artificial intelligence -AI- kya hai? | AI poori jankari

artificial intelligence kya hai इसके फायदे और नुकसान-नमस्कार दोस्तों ! मैं हरजीत मौर्या आज आपके लिए computer साइंस से जुड़ी एक ऐसी टेक्नोलॉजी के बारे मे विस्तारपूर्वक जानकारी देने जा रहा हूं.जो भविष्य मे मानवजाति के लिए वरदान और कल्याणकारी सिद्ध होने वाली है.

इस टेक्नोलॉजी का नाम है artificial intelligence.

आने वाला भविष्य artificial intelligence का ही है.

दोस्तों आज का युग टेक्नोलॉजी का युग है. आए दिन जरूरतों के हिसाब से नई नई टेक्नोलॉजी का विकास (develop) किया जा रहा है.

 

आज बहुत से लोग अपने दैनिक जीवन मे ऐसी बहुत सि टेक्नोलॉजी का उपयोग कर रहे है जिसमे आर्टिफिशल इंटेलिजेंस (artificial intelligence) का प्रयोग किया गया है.

 

आज के समय यानी 2020 और 21 की बात की जाए तो हम लोग A.I(artificial intelligence)
का सबसे अधिक लाभ वर्चुअल रूप मे उठा पा रहे है.

artificial-intelligence
AI kya hai artificial intelligence

जैसे मोबाइल, computer और internet. ( google assistant,)

और यदि फिजिकल रूप की बात की जाए तो
alexa,(amazon echo dot smart speaker) नाम के निन्म स्तरीय यानी वीक AI (artificial intelligence) गैजेट है.

 

ये आर्टिफिशल इंटेलिजेंस (artificial intelligence) के बेहतर उदाहरण है.

 

तो चलिए जानते है

  • आर्टिफिशल इंटेलिजेंस क्या है? What is artificial intelligence?
    Advertisement
  • और इस टेक्नोलॉजी को बनाने का क्या मकसद है.?
  • आर्टिफिशल इंटेलिजेंस से भविष्य मे क्या क्या फायदे और नुकसान हो सकते है.?

 

 

आर्टिफिशल इंटेलिजेंस क्या है.? artificial intelligence kya hai?

आर्टिफिशल इंटेलिजेंस को short मे AI भी कहा जाता है.

आर्टिफिशल इंटेलिजेंस का अर्थ है कृत्रिम बुद्धिमता यानी इंसानों द्वारा बनाई गई बुद्धि.

 

आसान शब्दों मे कहे तो एक मशीन के अंदर इंसानों की तरह सोचने समझने, निर्णय लेने, प्रॉब्लम का समाधान निकालने, और काम करने की काबिलियत का निर्माण अथवा विकास करना है.

Advertisement

 

बहुत सारी टेक्नोलॉजी का प्रयोग करके एक ऐसा सिस्टम या मशीन तैयार करना जो हूबहू इंसानों की तरह सोच समझ सकें,खुद ही निर्णय लें सकें और इंसानों की तरह ही बहुत सारे काम कर सकें. या ऐसा कह लो की इंसानों से भी बेहतर काम कर सकें.

 

देखिये दोस्तों सबसे पहले इस बात को समझो की इस सिस्टम को आर्टिफिशल इंटेलिजेंस का नाम क्यों दिया गया..

 

आर्टिफिशल का मतलब हुआ बनावटी.. यानी ऐसा बिलकुल नहीं है की किसी इंसान का दिमाग़ निकाल कर एक मशीन मे फिट किया जाता है.

 

बल्कि इसकी जगह पर एक कृत्रिम बुद्धि बनाई जाती है.

कृत्रिम बुद्धि बनाने के लिए बहुत सारा डाटा, कोडिंग, टेक्नोलॉजी और महंगे सेंसर का प्रयोग किया जाता है.

 

जिसको मशीनों मे फिट करके मशीनों को खुद सोचने समझने काबिलियत प्रदान की जाती है.

