what is corona vairus कैसे हुआ पैदा

what is corona vairus– जैसा की आप सब लोग आए दिन न्यूज़ मे देख ही रहे है की कैसे कोरोना वायरस (corona virus) ने पूरी दुनिया मे अपना आतंक मचा रखा है|

सबसे पहले यह वायरस चीन के विहान शहर से शुरू हुआ था फिर देखते ही देखते इस वायरस ने न सिर्फ पूरे चीन को बल्कि कई और भी देशों को अपनी चपेट मे लेकर मौत का तांडव मचाने के बाद अब भारत मे भी अपने पैर पसारने लगा है |

 

मरने वालों की संखा 1 लाख से पार 14 मार्च 2020

अब तक यह वायरस चीन मे 50 हजार से भी जादा लोगो को मौत के घाट उतार चुका है | यदि पूरी दुनिया की बात जाए तो इस वायरस से  अब तक 1 लाख से भी अधिक लोगो की जान जा चुकी है | 

 

अब यह  वायरस भारत मे भी अपनी दस्तक दे चुका है | विदेशों से वापिस लौटे भारत के लोगो की जब जांच की गई  तो कुछ लोग इस वायरस से infected पाए गए | जिसका इलाज अब तक जारी है | 

 

बहुत से देशो मे यह वायरस भयंकर महामारी का रूप ले चुका है |

 

coronavairus अब भारत मे भी अपने पैर पसारने लगा है-7 दिन मे मौत की नींद –

जी हाँ 7 दिन के अंदर उपयुक्त इलाज न मिलने पर कम इम्युनिटी वाले इंसान को मौत की नींद सुला देने वाला यह  कोरोना (coronavairus) अब भारत मे भी अपने पैर पसारने लगा है 

 

भारत मे अब तक 70 मरीज इस वायरस (corona virus) से संक्रमित पाए गए है or दो लोगो की इस वाइरस से मौत हो चुकी है |

 

भारत मे इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार और हैल्थ ओर्गेनाजेशन द्वारा कड़े कदम उठाए जा रहे है |

न्यूज़ और सोशियल मीडिया का सहारा लेकर  जादा से जादा लोगो को इस वायरस की जानकारी इससे बचने के उपाय के बारे बताया  जा रहा है |

 

भारत मे 84 तक पहुंची संख्या 

15 मार्च 2020 की रिपोर्ट के अनुसार  अब तक भारत मे कोरोना (coronavairus) से पीड़ित मरीजों कि संख्या 84 तक पहुँच चुकी थी जिसमे से 14 मरीजों का इलाज सफलता पूर्वक हो चुका  है इसलिए अब 74 मरीज ही है जिनका इलाज चल रहा है|

 

 

 

  • आखिर क्या है यह वायरस ? ,
  • कैसे पैदा हुआ ?
  • कहाँ से शुरू हुआ फैलना ?
  • कैसे पता चलेगा की इंसान इस वायरस से संकमित है ? क्या लक्षण है इस वायरस के ?
  • कैसे बचाव किया जा सकता है इस वायरस से खुद का ? 
  • सबसे पहले क्या करे यदि इसके लक्षण नजर आए तो ? 
  • क्या भारत के डोकटरों ने इसका इलाज ढूंढ लिया है ?
  • कैसे करते हैं डॉक्टर कोरोना वायरस से पीड़ित मरीज का  इलाज ?

 

तो चलिये इन सब सवालों के जवाब जानते है स्टेप to स्टेप 

 

what is corona vairus कैसे , कहाँ से  हुआ पैदा हुआ कोरोना वायरस 

 

इस वायरस का पूरा नाम और इतिहास |

 

इस वायरस (coronavirus) का पूरा नाम हुमन करोना वायरस (human coronavirus) हैं जो की जानवरो से इंसानों मे फैलता हैं. वैज्ञानिको के मुताबिक यह वायरस खास तौर पर सर्दियों मे सक्रिय होता हैं.

 

कोरोना वायरस की पहचान पहली बार 1960 के दशक मे हुई थी.

अब तक इसकी 6 किस्मों की पहचान की जा चुकी हैं. लेकिन अब जिस कोरोना  प्रजाति के वायरस ने आतंक मचाया हैं वो बिल्कुल नया हैं.

