Kerala elephant death | दिल दहला देने वाली घटना

 

Kerala elephant death-तारीख 3 जून 2020….. इंसानियत को शर्मशार कर देने वाली केरल की एक ऐसी घटना जिसमे एक गर्भवती हाथनि तड़प तड़प कर मर गई….

 

 

महत्मा गाँधी (mahatma gandhi) जी ने कहा था की किसी देश की महानता का अगर पता लगाना है तो बस इतना ही देख लीजिये की उस देश मे जानवरो के साथ कैसा व्यवहार किया जाता है..

उस देश मे जानवरो कि क्या हालत है? 

 

 

🙏Video देखो 👉

 

 

Kerala elephant death in india hindi – केरला राज्य से सामने आई इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली हरकत 
Advertisement

Kerala-elephant
Elephant

 

 

भारत का सबसे शिक्षित राज्य कहे जाने वाले केरल से एक बहुत शर्मशार कर देने वाली घटना सामने आई..

इस घटना के बाद पूरे भारत मे लोगो के अंदर जबरदस्त गुस्सा भरा है..

तो चलिए जानते है की उस दिन क्या हुआ था?

दरअसल ये मामला तब शुरू हुआ..

जब केरल के मल्ल्पुरम जिले मे एक भूखी गर्भवती हाथनि खाने की तलाश मे पास के एक जंगल से होती हुई,

केरल के एक गांव मे आ पहुंची ,

Advertisement

 

Kerala elephant

 

हलाकि की उसने किसी को नुकसान नहीं पहुँचाया.. कोई तोडफ़ोड़ नहीं की, वो तो बस अपनी भूख मिटाना चाहती थी..

 

लेकिन वहां के कुछ दुष्ट लोगो ने उस गर्भवती हाथनि को वहां से भगाने के लिए उस हाथनि के साथ बहुत दुर्व्यवहार किया..

 

 

वहां के स्थानीय लोगो ने इंसानियत को ताव पर रख कर, उस हाथनि को पटाखों से भरा अनानास खिला दिया…

 

हाथनि ने जब वो अनानास खाया तो वो पटाखे हाथनि के मुँह मे ही फट गए.

Kerala elephant

जिसके चलते हाथनि का मुंह बुरी तरह घायल हो गया जीभ पर बहुत चोट आई..

 

भयानक दर्द के चलते हाथनि छटपटाने लगी, पानी की तलाश मे हाथनि वहाँ से कुछ ही दूर,

 

 

वेलियार नदी तक जा पहुंची वहां उसने अपना मुंह पानी मे डाल दिया जिससे उसको काफ़ी राहत मिल रही थीं..

 

हाथी इसी तरह उस नदी के पानी मे मुंह डाले 70 घंटो तक खड़ी रही…

Advertisement

 

हाथी को नदी के पानी मे खड़े जब बहुत वक़्त बीत गया तो इसकी जानकारी फारेस्ट विभाग के अफसरों को दी गई…

 

तो वो उसे निकालने के लिए दो बड़े हाथियों को लेकर पहुंचे..

 

काफ़ी मशक्क्त के बाद हाथी को किसी तरह नदी के किनारे तक लाया गया..

 

लेकिन दुर्भाग्य वश भयानक दर्द के चलते हाथनि ने अपना दम तोड़ दिया… और वहीं पर गिर गई..

 

जिसके बाद फारेस्ट डिपार्टमेंट द्वारा एक बड़ी करेन बुलवा कर हाथनि को वहां से ले जाया गया…

 

ये कुकर्म जिन लोगो ने किया है उनके खिलाफ FIR दर्ज की जा चुकी है,

 

इस पर गहरी छान बीन चल रही है और जल्दी ही आरोपी पकड़े जाएंगे…

 

लेकिन अब सवाल ये उठता है की आखिर कब तक ये बेज़ुबान जानवर कुछ घटिया इंसानों के घटियापन का शिकार होते रहेंगे….

 

वेदो मे किसी भी गर्भवती जीव को नुकसान या चोट पहुँचाना बहुत बड़ा अपराध माना गया है.

बहुत बड़ा पांप माना गया है..

 

Advertisement

जिन लोगो ने यह किया है, उनको भारत का क़ानून क्या सजा देगा क्या नहीं ये तो वो ही जाने

 

लेकिन भगवान की अदालत मे इनको इतनी भयानक सजा मिलेगी की ऐसा जगन्य अपराध करने के बारे मे कोई इंसान सोचेगा भी नहीं..

 

 

अब जो हो चुका है यह बीता हुआ अतीत, इंसानियत की क्रूरता और हैवानियत का जीता जागता सबूत बनकर इतिहास के पन्नो मे हमेशा के लिए काले अक्षरों मे दर्ज हो चुका है.

 

हर बार की तरह शायद ये घटना भी लोग आने वाले कल मे इसे एक शर्मनाक अतीत समझ कर भुला देगी… सब अपने अपने काम मे व्यस्त हो जाएंगे..

 

लेकिन सवाल ये उठता है आखिर कब तक इन बेज़ुबान जानवरो पर ऐसे जुल्म ढाया जाएगा..

आखिर कब तक ये बेज़ुबान जानवर घटिया इंसानों के वहशीपने का शिकार होते रहेंगे..

 

ऐसा सिर्फ एक बार नहीं हुआ है… बहुत पुराने समय से हर बार बेज़ुबान जानवर ऐसे ही इंसानों की इस घटिया करतूतों का शिकार होते आया है…

 

 

हम सब को मिल कर जानवरो के प्रति ऐसे दुर्व्यवहार को रोकने के लिए आवाज़ उठानी पड़ेगी… कोई ठोस कदम उठाना पड़ेगा..

 

 

इस पर ऐसा क़ानून बनना चाहिए की इंसान ऐसे बेज़ुबान जानवरो पर दुर्व्यवहार करने से पहले हज़ार बार सोचेगा..

 

Advertisement

 

……….वरना कल को फिर से कोई ना कोई जानवर ऐसे ही इंसानों के वहशीपन की बाली चढ़ता रहेगा…

 

 

अब आपसे एक ही निवेदन है की यदि इस video मे बताई बातो से आप सहमत हो तो video को like कर देना और लोगो मे शेयर कर देना…..
🙏🏻🔥

 

whatsaap-trick

 

 

 

यहाँ click करे – भगवान ने ऐसे किया अपने भक्त पर न्याय | देखिये भगवान ने कैसे दी साधू पर हाथ  उठाने की सज़ा | एक सच्ची कहानी | religious stories in hindi मौजी साधू|

dharmik-kahani

 

 

 

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *