tenali rama ki kahani | tenali raman stories

 tenali raman stories (तेनाली राम स्टोरीज़) – स्वागत है आपका ज्ञान से भरी रोचक कहानियों की इस दुनिया मे। दोस्तों जीवन मे कहानियों का विशेस महत्तव है | इन कहानियो के माध्यम से हमे बहुत कुछ सीखने को मिलता है | इनकहानियों के माध्यम से आपको ज़रूरी ज्ञान हासिल होंगे जो आपको आपकी लाइफ मे बहुत काम आएंगे | यहाँ पर बताई गई हर कहानी से आपको एक नई सीख मिलेगी जो आपके जीवन मे बहुत काम आएगी | हर कहानी मे कुछ न कुछ संदेश और सीख छुपी हुई है | तो ऐसी कहानियो को ज़रूर पढ़े और अपने दोस्तो और परिवारों मे भी शेयर करे 

 

तो चलिये शुरू करते है हमारी आज की कहानी

 

तेनाली राम की कहानियाँ |tenali raman stories in hindi 

 

कौन है तेनाली राम 

दोस्तों जैसे अकबर के समय मे , अकबर के दरबार मे  बीरबल जैसा एक बहुत बुद्धिमान इंसान हुआ करता था जिसकी बुद्धिमानी की कहानिया बहुत प्रचलित है । ठीक उसी प्रकार राजा कृष्णदेव राय के समय मे राजा कृष्णदेव राय  के दरबार मे एक बहुत ही बुद्धिमान मंत्री तेनाली राम जी हुआ करते थे । यह भी बीरबल की तरह बहुत बुद्धिमान थे और इनकी बुद्धिमता की कहनीय भी लोगो मे बहुत प्रचलती है | तो इन्ही की बुद्धिमानी के किस्से कहानियाँ हम आप लोगो तक लाए है |tenali ram stories

 

 

 

tenali raman stories तेनालीराम की कहानी -1: अंगूठी चो

महाराजा कृष्ण देव राय एक कीमती रत्न जड़ित अंगूठी पहना करते थे। जब भी वह दरबार में उपस्थित होते तो अक्सर उनकी नज़र अपनी सुंदर अंगूठी पर जाकर टिक जाती थी। राजमहल में आने वाले मेहमानों और मंत्रीगणों से भी वह बार-बार अपनी उस अंगूठी का ज़िक्र किया करते थे।

 

एक दिन उनकी यही अंगूठी खो जाती है राजा बहुत परेशान हो जाता है पर वह अंगूठी नहीं मिलती | राजा कृष्ण देव राय उदास हो कर अपने सिंहासन पर बैठे थे। तभी तेनालीराम वहाँ आ पहुंचे। उन्होने राजा की उदासी का कारण पूछा। तब राजा ने बताया कि उनकी पसंदीदा अंगूठी खो गयी है, और उन्हे पक्का शक है कि उसे उनके बारह अंग रक्षकों में से किसी एक ने चुराया है।

 

 

चूँकि राजा कृष्ण देव राय का सुरक्षा घेरा इतना चुस्त होता था की कोई चोर-उचक्का या सामान्य व्यक्ति उनके नज़दीक नहीं जा सकता था।

तेनालीराम ने तुरंत महाराज से कहा कि-

मैं अंगूठी चोर को बहुत जल्द पकड़ लूँगा।

यह बात सुन कर राजा कृष्ण देव राय बहुत प्रसन्न हुए। उन्होने तुरंत अपने अंगरक्षकों को बुलवा लिया।

 

यहां click करे- बाज़ का पुनरजन्म- आखिर बाज़ ने ऐसा क्यो किया| जानिए बज़ की ज़िंदगी (life) का एक अनोखा सच्च | जिससे आपको बहुत motivation मिलेगा |ज़रूर शेयर करे अपने  whatsapp ग्रुप  पर अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को |

 

तेनालीराम बोले, “राजा की अंगूठी आप बारह अंगरक्षकों में से किसी एक ने की है। लेकिन मैं इसका पता बड़ी आसानी से लगा लूँगा। जो सच्चा है उसे डरने की कोई ज़रुरत नहीं और जो चोर है वह कठोर दण्ड भोगने के लिए तैयार हो जाए।”

तेनालीराम ने बोलना जारी रखा, “आप सब मेरे साथ आइये हम सबको काली माँ के मंदिर जाना है।”

राजा बोले, ” ये क्या  कर रहे हो तेनालीराम , हमें चोर का पता लगाना है मंदिर के दर्शन नहीं करने हैं!”

तेनाली राम बोले – “महाराज, आप धैर्य रखिये जल्द ही चोर का पता चल जाएगा।”, तेनालीराम ने राजा को सब्र रखने को कहा। 

tenali raman stories in hindi

 

मंदिर पहुँच कर तेनालीराम पुजारी के पास गए और उन्हें कुछ निर्देश दिए। इसके बाद उन्होंने अंगरक्षकों से कहा, ” आप सबको बारी-बारी से मंदिर में जा कर माँ काली की मूर्ति के पैर छूने हैं और फ़ौरन बाहर निकल आना है। ऐसा करने से माँ काली आज रात स्वप्न में मुझे उस चोर का नाम बता देंगी।

 

 

अब सारे अंगरक्षक बारी-बारी से मंदिर में जा कर माता के पैर छूने लगे। जैसे ही कोई अंगरक्षक पैर छू कर बाहर निकलता तेनालीराम उसका हाथ सूंघते आर एक कतार में खड़ा कर देते। कुछ ही देर में सभी अंगरक्षक एक कतार में खड़े हो गए।tenali raman stories

महाराज बोले, “चोर का पता तो कल सुबह लगेगा, तब तक इनका क्या किया जाए?”

नहीं महाराज, चोर का पता तो लग चुका है। सातवें स्थान पर खड़ा अंगरक्षक ही चोर है।

 

ऐसा सुनते ही वह अंगरक्षक भागने लगा, पर वहां मौजूद सिपाहियों ने उसे धर दबोचा, और कारागार में डाल दिया.

राजा और बाकी सभी लोग आशार्यचाकित थे कि तेनालीराम ने बिना स्वप्न देखे कैसे पता कर लिया कि चोर वही है।

 

 

तेनालीराम सबकी जिज्ञासा शांत करते हुए बोले,”मैंने पुजारी जी से कह कर काली माँ के पैरों पर तेज सुगन्धित इत्र छिड़कवा दिया था। जिस कारण जिसने भी माँ के पैर छुए उसके हाथ में वही सुगन्ध आ गयी। लेकिन जब मैंने सातवें अंगरक्षक के हाथ सूंघे तो उनमे कोई खुशबु नहीं थी… उसने पकड़े जाने के डर से माँ काली की मूर्ति के पैर छूए ही नहीं। इसलिए यह साबित हो गया की उसी के मन में पाप था और वही चोर है।”

tenali raman stories in hindi

राजा कृष्ण देव राय एक बार फिर तेनालीराम की बुद्धिमत्ता के कायल हो गए। और उन्हें स्वर्ण मुद्राओं से सम्मानित किया।

 

 

यहाँ click करे – बीरबल के बेटे ने ऐसे दिया अकबर के इन तीन सवालो का जवाब ॥ 

 

 

tenali rama ki kahani

 

tenali raman stories तेनालीराम की कहानी – 2: कुछ नहीं

तेनालीराम राजा कृष्ण देव राय के निकट होने के कारण बहुत से लोग उनसे जलते थे। उनमे से एक था रघु नाम का ईर्ष्यालु फल व्यापारी। उसने एक बार तेनालीराम को षड्यंत्र में फसाने की युक्ति बनाई।

 

उसने तेनालीराम को फल खरीदने के लिए बुलाया। जब तेनालीराम ने उनका दाम पूछा तो रघु मुस्कुराते हुए बोला,

“आपके लिए तो इनका दाम ‘कुछ नहीं’ है।”

यह बात सुन कर तेनालीराम ने कुछ फल खाए और बाकी थैले में भर आगे बढ़ने लगे। तभी रघु ने उन्हें रोका और कहा कि मेरे फल के दाम तो देते जाओ।

तेनालीराम रघु के इस सवाल से हैरान हुए, वह बोले कि अभी तो तुमने कहा की फल के दाम ‘कुछ नहीं’ है। तो अब क्यों अपनी बात से पलट रहे हो। तब रघु बोला की, मेरे फल मुफ्त नहीं है। मैंने साफ-साफ बताया था की मेरे फलों का दाम कुछ नहीं है। अब सीधी तरह मुझे ‘कुछ नहीं’ दे दो, वरना मै राजा कृष्ण देव राय के पास फरियाद ले कर जाऊंगा और तुम्हें कठोर दंड दिलाऊँगा।tenali rama ki kahani

 

 

तेनालीराम सिर खुझाने लगे। और यह सोचते-सोचते वहाँ से अपने घर चले गए।

उनके मन में एक ही सवाल चल रहा था कि इस पागल फल वाले के अजीब षड्यंत्र का तोड़ कैसे खोजूँ। इसे कुछ नहीं कहाँ से लाकर दूँ।

अगले ही दिन फल वाला राजा कृष्ण देव राय के दरबार में आ गया और फरियाद करने लगा। वह बोला की तेनाली ने मेरे फलों का दाम ‘कुछ नहीं’ मुझे नहीं दिया है।

 

राजा कृष्ण देव राय ने तुरंत तेनालीराम को हाज़िर किया और उससे सफाई मांगी। तेनालीराम पहले से तैयार थे उन्होंने एक रत्न-जड़ित संदूक लाकर रघु फल वाले के सामने रख दिया और कहा ये लो तुम्हारे फलों का दाम।

 

tenali raman stories in hindi

 

उसे देखते ही रघु की आँखें चौंधिया, उसने अनुमान लगाया कि इस संदूक में बहुमूल्य हीरे-जवाहरात होंगे… वह रातों-रात अमीर बनने के ख्वाब देखने लगा। और इन्ही ख़यालों में खोये-खोये उसने संदूक खोला।

 

tenali raman stories

संदूक खोलते ही मानो उसका खाब टूट गया, वह जोर से चीखा, ” ये क्या? इसमें तो ‘कुछ नहीं’ है!”

तब तेनालीराम बोले, “बिलकुल सही, अब तुम इसमें से अपना ‘कुछ नहीं’ निकाल लो और यहाँ से चलते बनो।”

वहां मौजूद महाराज और सभी दरबारी ठहाका लगा कर हंसने लगे। और रघु को अपना सा मुंह लेकर वापस जाना पड़ा। एक बार फिर तेनालीराम ने अपने बुद्धि चातुर्य से महाराज का मन जीत लिया था।tenali raman stories

 

 

यहां click करे-motivational story IN HINDI | दूसरों की life को अच्छा बोलने वाले इसे ज़रूर पढ़े

 

tenali raman stories in hindi

 

 तेनालीराम की कहानी -3: जादूगर का घमंड

एक बार राजा कृष्ण देव राय के दरबार में एक जादूगर आया। उसने बहुत देर तक हैरतअंगेज़ जादू करतब दिखा कर पूरे दरबार का मनोरंजन किया। फिर जाते समय राजा से ढेर सारे उपहार ले कर अपनी कला के घमंड में सबको चुनौती दे डाली-

 

tenali rama ki kahani

 

क्या कोई व्यक्ति मेरे जैसे अद्भुत करतब दिखा सकता है। क्या कोई मुझे यहाँ टक्कर दे सकता है?

इस खुली चुनौती को सुन कर सारे दरबारी चुप हो गए। परंतु तेनालीराम को इस जादूगर का यह अभिमान अच्छा नहीं लगा। वह तुरंत उठ खड़े हुए और बोले कि हाँ मैं तुम्हे चुनौती देता हूँ कि जो करतब मैं अपनी आँखें बंद कर के दिखा दूंगा वह तुम खुली आंखो से भी नहीं कर पाओगे।

 

अब बताओ क्या तुम मेरी चुनौती स्वीकार करते हो?

जादूगर अपने घमंड में अंधा  था। उसने तुरंत तेनालीरम की  इस चुनौती को स्वीकार कर लिया।

तेनालीराम ने रसोइये को बुला कर उससे मिर्ची का पाउडर मंगवाया। अब तेनालीराम ने अपनी आँखें बंद की और उनपर एक मुट्ठी मिर्ची पाउडर डाल दिया। फिर थोड़ी देर में उन्होंने मिर्ची पाउडर झटक कर कपड़े से आँखें पोंछ कर शीतल जल से अपना चेहरा धो लिया। और फिर जादूगर से कहा कि अब तुम खुली आँखों से यह करतब करके अपनी जादूगरी का नमूना दिखाओ।

 

 