 

कैसा दिखता है यह वायरस – corona vairus 2020 –

 

coronavairus

 

जनवरी 2020 से ही इस वायरस (coronavirus) को लेकर  चीन सहित कई देशों मे शोध प्रक्रिया जोरो से जारी थी  जिसमे इस (coronavirus) वायरस से संक्रमित व्यक्ति को बचाने की वेक्सीन तैयार करने पर शोध चल रहा  था |

 

मार्च 2020 मे चीन सहित कई 3 और देश भी कोरोना के इलाज की दवा बनाने मे सफल रहे |

 

सऊदी अरब और जापान मे एक महीने से इस coronavirus की तेजी से लगातार शोध प्रक्रिया जारी थी  ताकी इसका उचित  इलाज ढूंढा जा सके |

 

क्या है यह इलाज | दवाई – कोरोना वायरस ट्रीटमंट 2020

 

भारत मे कोरोना से पीड़ित मरीजो का  सफलता पूर्वक इलाज करने की सबसे जादा चौका देने वाली खबर राजस्थान के जयपुर से आई |

यहा सवाई मानसिंह अस्पताल के डोकटरों ने इस बात का दावा किया है की कोरोना के 4 मरीजो मे से तीन तो एड्स की दवा से ही ठीक कर दिया गया है |

इन तीन मरीजो मे 2 इटली के है जबकि 1 जयपुर का ही रहने वाला था |

इस इलाज को लेकर यहाँ के डोकटरों का कहना है की शोध मे पाया गया है की कोरोना वायरस के मोलुकुलर का जो स्ट्रक्चर है वो 99% एड्स के स्ट्रक्चर से मेल खाते है | जिसके चलते हमने HIV ड्रग्स का कॉकटेल तैयार किया | 

इस ट्रीटमेंट से 4 मरीज कोरोना मुक्त हो चुके है | उनके बॉडी सेल्स से कोरोना बिलकुल खत्म हो चुका है | हलकी इन मरीजो को अब भी 10 दिन तक हॉस्पिटल मे ही रखा जाएगा |

 

राजस्थान के स्वास्थ्य विभाग के एडिशनल चीफ मंत्री ने कोरोना के मरीजो को जिस दवा से ठीक करने का दावा किया है उससे पूरी दुनिया मे इस गहरे से विचार किया जा रहा है |

 

राजस्थान के स्वास्थ्य विभाग का दावा हा की उनके डॉक्टर्स ने कोरोना के मरीजो को एड्स , स्वाइन्फ़्लु और मलेरिया की दवाओं के कांबिनेशन की एक खास दावा दी गई  जीमे खास बात यह है की दवाओं का यह कांबिनेशन काम भी कर गया |

पूरा जानने के लिए क्लिक करे 

 

coronavairus

 

अब तक इस शोध मे सामने आया हैं की यह वायरस सार्स (SARS) और मर्स (MERS) जैसे उन जानलेवा खतरनाक वायरस  की फैमिली से सबंध रखता हैं जिन्होंने 2003 मे, अमेरिका, चीन, सऊदी अरब, वियतनाम, और जापान जैसे कई बड़े देशों को अपनी चपेट मे लेकर लाखो लोगो को मौत की नींद सुला दिया था.

 

WHO की रिपोर्ट के अनुसार यह जानवरो से फैलने वाला एक प्रकार का सक्रमण हैं.  जो की एक भयंकर महामारी की तरह है |

 

आखिर कहाँ से और कैसे फैला यह कोरोना वायरस (coronavirus) ?.

हलाकि अभी तक इसकी कोई पुख्ता जानकारी सामने नहीं हैं.

लेकिन इसको लेकर जाँच के अनुसार कई प्रकार की अलग बाते सामने आई हैं जिसमे ये दावा किया जा रहा हैं की यह वायरस चीन के वोहान राज्य के एक नॉनवेज मार्किट से फैला हैं.

इंटरनेशनल मिडिया के अनुसार मिली जांच के रिपोर्ट मे पाया गया हैं की इस मार्किट से बेचे गए जंगली जानवरो के शरीर मे यह वायरस पाया गया था.

वही एक अलग जानकारी मे बात सामने आई की यह वायरस साँपो और चमगादड़ों के द्वारा इंसानों तक पहुंचा हैं.

 

यहाँ से हुई शुरुआत -corona vairus starting

 

वही दूसरी ओर चीन के सरकारी सलाहकार जॉन ननशान ने बिज्जू और चूहों के जरिये इस वायरस के फैलने की आशंका जताई हैं.

 

एक अलग जाँच रिपोर्ट मे यह बात सामने आई जिसमे ये बताया गया की – चमगादड़ का सूप आम बात तो नहीं लेकिन चीन के वुहान शहर मे चमगादड़ का सूप एक बहुत पॉपुलर ड्रिंक हैं .

 

WHO की 2019 वाली रिपोर्ट से यह पता चला की यह वायरस एक पैथोजन हैं, पैथोजन एक प्रकार इन्फेक्शन एजेंट होता हैं जो बीमारियां produse करता हैं आम तौर पर आप इसे जम्स और कीटाणु के तौर पर भी समझ सकते हैं.

 

 

 

आखिर कोरोना वायरस को फैलने से रोका क्यो नहीं जा सका ?

चीन के वुहान मे जो व्यक्ति इस वायरस से संक्रमित होता था तो उसमे सर्दी जुकाम सर दर्द जैसे आम बीमारियों वाले लक्षण देखने को मिलते थे जिस वजह से उस समय यह जान पाना बहुत मुश्किल था की यह एक कोरोना वायरस की वजह से हो रहा है | 

 

इसके बाद लोगो को इसकी कोई जानकारी न होने की वजह से वह इसे एक आम बीमारी समझ कर नजर अंदाज करते रहे और बिना कोई मेडिकल चेकप करवाए  मेडिकल स्टोर से सामान्य जुखम बुखार पैन किल्लार की दवाइयाँ ले कर खाते रहे | नतीजा यह हुआ की यह वायरस एक के बाद एक लोगो मे फैलता गया |

 

 

इसके 20 दिसंबर को जब इस समस्या के चलते एक के बाद एक  11 लोगो के मरने की बात सामने आई तो लोगो को समझ नहीं आरहा था की मौते क्यो हो रही है | 

 

वायरस से संक्रमित लोग जब  4 दिन बाद दवाइयों से ठीक न हुए तो और हालात ओर भी जादा बत्तर होते गए तो हॉस्पिटल मे यकायक मरीजो की संख्या बढ़ने लगी |

 

ब्लड रिपोर्ट मे निकल कर आया कोरोना वायरस- 28 दिसंबर 2020 

डॉक्टरों ने इन लोगो के के जब ब्लड का टैस्ट किया तो उसमे निकाल कर आया की यह तो कोरोना परिवार का एक नया वायरस है |

हॉस्पिटल आए सभी मरीजो की एक जैसी हालत देख कर वह समझ गए की इनमे कोरोना वायरस फैला हुआ है जो की इंसानों से इंसान मे तेजी से फैल रहा है |

 

तब डॉक्टर समझ गए  की इतनी मौते क्यो हो रही है | तुरंत डॉक्टरों ने सभी को मास्क पहनने को कहा और उन सभी मरीजो को दूसरी जगह शिफ्ट करवाया गया |ताकि यह वायरस और लोगो मे ना फैल जाए |

 

अब डॉक्टरों ने यह रिपोर्ट सभी होस्पिटल्स मे भेजी और पूरे शहर के प्रशासन के साथ संपर्क कर एक मीटिंग बुलवाई गई की पूरे इस वायरस को लोगो मे फैलने से रोकने के  लिए जल्दी ही कोई कड़े कदम ना उठाए गए तो यह पूरे चीन को मौत की नींद सुला देगा |

 

बहुत देर हो चुकी थी  –29 जनवरी 2020

अब इससे पहले की लोगो को इस वायरस के लक्षण बता कर सतर्क किया जाता तब तक बहुत देर हो चुकी थी बहुत से लोगो को यह वायरस अपनी चपेट मे ले चुका था |

corona vairus

हालात को देखते हुए प्रशासन ने कड़े कदम उठाए और लोगो को मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया | 

लोगो को घरो मे रहने ही हिदायते दी गई | साफ सफाई पर ध्यान देने को कहा गया | टीवी चेनल्स और सोशियल मीडिया की हेल्प से लोगो को इस वायरस के लक्षण के बारे बताया गया |

 

 

 

शुरू हुआ कोरोना को खत्म करने का शोध – 5 जनवरी 2020 

इसके बाद वेज्ञानिक कोरोना वायरस को मिटाने की दवा पर गहन शोध करने लगे |

corona vairus

 

अन्य देशों मे कैसे फैला यह वायरस ?

चीन मे आए  बहुत से विदेशी और दार्शनिक लोग भी इस वायरस से संक्रमित हो चुके थे लेकिन उस समय यह किसी को नहीं पता था की यह सब कोरोना वायरस की वजह से हो रहा वो सब इसे बस एक आम बीमारी समझ कर नजरंदाज करते हुए अपने अपने देश लौट गए | 

इस तरह वहाँ भी यह वायरस यानि लगभग 143 देश तक यह वायरस पहुँच गया जिसमे भारत भी शामिल है |

 

corona vairus

 

चलिए जानते हैं इस कोरोना वायरस (coronavirus) के लक्षण क्या हैं?2020

 

इस कोरोना वायरस (coronavirus) से संक्रमित /पीड़ित व्यक्ति के अंदर बिल्कुल सीज़नल बिमारियों की तरह सर्दी जुकाम खासी हल्का बुखार जैसे ही लक्षण देखने को मिलते हैं.

 

इसी वजह से जब शुरू मे इस संक्रमण से पीड़ित लोगो ने आम सीजनल बीमारी समझकर इसे नजरअंदाज किया और बिना जांच कराए मेडिकल स्टोर से दवाई लें कर खा ली. जिसके चलते कोई आराम ना आया और यह वायरस तेजी से अपना असर दिखाता गया और लोग मरते गए.

 

शुरुआत मे डॉक्टर भी संक्रमित व्यक्ति को बिना जांच के इसे पहचान नहीं पा रहे थे.

लेकिन अब तेज़ी से इसके लक्षण दिखाई देने वाले लोगो की जाँच और चिक्तिसा की जा रही हैं.

कोरोना वायरस से पीड़ित व्यक्ति के अंदर यह सभी लक्षण एक साथ देखने को मिलते हैं –

  • 1. सर दर्द होना
    2.बार बार खासी आना
    3.बुखार का आना और उतरना
    4.निमोनिया की शिकायत
    5.अधिक थकान महसूस होना
    6. फेफड़ो मे सूजन आना जैसी समस्याए सामने आती हैं.

 

शुरुआत मे खांसी -जुकाम-और सरदर्द जैसे लक्षण ही दिखाई देते है जो जल्दी पूरी शरीर को अपनी आगोश मे लेकर साँसो को जाम कर देती है

 

जिससे दिल दिल की धड़कन रुकने से दिमाग तक रक्त नहीं पहुँच पता जिसके चलते मरीज तुरंत बेहोश हो कर वही गिर जाता है और मरीज की तुरंत मौत हो जाती है |

 

 

भारत सरकार इस कोरोना वायरस (coronavirus) को ले कर क्या कड़े कदम उठा रही है |

तेजी से फैलते हुए इस वाइरस के संक्र्मन को ध्यान मे रख कर भारत सरकार  20 जनवरी 2020 से हरकत मे आ चुकी थी  |

अब भारत मे भी इस वायरस के आने की सम्भावना काफ़ी बढ़ चुकी थी जिसे  लेकर भारत मे सब लोग डरे हुए थे . भारत सरकार ने इस वायरस को लेकर नेशनल एयरपोर्ट पर मेडिकल जांच के सुरक्षा इंतजाम करवा दिये थे 

 

अभी  जल्दी मे भारत के दिल्ली और पटना राज्य से इस वाइरस से पीड़ित व्यक्तियों की रिपोर्ट सामने आई है | जिसके चलते हर सरकारी अस्पतालों मे सुरक्षा के कड़े इंतजाम करवा दिये गए है | और हर सरकारी अस्पतालों मे अलग वार्ड (जांच केंद्र) बना दिये गए है |

 

अब ऐसे मे यदि कोरोना वायरस से इन्फेक्टेड देशों से कोई भी फ्लाइट भारतीय एयरपोर्ट पर पहुँचती हैं तब तुरंत उस फ्लाइट के लोगो को एक मेडिकल जाँच की प्रक्रिया से होकर गुजरना होगा.