 

ताकी ऐसे मशीनों की मदद से काम को बहुत ज़ादा आसान बनाया जा सकें और काम को बेहतर तरीके से करवाया जा सकें. यही मकसद रहा है AI को शुरु करने का.

Artificial intelizence

ज़ब कोई मशीन इंसानों की सोच समझ कर किसी कार्य को बेहतर तरीके से पूरा कर दे.

इसी प्रक्रिया को आर्टिफिशल इंटेलिजेंस कहा जाता है.

चलिए अब जानते है आर्टिफिशल इंटेलिजेंस की शुरुआत सबसे पहले कब और कहा से शुरू हुई.?

 

AI (history of artificial intelligence) का इतिहास. और इसका मकसद.

दोस्तों AI का इतिहास बहुत पुराना है. सन 1950 मे पहली बार AI का कांसेप्ट एक अमेरिकी कप्यूटर साइंटिस्ट *जोन मैकार्थी* के द्वारा रखा गया था.

 

Advertisement

1950 के शुरुआती दौर मे computer साइंस के क्षेत्र मे और ज़ादा प्रगति लाने और टेक्नोलॉजी की दुनियां मे क्रांति लाने की एक सोच से जोन मेकार्थे के मन मे आया की क्यों ना एक एक ऐसा सिस्टम तैयार करे जो मशीनों मे इंसानों की तरह सोचने समझने और कार्य को बेहतर ढंग से संपन्न करने की काबिलियत प्रदान करे.

 

तब इसी सोच के चलते उन्होंने अपनी एक टीम बनाई और अपना ये कांसेप्ट सबको समझाया.

 

उसके बाद 5 साल इस पर कुछ रिसर्च करने के बाद 1955 मे computer साइंस की एक जन सभा मे पहली बार जोन मेकार्थे और उनकी टीम द्वारा इस कंसेप्ट को सबके सामने उजागर किया.

 

वहीं से इस सिस्टम का नाम भी आर्टिफिशल इंटेलिजेंस (artificial intelligence)
रखा गया.

इसलिए जोन मेकार्थे को आर्टिफिशल इंटेलिजेंस (artificial intelligence)
का जनक कहा जाता है.

 

दोस्तों artificial intelligence कोई नई बात नहीं. पिछले कई दशकों से दुनियाभर मे AI के बारे चर्चा की जा रही है.

 

यदि कुछ हॉलीवुड movies की बात की जाए तो, टर्मिनेटर्स, मेट्रिक्स, A.X.L, real steel और bollywood की movie 2.O जैसी साइंस फिक्शन movie को देखने के बाद आप अच्छे से समझ सकते हो की आर्टिफिशल इंटेलिजेंस क्या चीज है. और इनसे क्या कुछ करवाया जा सकता है.

 

हालांकि अभी ऐसा रियल मे तो नहीं है यह बस अभी एक कल्पना मात्र है जिस पर तेजी से रिसर्च चल रहा है.

 

लेकिन इन movies के माध्यम से हम आर्टिफिशल इंटेलिजेंस (artificial intelligence)की ताकत को अच्छे से समझ सकते है की यह भविष्य मे मानव जाती के लिए कितना बड़ा वरदान सिद्ध होगी.

 

 

Advantages of artificial intelligence.-

तो चलिए इस आधार पर यह जानते है की अभी के समय (2021) मे और आने वाले समय मे AI से दुनियां को क्या फायदा मिल रहा है और मिलेगा.

1.कृषि क्षेत्र मे –
दोस्तों अभी के समय मे कृषि के क्षेत्र मे हम AI का उपयोग फसल, की अच्छी पैदावार के लिए कर पा रहे है.

Advertisement

 

यहां पर AI की मदद से फसलों से सम्बंधित यह जानकारी मिल जाती है की फ़सल के लिए मिट्टी कितनी उपजाऊ है. और मिट्टी की उपजाऊ शक्ति बढ़ाने के लिए जानकारी भी मिल जाती है.

 

  • बीज और मिट्टी की गुणवत्ता क्या है,?
    *बीज कब बोया जाए. बरसात का सही अनुमान.?
    *खेतो मे कब कितना पानी दिया जाए.? यह सब AI की मदद से कंट्रोल किया जा सकता है.

अब ऐसे मे आने वाले समय मे AI और भी विकसित और विस्तृत रूप लेगा. जिसका फायदा किसानो को मिलेगा.

 

 

2.डाटा सुरक्षा के क्षेत्र मे AI का लाभ –
दोस्तों आज के समय मे सबसे कीमती चीज डाटा ही है. क्योंकि computer, मोबाइल और internet की वर्चुअल दुनियां मे सब कुछ एक डाटा के रूप मे सेव रहता है.

यदि थोड़ा सा डाटा गलत लोगो के हाथ मे लग जाए तो इसका बहुत बड़ा नुकसान झेलना पड़ता है.

तो इस डाटा की सुरक्षा को ध्यान मे रखते हुए AI एक वरदान है.

AI डाटा को सिक्योर (सुरक्षित) रखती है.

  • वर्चुअल दुनियां मे AI की मदद से साइबर क्राइम जैसे अपराध को रोका जाता है.
  • AI का सबसे अधिक उपयोग अलग अलग मकसद से वर्चुअल दुनियां मे किया जाता है.

 

4.पुलिस और सीमा सुरक्षा बल के लिए लाभकारी –

जुर्म को रोकने के लिए AI का उपयोग पुलिस सबसे अधिक करती है.

  • जिसमे कैदियों की पहचान करने..
  • मोबाइल नंबर ट्रेक करने
  • लोकेशन ट्रेक करने
    जैसी और भी कई चीजे और गैर कानूनी गतिविधियों को रोकने के लिए तथा उन पर नजर रखने के लिए AI का उपयोग किया जाता है.
  • इसके इलावा सीमा पर तैनात आर्मी फ़ोर्स के लिए,
  • लड़ाकू विमानों, समुद्री विमानों, मे भी जिन एडवांस टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता है उनमे AI की टेक्नोलॉजी होती है.

जिसकी मदद से दुश्मन की मनसा को समझ पाते है.

 

हॉस्पिटल और लेबोरटरी मशीन बनाने मे AI का उपयोग किया जा रहा है. जिसका लाभ ये है की इससे डॉक्टरों और मरीजों को बहुत सुविधा हो गई है.

जैसे किसी बीमारियों की रिपोर्ट अब कम समय मे बन जाती है.
जिससे हम कम समय मे बीमारि की पहचान करके उसका इलाज शुरुआत करवा सकते है.

 

 

इसके इलावा शिक्षा के क्षेत्र मे (education) AI का उपयोग स्टूडेंट्स fees, रजिस्ट्रेशन,, स्टूडेंट्स डाटा, के कामों मे किया जाता है.

Advertisement

 

चलिए अब आर्टिफिशल इंटेलिजेंस से भविष्य मे होने वाले नुकसान कक जान लेते है.

 

Disadvantages of artificial intelligence.

दोस्तों इंसानों द्वारा बनाई जाने वाली धरती पर ऐसी कोउ चीज नहीं जिसके सिर्फ फायदे ही हो और नुकसान ना हो.

जिस तरह एक सिक्के के दो पहलू होते है उसी प्रकार मानव निर्मित वस्तु के फायदों kecsath साथ कुछ नुकसान भी होते है.

अभी तो फिलहाल artificial intelligence का कोई नुकसान सामने नहीं आया.. लेकिन भविष्य मे AI की वजह से बेरोजगारी का बहुत बड़ा खतरा मंडरा रहा है.

 

अगर ऐसे ही AI विकसित होते रहे तो लोगो का रोजगार छिन जाएगा.

लेकिन इसका भी कोई समाधान अवश्य निकाला जाएगा. जिससे बेरोजगारी से निपटा जा सकें.

इसके इलावा AI भविष्य मे जो सबसे बड़ा खतरा बन सकती है वो है, विद्रोह.

जी हा दोस्तों इसका सबसे बड़ा उदाहरण आप bollywood की रोबोट movie मे देख सकते हो.

जिसमे रोबोट मे फील करने की काबिलियत विकसित कर दी जाती है. जिस वजह से वो भावनाओं को समझ सकता था.
उस प्रकार के रोबोट मानव जाती को अपने लिए एक बहुत बड़ा खतरा मान कर विद्रोह कर देते है.

इस प्रकार एडवांस सुपर AI की मदद से तैयार रोबोट भविष्य मे मानव जाती के लिए खतरा भी बन सकते है.

 

जोन मेकार्थे द्वारा यह बताया गया था की आने वाले समय मे जैसे आर्टिफिशल इंटेलिजेंस की टेक्नीक develop होती जाएगी वैसे वैसे हर टेक्नोलॉजी के क्षेत्र मे क्रन्तिकारी परिवर्तन भी देखने को मिलेगा.

दोस्तों आने वाला भविष्य आर्टिफिशल इंटेलिजेंस का ही है इसीलिए इस पर बहुत तेजी से काम चल रहा है.

बहुत सारे एक्सपेरिमेंट किये जा रहे है.
artificial इंटेलिजेंस को computer साइंस का बहुत ही उन्नत रूप माना जाता है.

 

अभी के समय की बात की जाए तो भारत मे अभी (2020) मे AI पर उच्च स्तर की सफलता हासिल नहीं हुई है. AI के क्षेत्र मे अभी हम निम्न स्तर पर ही सफलता हासिल कर पाए है जिन्हे वीक इंटेलिजेंस के नाम से भी जाना जाता है.

 

Advertisement

 

किन किन चीजों मे अर्रिफिशल इंटेलिजेंस का उपयोग किया जा रहा है.

Google search इंजन से लेकर रोबोट, कम्प्यूटर, leptop,मोबाइल, ड्रोन, लेबोरटरी मशीन्स. जैसे और भी कई तमाम चीजे है जहाँ इसका प्रयोग किया जा रहा.

 

इनमे से AI का सबसे अधिक उपयोग –

  • वर्चुल दुनियां को और भी ज़ादा एडवांस बनाने,
  • डाटा को सुरक्षा प्रदान करने
  • और फुल्ली ऑटोमेटेड रोबोट तथा कार बनाने मे किया जा रहा है.

 

चलिए अब A.I ke types के बारे मे जानते है. Types of artificial intelligence

कार्य कुशलता और स्तर के आधार पर AI को तीन भागो मे बाटा गया है.

 

जिनमे सबसे पहला है week A.I – इस A.I का प्रयोग जादातर गेमिंग सॉफ्टवियर को develop करने मे किया जा रहा है.

 

इसके इलावा इस प्रकार के AI का प्रयोग e-कॉमर्स ट्रेडिंग मे भी किया जाता है.

 

 

दूसरा AI है strong AI. इसका सबसे उदाहरण है अमेरिका की सड़को पर दौड़ने वाली बिना ड्राइवर की कार.

इस प्रक्रिया मे मशीन अपनी कृत्रिम बुध्दि का उपयोग कर प्रॉब्लम को सॉल्व करती है.
ये AI row डाटा की पहचान कर दिये गए इंस्ट्रक्शन को folo करती है.

 

तीसरे टाइप की A.I है “सुपर A.I”
इस प्रकार की AI अभी कल्पना मात्र है.

इस प्रकार उच्च स्तरीय AI का उपयोग एक ऐसा रोबोट बनाने मे किया जाएगा जो खुद से इंसानों की प्रॉब्लम्स का समाधान निकाल कर उसे ठीक करेगा और उस पर काम करेगा.

इस प्रकार के रोबोट इंसानों की तरह बात कर सकेंगे और भावनाओं को भी समझ सकेंगे..
अभी इस प्रकार के AI पर रिसर्च चल रही है.

 

अब यदि working एरिया और क्रियाओ की बात की जाए तो इस आधार पर AI को 4 भागो मे बाटा गया है.

Advertisement

सबसे पहला है –

 

Type 1: Reactive machines.
इसका एक उदहारण है Deep Blue, जो की एक IBM chess program है . Deep Blue को कुछ इस प्रकार से design किया गया है की ये chess board के pieces को identify कर सकता है और उसके हिसाब से prediction कर सकता है.

 

लेकिन इसकी अपनी कुछ memory नहीं है जिससे ये अपने past move के बारे में याद नहीं रख सकता जो की ये future में इस्तमाल कर सके.

 

इस टाइप कर AI गेमिंग मे उपयोग किये जाते है. जैसे कार्ड बोर्ड, चैट बोट, चैस, रेसिंग कार games , फाइटिंग games.

 

 

AI का दूसरा टाइप है : Limited memory.

इस प्रकार के artificial intelligence systems अपने past experiences को इस्तमाल कर अपने future decisions को तय करते हैं.

इस प्रकार के AI का उपयोग बिना ड्राइवर का ऑटोमेटिक कार बनाने के लिए किया जा रहा है.

जिससे भविष्य मे सड़क दुसरघटनाए ना के बराबर हो जाएंगी.

भारत मे तो अभी ड्राइवर less कार अभी नहीं बनी. लेकिन अमेरिका और रशिया मे AI की अद्भुत टेक्नीक की मदद से ड्राइवर less कार बन चुकी है. और सड़को और दौड़ रही है.

 

AI का तीसरा Type है – Theory of mind.

ये एक साइकोलॉजी term है. ये एक hypothetical concept है.

इसमें AI का कांसेप्ट, ये दर्शाता है की दूसरों का अपना beliefs, desires and intentions होता है जो की उनके decisions में impact डालते हैं.

इस प्रकार के AI अभी इस दुनिया में मेह्जुद नहीं हैं.

यह एक उच्च स्तरीय AI टेक्नोलॉजी (एडवांस AI) है. जिस पर अभी टेस्टिंग चल रही है. इस प्रकार के AI को strong AI भी कहा जाता है.

Advertisement

अभी तक इस प्रकार के एडवांस लेवल के AI मे दुबई के वैज्ञानिको ने सफलता हासिल की. जिसकी मदद से उन्होंने सोफिया नाम की एक woman रोबोट बनाई है.

इस रोबोट को दुबई की नागरिकता (Citizenship) भी प्रदान की गई है.

सोफिया नाम की यह रोबोट उच्च स्तरीय strong AI की एक अद्भुत मिसाल है.

 

 

AI का चौथा, 4था टाइप है : Self-awareness.

इस category के अंतर्गत AI systems की खुद की self awareness होती है, अपनी एक consciousness होती हैं. जिन Machines की self-awareness होती हैं वो अपने current status को समझते हैं और उसी information को इस्तमाल कर ये समझते हैं की दुसरे क्या feel करते हैं.

 

इस प्रकार के AI (artificial intelligence)
अभी इस दुनिया में मौजूद नहीं हैं.

 

ये अभी एक काल्पनिक मात्र है. लेकिन भविष्य मे जल्दी ही इस प्रकार उच्च स्तरीय AI भी देखने को मिलेंगे. जिनकी मदद से ऐसे रोबोट बनाए जाएंगे जिनमे खुद मे इंसानों की तरह सोचने समझने, और फील करने की काबिलियत होगी.

 

तो दोस्तों ये थीं आर्टिफिशल इंटेलिजेंस और उसके टाइप्स. इन आर्टिफिशल इंटेलिजेंस artificial intelligence की वजह से टेक्नोलॉजी की दुनियां मे क्रांति आ रही है.

 

दोस्तों अब आप अच्छे से समझ ही गए होंगे की artificial intelligence kya hai?  इस पोस्ट को ज़ादा से ज़ादा लोगो मे शेयर करो.

 

मैं हरजीत मौर्या कल फिर से मिलूंगा एक नई जानकारी के साथ.

जीवन मे सही राह दिखाती ज्ञान से भरी अद्भुत कहानियों का विशाल संग्रह. 

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement

One thought on “artificial intelligence -AI- kya hai? | AI poori jankari

  1. भाई किआ बात है मजा आ गया इतनी भयंकर जानकारी बहुत अच्छा एक्सप्लेन किआ हिंदी मे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *