best health tips -100 साल तक निरोगी रहने का रहस्य

 

 

 

चलिये  अब जानते है महाऋषि वाघबट्ट जी ने पानी पीने के क्या नियम बताए है -पानी पीने के सही  नियम 

 

जी हाँ दोस्तों सिर्फ पानी पीने का तरीका बादल देने से ही आप अपनी कई छोटी बड़ी बीमारियों को सही किया जा सकता है |

 

लेकिन आयुर्वेद मे पानी पीने के नियम को लेकर एक बात और भी कही गई जिसे जान लेना आपके लिए बेहद जरूरी है और वो यह की पानी को अगर गलत तरीके से पिया जाए तो यही पानी पानी शरीर के लिए एक जहर का काम भी करती है शरीर मे कई प्रकार के रोग भी पैदा कर सकती है |

अब आप सोच रहे हो वो कैसे ? तो चलिये जानते है |

 

दस्तो आज से 3000 हजार साल पहले आयुर्वेद के सबसे बड़े ज्ञाता महारिशी वाघ बट्ट जी ने एक श्लोक कहा था – भोजनांते जल विषम्यादी

यानि की भोजन के तुरंत  बाद 20 चिम्मच से अधिक जल पीने से वह जहर के समान माना गया है |

चलिये  जनते है की आखिर ऐसा क्यो कहा – 

best health tips -100 साल तक निरोगी रहने का रहस्य

भोजन पचने की प्रक्रिया 

आयुर्वेद मे लिखा है जब हम भोजन करते है तो सबसे पहले उसे अच्छे से चबाते है जिससे भोजन छोटे छोटे टुकड़ो मे बट जाता है और मुह की लार की वजह से चिपचिपा  गीला हो जाता है

 

|भोजन को मुंह में लेकर उसे दांतों से चबाने के दौरान लार ग्रंथियों से निकलने वाले लार में मौजूद रसायनों के साथ रासायनिक प्रक्रिया होने लगती है|

उसके बाद भोजन गले के रास्ते से होता हुआ आमाशय मे इकट्ठा होता है |

 

यहां click करे- हल्दी वाले दूध के 11 बेहतरीन फायदे| कब ?- कैसे ?- और कितना use करना है | चमकती हुई त्वचा – सांवला पैन दूर – 120 बीमारिया करे दूर –  इसके लिए जान इसे लो कब ? – कैसे ?- कितना ?- खाना है – लगाना है – – और पीना है वरना फायदे की जगह हो जाएगा नुकसान 

turmeric

 

 

भोजन की पाचन प्रक्रिया digestive system 

इसके बाद यहीं पर भोजन के पचने की प्रक्रिया शुरू होती है इस प्रक्रिया मे एक खास प्रकार का एंजाइम का रिसाव होता है

यह एक प्रकार का तेजाबी अम्ल होता है जो अपनी ऊर्जा से भोजन को पचाता है इस ऊर्जा को संस्कृत मे जठर अग्नि कहा जाता है |

 

digestive-system
digestive system

जठर अग्नि भोजन को जलती है जिससे भोजन छोटे छोटे बारीक कणो मे टूट जाता है और फिर

भोजन के यह छोटे बारीक कण  बड़ी आंत तक पहुँचते है इसी दौरान रसायनिक प्रक्रिया द्वारा इस कण से छोटे छोटे अणु वाष्पित रूप मे यानी विटामिन ,प्रोटीन्स ,आयरन ,पोटाशियम ,धातू और अन्य सभी जरूरी पोशक तत्व निकल कर ब्लड सेल्स मे मिलते है जिसके द्वारा सभी पोशक तत्व शरीर बाकी के हिस्सो तक पहुँचते है |

 

 

(भोजन से सभी अणुओं के रूप मे सभी पोषक तत्व खीचने का काम हमरे पेट ग्रंथियां करती है )

 

 

digestive-system
digestive system

 

जिससे शरीर मे हड्डियों और मांसपेशियों का निर्माण होता है शरीर का विकास होता है बुद्धि का विकास होता है शरीर मे ब्लड सेल्स बनते है ,शरीर मे काम करने उठने बैठने खेलने की ऊर्जा प्रवाहित होती है जिसे स्टेमिनर कहते है |

 

शरीर मे वाईट ब्लड सेल्स का निर्माण होता है जिससे रोगाणु प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है यानि बीमारियों से बचा रहता है शरीर |

 

 

फिर ऐसे मे जब यह प्रक्रिया चल रही होती है तो हम गिलास भर कर पानी ठूस लेते है

 

जिस  वजह से यह अग्नि धीमी और मन्द हो जाती है जिससे खाया हुआ भोजन हजम नहीं हो पाता और पेट मे ही सड़ने लगता है जो शरीर मे  पेट दर्द ,कब्ज ,जलन ,उल्टी आना ,छाती मे जलन ,सर दर्द गैस बनना आदि समस्याएँ पैदा करते हुए बदबूदार माल के रूप मे शरीर से बाहर निकल जाता है |