 

 

कैसे पहुंचा कोरोना वायरस भारत मे-

27 फरवरी तक देश के 12 एयरपोर्ट पर विदेशो से आरहे भारतियों और विदेशियों मे लगभग 812 लोगो की मेडिकल जांच की जा चुकी थी . जिसमे से अब तक कोई भी कोरोना वायरस से इन्फेक्टेड केस सामने नहीं आया था . डॉक्टरों की तरफ से अब तक सब रिपोर्ट पॉजिटिव बताई जा रही थी 

 

इसके बाद चीन मे फंसे कोरोना वायरस से पीड़ित भारतीय मरीजो को जब हरत लाया गया तो उन्हे तुरंत हॉस्पिटल इलाज के लिए एड्मिट करवाया गया |

 

 

 

इसके इलावा सरकार ने भारत के कई अस्पतालो को आइसोलेशन बोर्ड भी तैयार रखने को कहा हैं.

 

 

चलिये जानते है की आखिर भारत मे कैसे पहुंचा यह कोरोना वायरस (coronavirus)

 

 

भारत मे भी यह वाइरस दस्तक दे चुका है इस बात का पता तब चला जब भारत से चीन गए  दो विद्यार्थी मेडिकल की पढ़ाई कर वापिस आए | तब मुंबई एयरपोर्ट पर इन दोनों का मेडिकल test किया गया तब टेस्ट रिपोर्ट चौका देने वाली थी | 

चीन मे भारत के बहुत से छात्र  ऐसे है जो मेडिकल की पढ़ाई कर रहे है |

जी हाँ यह दोनों विद्यार्थी कोरोना वायरस (coronavirus) से पीड़ित पाए गए |

 

वहीं दूसरी तरफ बिहार छपरा जिले मे भी दो मरीजो मे कोरोना वायरस (coronavirus) के संकर्मण होने की पुष्टि की गई है जिन्हे अस्पताओं मे एड्मिट कर दिया गया और लगातार जांच जारी है |

 

इसके बाद भारत मे जानवरो का मांस खाने वाले कई लोगो मे यह वायरस फ़ेल गया जिस वजह से भारत मे भारत मे इस वायरस से पीड़ित लोगो की संख्या बढ़ने लगी |

इस घटना के चलते भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से कड़े निर्देश जारी किए गए है |

जिसके चलते सरकार ने इस वाइरस सो फैलने से रोकने और बचने के लिए  भारत के 7 एयरपोर्ट्स पर बड़ी व्यवस्थाएँ की है |जिसमे चीन से भारत आने वाले यात्रियों के मेडिकल जांच करने के निर्देश दिये गए है |

दिल्ली मुंबई चेन्नई हैदराबाद कोच्चि और कोलकाता एयरपोर्ट (हवाई अड्डो पर ) पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है |

 

 

 

 

कोरोना वायरस (corona virus) से बचने के 10 अद्भत उपाय

corona vairustreatment in hindi

सबसे पहला उपाय है हवन यानी यज्ञ करना |

क्योकि यज्ञ की  अग्नि से निकला हुआ धुआँ बहुत अद्भुत होता है वह धुआँ आस पास के वतरवारण मे फैले गंदे बेक्टीरिया को पूरी तरह से खत्म कर देता है औए एक सकारात्मक ऊर्जा चरो तरफ फ़ेल जाती है वातावरण शुद्ध हो जाता है |

 

यज्ञ के दौरान किए जाने वाले मंत्रो का उच्चारण पूरे वातावरण मे एक सकारात्मक ऊर्जा फैला देता है | ऐसे मे कोरोना वायरस (corona virus) को अपने घर और घर के आस पास के वातावरण मे फैलने से रोका जा सकता है |

 

 

दूसरा उपाय है लौंग और कपूर –

जी हाँ लौंग और कपूर मे एंटीबेक्टीरियल गुण पाए जाते है |इसको जलाने से आस पास का वातावरण शुद्ध हो जाता है बुरे बेक्टीरिया खत्म हो जाते है | इसे आप एक छोटे से कपड़े मे बांध कर अपने पास रख सकते है इससे वायरस आपके पास नहीं आएंगे | 

लौंग और कपूर
coronavairus

लॉन्ग और कपूर की खुशबू मे बुरे सेबुरे बेक्टीरिया का नाश करने क्षमता होती है |

 

 

कोरोना वाइरस (corona virus) से बचने के लिए कुछ जरूरी हदायतें और tips

 

लोगो को इस वायरस से बचने की जरूरी हिदायते दी जा रही है | टीवी चेनल्स और मोबाइल मैसेज के द्वारा जादा से जादा लोगो को इस वायरस से बचने की जरूरी हिदायते दी जा रही है |

 

 

  • जब भी आप कहीं बाहर से आए तो अपने हाथो को हैंड वाश से अच्छे से जरूर धो लें क्यों की कई बार हम बाहर किसी भी पब्लिक प्लेस पर ऐसी कॉमन सी चीजों को हाथ लगा लेते है जिसे हर कोई छू चुका होता है जैसे किसी दरवाज़े का हेंडल, बस का हेंडल गेट, या कुछ भी.

 

  • ज़ादा से ज़ादा कोशिश करे की किसी से हाथ ना मिलाए..उसे नमस्कार ही करे.

 

  • घर से बाहर या घर मे किसी भी बीमार व्यक्ति से बात करते समय मुँह पर मास्क लगा कर रखे.उस

 

  • व्यक्ति से बात करते समय 10 इंच की दूरी बना कर रखे.

 

  • बाहर निकलते समय कोशिश करे की मुँह पर मास्क लगा लें.

 

  • घर मे यदि कोई व्यक्ति बीमार चल रहा है तो उसे मास्क लगा कर रखने को ही बोले. यदि आप बीमार हो. जुखाम जैसे समस्या से पीड़ित हो तो मास्क लगा कर ही रखे.

 

  • खासते या छींकते समय मुँह पर रुमाल जरूर रखे. यदि कोई सामने वाला छीक या खास रहा है तो नाक को रुमाल से तुरंत ढक लें|

 

  • यदि सर दर्द, बुखार, जुखाम, चककर आरहा है तो तुरंत डॉक्टर के पास जाए. और चेकप करवाए.बिल्कुल भी लापरवाही ना करे.

 

  • किसी भी प्रकार के मांस का सेवन न करे 

 

  • खाने मे कुछ ऐसी चीजों का सेवन करे जो आपकी immunity पावर को बढ़ाए |
  • घर मे साफ सफाई रखे और हाथ को सेनोटाइजर से धोए 

 

कोरोना वाइरस उन लोगो पर अधिक  सक्रिय होता है जिनकी इमुनिटी पवार यानी प्रतिरोधक क्षमता कम है | एसे माय गिलोए का काढ़ा बहुत फायदेमंद होता है |

 

इन हिदायतों को जरूर सुने और इनका सख्ती से पालन करके इस वायरस को फैलने  से रोके और खुद के तथा दूसरों के जीवन को भी बचाएं |

 

क्या है यह वायरस और कैसे फैलता है शरीर मे?

यह वायरस ठंडी जगहों पर अधिक सक्रिय रहता है. इंसानों से  इंसानों मे और जानवरो से इंसानों मे फैलने वाला यह वायरस बेहद खतरनाक है. 

 

 

coronavairus
coronavairus

यह वायरस तब तक नहीं फैलता जब तक इसे जिन्दा कोशिका ना मिल जाए.  यानी कि इस वायरस को अपनी तादाद बढ़ाने के लिए (प्रजनन के लिए) इसे जिन्दा कोशिका कि आवश्यकता होती है. 

 

कोरोना वायरस  corona vairus  का अटैक 

तो ऐसे  मे जब भी कोई व्यक्ति खास कर कम immunity  वाला व्यक्ति कोरोना  वायरस के संपर्क मे आता है तब यह वायरस कोशिकाओं के साथ मिल कर तेजी से अपनी तादाद बढ़ाने लगते है. 

 

जैसे ही यह वरस शरीर मे जिंदा कोशिकाओं के संपर्क मे आता है यह तेजी से अपनी तादाद बढ़ाने लगता है |

इसके बाद यह पूरे शरीर की इमुनिटी पवार को खत्म कर देता है |

इस तरह धीरे धीरे यह वायरस पूरी कोशिकाओं मे फ़ैल कर शरीर को अपनी जप्त मे ले लेता है.

जिससे इसका असर सर दर्द ,बुखार , चक्कर आना , जैसे लक्षण उस  संक्रमित व्यक्ति पर तेजी से दिखने लगता है. 

 

 

कोरोना वायरस का पहला लक्षण – first sipmtams of corona vairus

यह वायरस फैलते ही सबसे पहले उस व्यक्ति को छीके आएंगी फिर सर दर्द के साथ हल्का बुखार का अनुभव होगा, 

इसके बाद अगले 24 घंटे तक कोई  उचित ट्रीटमेंट ना मिलने पर यह वायरस पूरे शरीर कि इम्युनिटी यानी कीटाणु प्रतिरोधक क्षमता को चूस लेता है जिससे शरीर मे बहुत कमजोरी आजाती है और चक्कर आने लगता है. 

अब यदि समय पर डॉक्टर के पास जा कर इस लक्षण की जाँच ना करवाई जाए  तो यह वायरस इतना हावी हो जाता है कि सात दिन मे यह इंसान को मौत कि नींद सुला देता है. 

 

इसलिए जैसे ही आपको यह लक्षण नजर आए तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे और उचित जाँच करवाए. 

आपकी एक छोटी सी लापरवाही आपको मौत की नींद सुला सकती है

 

 

हवा मे भी मौजूद रहता है corona vairus |

यह वायरस ना  सिर्फ इंसान से इंसान मे ,बल्कि हवा के जरिये भी लोगो मे प्रवेश करता है |

यह वायरस ठंडी जगहों पर हवा मे मौजूद रहते है.

यह वायरस उन लोगो पर जादा हावी होता है जिनकी  रोगाणु  प्रतिरोधक क्षमता (immunity power) कम होती है | ऐसे  लोगो पर यह वायरस जल्दी अटैक करता है |

समय पर उपयुक्त इलाज न मिल पाने पर 7 दिन मे ही यह वाइरस इंसान का काम तमाम कर देता है |

 

तो दोस्तों आपसे निवेदन है की इस आर्टिकल को जितना हो सके उतना अपने दोस्तो और रिशतेदारों मे शेयर करें ताकि सबको इस वाइरस के लक्षण का पता चल सके और वह अपना उचित इलाज कार्वा सके तथा इस कहत्रणक वाइरस को भारत मे फैलने से रोका जा सके |

आपका यह एक छोटा सा प्रयास  करोड़ो लोगो की जान  बचा सकता है |

 

जय हिन्द 

 

 

coronavairus

 

 

 

coronavirus

hindi stories with moral |100 रोचक कहानियाँ

 

 

 

जरूर पढ़े – Hindi GK | amazing facts of general knowledge klick hear ..

hindi-GK
hindi gk

 

 

hindi gk rochak jankari | ज्ञान की बाते….

hindi-GK
hindi gk

 

राममूर्ति नायडू | Rammurthy Naidu

 

जरूर पढ़े- भारत के बोधिधर्मन  bodhidharma मार्शल आर्ट के जन्म दाता-कुंग फूँ-

bodhidharma

 

यहाँ click करे – बासी  रोटी खाने के ज़बरदस्त फायदे  यह article पूरा पढ़ने के बाद कभी नहीं फेंकोगे बासी रोटी जानिए क्या सही तरीका बासी रोटी खाने का ?

 

 

 

यहां click करे- जानिए कितना खतरनाक है चक्की से पिसा हुआ आटा ? यह भी जानो की क्या होता है मल्टीग्रेन आटा ? यह कैसे तैयार होता है ? और यह स्वास्थ्य के लिए कितना लाभकारी होता है ?

multigrain-wheat-benefits

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!