घमंडी जादूगर को अपनी गलती समझ आ गयी। उसने माफी मांगी और हाथ जोड़ कर राजा के दरबार से चला गया।

राजा कृष्ण देव राय अपने चतुर मंत्री तेनालीराम की इस युक्ति से अत्यंत प्रभावित हुए। उन्होने तुरंत तेनालीराम को पुरस्कार दे कर सम्मानित किया और राज्य की इज्जत रखने के लिए धन्यवाद दिया।tenali rama ki kahani

 

hindi short stories with moral

 

 

दोस्तों ये कहानी आपको कैसी लगी? दोस्तो इस कहानी (motivational story) से आपको क्या सीख मिलती है ? नीचे कमेंट करके जरूरु बताना। और इस जानकारी (article) को जादा से जादा लोगो तक शेयर करना ताकि उन तक भी यह  पहुच सके।

 

और यदि आपके पास भी कोई motivational story  , या कोई भी ऐसी ज़रूरी सूचना  जिसे आप लोगो तक पहुचाना   चाहते हो तो वो आप हमे इस मेल (mikymorya123@gmail.com) पर अपमा नाम और फोटो सहित send कर सकते है ।  उसे हम आपके द्वारा सेंद की हुई article के साथ लगा कर यहा पोस्ट करेंगे जितना अधिक ज्ञान बाटोगे उतना ही अधिक ज्ञान बढेगा। धन्यवाद.

 

यहा click करे- Elon Musk real life inspirational stories in hind एक ऐसी कहानी जो सीने मे कामयाबी की आग जला दे

 

यहां click करे- सीने मे कामयाबी की आग लगा देने वाली motivational story for success in Hindi | Bill Gates| बिल गेट्स एक ऐसा नाम – एक ऐसा इंसान जिसके जीवन की कामयाबी से हमारे सपनों को एक नई उम्मीद मिलती है  | होसले फिर से जी उठते है | ज़रूर परहे और अपने दोस्तो को शेयर करे | 

 

tenali rama ki kahani

 

यहां click करे- सीने मे कामयाबी की आग लगा देने वाली amazon के संस्थापक jeff bezos की real life inspirational stories in hindi| एक ऐसे कहानी जिसके जीवन से हमे अपने सपनों को सच कर दिखाने  विश्वास जाग उठता है | 

 

 

यहा click करे – जानिए क्या है सफलता का राज़ जो हर success full इंसान अपनी लाइफ मे इस्तेमाल करता है | secret of success| सफला के इसी राज़ को जानने के बाद वो अपनी लाइफ मे इसे  अपना रहे है और अपने मुकाम को हासिल कर रहे है | जानिए कौन से है वो राज़ ?

 

 यहां click करे-  ऐसे   विचार (thoughts) जो आपकी  life बदल देगी ||ज़िंदगी जीने का नज़रिया बदल देगी ||आपके सोचने का तरीका in hindi   

 

moral story in hindi

 

यहां click करे- ऐसे motivational thoughts quotes in hindi for success जो आपकी ज़िंदगी बादल देगी| आपकी सोच मे एक सकारात्मक ऊर्जा (positive energy) भर दे बुरे विचारो को मन से हमेशा के लिए खत्म कर देगी 100% गारेंटी|

 

 

 

यहां click करे- Independence Day- स्‍वतंत्रता दिवस के इस खास मौके पर आप सब लोगो के लिये दिल को छू जाने वाली शायरियाँ-messgages और साथ मे जाने की – कैसे बना था भारत गुलाम कैसे मिली आज़ादी? ज़रूर शेयर करे अपने  whatsapp ग्रुप  पर अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को 

 

 

moral story in hindi

 

 

यहां click करे- motivational story for success |क्या है सभ्य होने का असली अर्थ|

 

यहां click करे- बढ़ई और लोहार की motivational story in hindi

 

यहां click करे-पति पत्नी का बलिदान | motivational story in hindi

 

यहां click करे-motivational story in hindi | कहनी एक अंधी लड़की की

 

 

यहां click करे-kaise bna ek रिक्शेवाले  का बेटा IAS officer

 

यहां click करे-motivational for success 90% समस्या का हल

 

यहां click करे- motivational story | फकीर बाबा

 

यहां click करे-motivational story IN HINDI | दूसरों की life को अच्छा बोलने वाले इसे ज़रूर पढ़े

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!