 

जब भोजन सड़ने लगता है तो आमाशय मे आँव बनने लगता है यह आँव एक ऐसा जहर होता है जो जहरीले अणुओं के रूप मे हमरे ब्लड से मिल जाता है जिसकी मदद से यह जहर पूरे शरीर मे फ़ेल जाता है इसके बाद सफर होता है बीमारियों का | 

 

  • पेट दर्द  = सर मे  दर्द  रहना  – बार बार गैस बनना  – छाती मे जलन होना – गले मे रहना ,
  • जीभ मे छाले पड़ना –  उल्टी आना मतली आना  – जोड़ो मे दर्द – घुटनो मे दर्द रहना –
  • मसूड़ो मे खून आना – मुंह मे सूजन ,पिंपल ,झाइयाँ ,
  • आखों मे हल्का पीला पन रहना , आखों मे कई बार जलन होना |
  • दांत और हड्डियों का जल्दी कमजोर हो जाना-
  • खून मे कमी और  बाल का झड़ना 
  • आखों का रंग अंदर से हल्का लाल या पीला रहना 
  • जल्दी थकान महसूस होना , आलस रहना और नींद भी ठीक से ना आना ,
  • चिड़चिड़ा पन रहना ,गुस्सा आना ,चक्कर आना 
  • आदि जैसी समस्याएँ पैदा होने लगती है |

 

शरीर की 300 बिमरियों की जड़ | health tips

पानी की जगह पर क्या पी सकते है ?

यदि पानी ही पीना चाहते है तो पानी जगह फल का जूस , दहि या छाछ मट्ठा  पी सकते है इससे पेट की जठर अग्नि धीमी नहीं होती |

 

हाँ इन सब मे  भी पानी ही होता है लेकिन जूस के साथ मिल कर पानी उनही की प्रॉपर्टी मे समाहित हो जाता है | जिस वजह से पानी के अपने गुण समाप्त हो जाते है यह अग्नि को मंद नहीं करता  |

 

  • पानी हमेशा भोजन के 1 घंटे बाद ही पीना चाहिए क्योकि इस दौरान आमाशय मे भोजन के पचने की प्रक्रिया चल रही होती है |

 

 

जरूर पढ़े– health tips hindi सुबह पानी पीने के अद्भुत फायदे

रोज सुबह  उठ कर 2 गिलास हल्का गरम पानी जरूर पिये ऐसा करने से मुह की लार पानी के साथ मिल कर हमारे पेट मे पाहुच जाती है जो पाचन क्रिया के लिए बहुत लाभदायी होता है पेट भी अच्छे से साफ हो जाता है | आयुर्वेद मे सुबह की लार को  बहुत उपयोगी माना गया है |

 

जरूर पढ़े– health tips hindi सुबह पानी पीने के अद्भुत फायदे

 

health-tips

 

best health tips -100 साल तक निरोगी रहने का रहस्य

कौन सा पानी न पिये ?

1.  400 से अधिक TDS  वाला पानी बिलकुल न पिये 

पानी की गुणवत्ता को total dissolved solids यानी TDS मे मापा जाता है.
क्योंकि यह बताता है की पानी मे कितने % मिनिरल्स मौजूद है.

सामान्यतः पानी मे TDS 250 से 300 के बींच हो तो यह बहुत अच्छा माना जाता है| 

2.  प्लास्टिक रखा पानी यानी बंद बोतलों का पानी नहीं पीना चाहिए क्योकि ऐसे पानी मिनिरल्स की मात्र  न के बराबर होती है और TDS का मात्र भी बहुत कम जो की सेहत के लिए बहुत हानिकारक होता है |

 

 3. कम टीडीएस वाले पानी मे प्लास्टिक घुल जाता है जो की शरीर मे कई तरह की बीमारियों को न्योता देता है |

 

आयुर्वेद के अनुसार खाने पीने को लेकर जरूरी नियम |
best health tips -100 साल तक निरोगी रहने का रहस्य

दूध के साथ यह सब चीजे कभी न खाए –

दूध एक  ठंडी तासीर वाला तरल पदार्थ है   लेकिन जब गरम दूध मे हल्दी डाल दी जाए तो दूध की तासीर बदल जाती है | 

दूध का सेवन कभी नमक डाल कर नहीं करना चाहिए | दूध पीने के बाद कभी भी उबला हुआ अंडा नहीं खाना चाहिए |

 

रात्री मे ठंडी तासीर वाली खाद सामाग्री का सेवन नहीं करना चाहिए |

 

दही और फल एक साथ खाना हानिकारक (eat harmful yogurt with fruits at same time)
फलों और दही में अलग-अलग तरह एंजाइम होते हैं। इस कारण से इनको साथ में लेने वे पच नहीं पाते, इसलिए दोनों को साथ लेने की सलाह नहीं दी जाती। फ्रूट रायता कभी-कभार ले सकते हैं, लेकिन बार-बार इसे खाने से बचना चाहिए।

दूध के साथ फल खाना हानिकारक (eat harmful milk with fruits)
दूध के साथ फल लेने से दूध के अंदर का कैल्शियम फलों के एन्जाइम को सुखा देता है जिससे शरीर को पोषण नहीं मिल पाता है। संतरा और अनन्नास जैसे खट्टे फल तो दूध के साथ बिल्कुल नहीं लेने चाहिए।

 

मछली के साथ दही खाने के नुकसान :-(harmful eating fish with yogurt)
मछली की तासीर काफी गर्म और दही की तासीर ठंडी होने के कारण दोनों को एक साथ खाना हानिकारक साबित हो सकता है। इससे सेवन से गैस, एलर्जी और त्‍वचा संबंधी समस्‍याएं हो सकती है। दही के अलावा शहद को भी गर्म चीजों के साथ नहीं खाना चाहिए।


junk food effects मीठे और खट्टे फल एक साथ खाने के नुकसान (harmful eat sweet with fruit)
कुछ आहार विशेषज्ञ मीठे और खट्टे फल एक साथ लेना स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा नहीं मानते। क्योंकि इससे फलों की पौष्टिकता कम हो सकती है इसके अलावा खट्टे फल मीठे फलों से निकलने वाली शुगर में रुकावट पैदा करते हैं, जिससे पाचन में दिक्कत हो सकती है। इसलिए संतरा और केला एक साथ नहीं खाना चाहिए।
junk food facts
best health tips -100 साल तक निरोगी रहने का रहस्य
भोजन के साथ फल khana hanikarak:- (harmful eat food with fruits same time)
फलों को पचने में सिर्फ दो घंटे लगते हैं, जबकि भोजन को पचने में चार से पांच घंटे का समय लगता है। इसके अलावा कार्बोहाइड्रेट को पचाने वाला स्लाइवा एंजाइम एल्कलाइन मीडियम में काम करता है, जबकि नीबू, संतरा, अनन्नास आदि खट्टे फल एसिडिक होते हैं।
दोनों को साथ खाया जाए तो कार्बोहाइड्रेट या स्टार्च की पाचन प्रक्रिया धीमी हो जाती है। इससे कब्ज, डायरिया या अपच हो सकती है।

 


junk food effectsपनीर और अंडा हानिकारक (eat Paneer and egg harmful)
पनीर और अंडा दोनों ही प्रोटीन से भरपूर होते हैं। इसलिए सामान्‍य तौर पर प्रोटीन के सा‍थ प्रोटीन लेने के लिए मना किया जाता है। क्‍योंकि दोनों में उ‍पस्थित प्रोटीन को पचाना बहुत मुश्किल होता है और ऊर्जा की भी जरूरत पड़ती है।
junk food facts
best health tips -100 साल तक निरोगी रहने का रहस्य
दही के साथ दूध हानिकारक 
दूध और दही दोनों की तासीर अलग-अलग होती है। दही एक खमीर वाली चीज है और आपको पता ही होगा दही को दूध में मिलाने से दूध खराब हो जाता है।
junk food facts
\
साथ ही, एसिडिटी बढ़ती है और गैस, अपच व उलटी हो सकती है। इसके इलवा दूध मे कभी नमक
डाल कर न खाए आप चमड़ी रोग के शिकार हो जाएंगे , दही मे कभी नमक न डाले क्यो की नमक
डालने से दही के अच्छे बेकक्टीरिया मर जाते है और वो आपके लिए हानिकारक है।
health-tips

 

 

 

 

जरूर पढ़े  – आयुर्वेदिक उपचार(treatment) -health tips- beauty tips और घरेलू उपचार एवम कारगर नुस्खे

 

राममूर्ति नायडू | Rammurthy Naidu

 

यहाँ click करे – बासी  रोटी खाने के ज़बरदस्त फायदे  यह article पूरा पढ़ने के बाद कभी नहीं फेंकोगे बासी रोटी जानिए क्या सही तरीका बासी रोटी खाने का ?

 

 

 

यहां click करे- जानिए कितना खतरनाक है चक्की से पिसा हुआ आटा ? यह भी जानो की क्या होता है मल्टीग्रेन आटा ? यह कैसे तैयार होता है ? और यह स्वास्थ्य के लिए कितना लाभकारी होता है ?

multigrain-wheat-benefits

 

 

hindi stories with moral |100 रोचक कहानियाँ

 

 

यहां click करे- आज से ही खाना बंद कर दो चीनी | sugar| यदि आप भीचीनी से बनी हुई या फिर direct चीनी दल केआर उसे पी  रहे हो या खा रहे हो तो हो जाओ सावधान |इस article मे  चीनी के सेवन से शरीर पर होने वाले हानिकारक प्रभाव के बारे मे आपको बताया गया है ।  इसके इलवा मिठास के लिए आप चीनी की जगह पर आप क्या क्या उपयोग कर सकते है उसके बारे मे भी बताया गया है ……………. 

 

shugar

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!