tulsi poojan | भूल कर भी मत चढ़ाना गणेश जी को तुलसी

tulsi poojan | भूल कर भी मत चढ़ाना गणेश जी को तुलसी

tulsi poojan –गणेश जी की पूजा मे ये विशेस ध्यान रखे की गणेश जी की पूजा मे तुलसी न चढ़ई

जाए। क्यो कि एक पौराणिक कथा के अनुसार गणेश जी और तुलसी जी ने एक दूसरे को श्राप दे

दिया था, तभी से गणेश भगवान कि पूजा मे तुलसी का प्रयोग नही किया जाता।

 

 

प्राचीन समय कि बात है। श्री गणेश जी गंगा के तट पर भगवान विषणु के घोर ध्यान मे लीन थी।
गले पर सुंदर माला और शरीर पर चन्दन लिपटा हुआ था और वह रत्न जड़ित सिंहासन पर
विराजित थी।
tulsi poojan
tulsi poojan
tulsi poojan
उनके मुख पर सूर्य सा तेज़ चमक रहा था वह बहुत ही आकर्षण पैदा कर रहे थी। इस
तेज को धर्मार्त्म्क कि कन्या तुलसी ने देखा और वह गणेश जी पर मोहित हो गई। 
तुलसी स्वय भी भगवान विषणु कि परम भक्त थी। तुलसी जी को लगा कि यह मोहित करने वाले
दर्शन भगवान इछ से ही हुए है। तुलसी जी ने गणेश जी से विवाह करने कि  इच्छा प्रकट की।
tulsi poojan
किन्तु गणेश जी ने कहा कि वह ब्रांहचरया कि जीवन व्यातीत कर रहे है। इसलिए वह विवाह के बारे
मे अभी बिलकुल नहीं सोच सकते। विवाह करने से उनके जीवन मे ध्यान और ताप कि कमी आ सकती है।
इस तरहा सीधे सीधे गणेश जी ने तुलसी जी के विवाह को ठुकरा दिया। तुलसी जी सहन नही कर
सकी और क्रोध मे आकर उन्होने गणेश जी को श्राप दे दिया कि तुम्हारी शादी तो अवशय्या
होगी और वो भी तुम्हारी इछ के बिना अब ऐसे वचन सुन कर गणेश जी भी चुप बैठने वाले नहीं
थी उन्होने भी तुलसी जी को श्राप दे दिया कि “तुम्हारी शादी एक दैत्य से होगी” 
tulsi poojan

 

tulsi poojan
tulsi poojan
यह सुन कर तुलसी को अतत्यन्त दुख और पश्चाताप हुआ। तुलसी ने गणेश जी से क्षमा मांग ली।
अब गणेश जी भी दया के सागर थे उन्होने बोला अब श्राप तो वापिस लिया नहीं जा सकता
किंतु मे एक वरदान देता हु और इस तरहा तुलसी को वरदान देते हुए गणेश जी ने कहा कि एक
दैत्य से विवाह होने के बाद भी तुम विष्णु कि अति प्रिय रहोगी और एक पवित्र पौधे के नाम से पूजी जाओगी।
tulsi poojan
विष्णु भगवान कि कोई भी पूजा तुम्हारे पत्ते के बिना पूरी नहीं मनी जाएगी चरणामृत मे तुम हमेशा
साथ रहोगी। मरने वाला यदि तुम्हारे पत्ते मुहं मे डाल लेगा तो उसे वैकुंठ धाम प्राप्त हो जाएगा
पौराणिक कथा
तुलसी का इतिहास पौराणिक कथाओ से जुड़ा है, पौराणिक काल में एक  लड़की थी जिसका नाम
वृंदा था। उसका जन्म राक्षस कुल में हुआ था। वृंदा बचपन से ही भगवान विष्णु जी की परम भक्त
थी। बड़े ही प्रेम से भगवान की पूजा किया करती थी।
जब वह बड़ी हुई तो उनका विवाह राक्षस कुल में दानव राज जलंधर से हो गया,जलंधर समुद्र से
उत्पन्न हुआ था। वृंदा बड़ी ही पतिव्रता वादी स्त्री थी, सदा अपने पति की सेवा किया करती थी।
tulsi poojan
tulsi poojan
tulsi poojan
एक बार देवताओं और दानवों में युद्ध हुआ जब जलंधर युद्ध पर जाने लगे तो वृंदा ने कहा -स्वामी
आप युद्ध पर जा रहे हैं आप जब तक युद्ध में रहेगें में पूजा में बैठकर आपकी जीत के लिए अनुष्ठान
करुंगी,और जब तक आप वापस नहीं आ जाते मैं अपना संकल्प नही छोडूगीं।
जलंधर तो युद्ध में चले गए और वृंदा व्रत का संकल्प लेकर पूजा में बैठ गई।उसकी इस सच्ची निष्ठा
वाले पूजा अनुष्ठान और संकल्प की वजह से जलंधर इतना ताकतवर हो गया था
या फिर ऐसा कह लो की वृन्दा की पूजा जलंधर की रक्षाकवच बन कर रक्षा कर रही थी जिस वजह
से देवता उस से जीत नही पा रहे थे, सारे देवता जब हारने लगे तो सब देवता भगवान विष्णु जी के
पास गए।
tulsi poojan
सबने भगवान से प्रार्थना की तो भगवान कहने लगे कि-वृंदा मेरी परम भक्त है मैं उसके साथ छल
नहीं कर सकता पर देवता बोले – भगवान दूसरा कोई उपाय भी तो नहीं है अब आप ही हमारी मदद
कर सकते हैं।
भगवान ने जलंधर का ही रूप रखा और वृंदा के महल में पहुंच गए जैसे ही वृंदा ने अपने पति को
देखा,वे तुरंत पूजा में से उठ गई और उनके चरण छू लिए इस तरहा से पूजा से हटने की वजह से
वृंदा का संकल्प टूट गया,
और उधर युद्ध में देवताओं ने जलंधर को मार दिया और उसका सिर काटकर अलग कर दिया। उनका
सिर वृंदा के महल में गिरा जब वृंदा ने देखा कि मेरे पति का सिर तो कटा पड़ा है तो फिर ये जो
मेरे सामने खड़े है ये कौन है?
उन्होंने पूछा– आप कौन हैं जिसका स्पर्श मैंने किया,तब भगवान अपने रूप में आ गए पर वे कुछ ना
बोल सके,वृंदा सारी बात समझ गई। वृंदा क्रोधित होकर भगवान को श्राप दे दिया की “आप पत्थर के
हो जाओ”,भगवान तुंरत पत्थर के हो गए।
सभी देवता हाहाकार करने लगे। लक्ष्मी जी रोने लगीं और प्राथना करने लगीं तब जा कर वृंदा जी ने
भगवान को वापस वैसा ही कर दिया और अपने पति का सिर लेकर वे सती हो गई।
tulsi poojan
Tulsi knowlwdge
उनकी राख से एक पौधा निकला तब भगवान विष्णु जी ने कहा- आज से इनका नाम तुलसी है,और
मेरा एक रूप इस पत्थर के रूप में रहेगा जिसे शालिग्राम के नाम से तुलसी जी के साथ ही पूजा
जाएगा और मैं बिना तुलसी जी के प्रसाद स्वीकार नहीं करुंगा।
तब से तुलसी जी की पूजा सभी करने लगे और तुलसी जी का विवाह शालिग्राम जी के साथ कार्तिक
मास में किया जाता है। देवउठनी एकादशी के दिन इसे तुलसी विवाह के रूप में मनाया जाता है।

यह आर्टिकल आपको कैसा लगा ? नीचे कमेंट करके जरूरु बताना। और इस जानकारी (article)को जादा से जादा लोगो तक शेर(share)करे ताकि उन तक भी यह  पहुच सके।

और यदि आपके पास भी कोईmotivational story , या कोई भी ऐसी ज़रूरी सूचनाजिसे आप लोगो तक पाहुचनाचाहते हो तो वो आप हमे इस मेल

(mikymorya123@gmail.com)पर अपमा नाम और फोटो सहितsendकर सकते है ।उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहा पर पोस्ट किया जाएगा जितना अधिक ज्ञान बाटोगे उतना ही अधिक ज्ञान बढेगा। धन्यवाद.

 

यहां click करे- जानिए क्या है तुलसी पूजा का महत्तव | क्यो ज़रूरी है तुलसी माता की पूजा | तुलसी पूजा के फायदे जानने के लिए यहा click करे और जानिए धर्म से जुड़े रोचक तथ्य 

 

 

 

 

 

यहा click करे –  जानिए हनुमान जी को सिंदूर क्यों चढ़ाया जाता है ? क्या सच्च मे हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाना सही है ? क्या प्रभाव पड़ता है हनुमान जो को सिंदूर लगाने से ? क्या हुआ था जब हनुमान जी पूरे शरीर मे सिंदूर लगा कर भगवान श्री राम जी के सामने आए थे? जानने के लिए यहा click करे और जानिए धर्म से जुड़े रोचक तथ्य 

 

 

 

 

यहां click करे- ऐसे करे शिव जी की पूजा होगी हर मनोकामना पूरी| शिव जी की पूजा मे ये लापरवाही कभी ना करे  जानने के लिए यहा click करे और जानिए धर्म से जुड़े रोचक तथ्य 

 

 

 

 

 

यहां click करे-  शिव चालीसा का  जीवन मे चमत्कारी प्रभाव | मौत को भी ताल दे | शिव चालीसा जाप करने का सही तरीका | कब ? – कैसे  कैसे करे जाप ? जानने के लिए यहा click करे और जानिए धर्म से जुड़े रोचक तथ्य 

 

 

 

यहा click करे – व्रत रखने से मन पर और जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है ?वेद – शास्त्रो  और  पुराणो मे  एकादशी का व्रत्त इतना खास क्यो माना गया है ? एकादशी के दिन चावल खाना या बनाना माना क्यो है ? कितने प्रकार के होते है एकादशी व्रत और चमत्कारी प्रभाव तथा लाभ मिलते है इनके ? click करे और इन सब सवालो का जवाब पाए जानने के लिए यहा click करे और जानिए धर्म से जुड़े रोचक तथ्य 

 

 

यहाँ  click करे – कर्मों का फल या दंड मिलता ही मिलता है ऐसी 4 कहानिया  जो आपको अच्छा कर्म करने के लिय मजबूर कर दे यहा click करे और जानिए धर्म से जुड़े रोचक तथ्य 

 

 

One thought on “tulsi poojan | भूल कर भी मत चढ़ाना गणेश जी को तुलसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!