कर्म करने के लिय मजबूर कर दे 

 

 

यहा click करे – व्रत रखने से मन पर और जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है ? रोचक तथ्य 

 

एकादशी-व्रत

 

 

यहां click करे-शिव चालीसा का  जीवन मे चमत्कारी प्रभाव | मौत को भी ताल दे | शिव चालीसा जाप करने का सही तरीका | कब ? – कैसे  कैसे करे जाप ?  

 

Shiv-chalisa-shiv mantra

shiv

यहां click करे-ऐसे करे शिव जी की पूजा होगी हर मनोकामना पूरी| शिव जी की पूजा मे ये लापरवाही कभी ना करे  जानने के लिए यहा 

 

 

Advertisement

shiv puja

 

 

यहां click करे- जानिए क्या है तुलसी पूजा का महत्तव | क्यो ज़रूरी है तुलसी माता की पूजा | 

 

यहां click करे-इस दिन भूल कर भी न तोड़े तुलसी के पत्ते

tulsi

 

यहां click करे-कैसे बना उल्लू माँ लक्ष्मी का वाहन | लक्ष्मी माता  ने क्यो चुना उल्लू को ? 

 

 

यहा click करे- गौतम बुद्ध और अंगुलिमाल-real life inspirational stories in hindiजानने के लिए यहा click करे और जानिए धर्म से जुड़े रोचक तथ्य 

 

यहां click करे-tulsi poojan | भूल कर भी मत चढ़ाना गणेश जी को तुलसी| जानिए क्या है इसके पीछे की कहानी |

dharmik-kahani

धार्मिक कहानी

 

यहाँ click करे-  दान का फल – ज्ञान से भरे धार्मिक कहानियों का रोचक सफर 

 

यहाँ click करे- कर्मो का फल – भक्ति की शक्ति –  

 

यहाँ click करे – धनतेरस और दिवाली की ज़रूरी बाते | happy diwali|||धनतेरस और दिवाली के दिन बिलकुल न करे ये काम

Advertisement

 

यहाँ click करे – क्यों और कैसे  मनाया जाता है छठ  महापर्व ? कैसे शुरुआत हुई इस महापर्व की छठी मैया | chhath puja | religious stories inhindi

 

 

यहां click करे- क्या कर्मो का फल और दंड इसी जन्म मे मिल जाता है ? 

 

और भी धार्मिक ज्ञान और धार्मिक पौराणिक कथाएं पढ़ने के लिए click करे. 

 

 

Advertisement
Advertisement

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *