amitabh bachchan strugle success inspirational story

 

आनंद की सफलता amitabh bachchan

‘आनंद’ और ‘परवाना’ फिल्मों में काम करने के बदले अमिताभ को तीस-तीस हजार रुपए का पारिश्रमिक मिला था, इसलिए अमिताभ अनवर अली के फ्लैट को छो़ड़कर जुहू-पार्ले स्कीम में नार्थ-साउथ रोड पर सात नंबर के मकान में

 

 

रहने लगे। ‘आनंद’ फिल्म ने सफलता के झंडे गाड़ दिए थे। इसमें अमिताभ बच्चन ने तब के सुपर स्टार राजेश खन्ना के समक्ष जानदार अभिनय करके खासी लोकप्रियता हासिल कर ली थी। हालाँकि सफलता की मंजिल अभी दूर थी।

 

 

इस बीच अमिताभ को फिल्मों में ‘साइड रोल’ ही मिल रहे थे। शुरू की एक दर्जन फिल्में पूरी होने तक अमिताभ जीरो ही थे। इनमें ‘आनंद’ के अलावा एकमात्र ‘बॉम्बे टू गोवा’ फिल्म ही ऐसी थी, जिसमें अमिताभ के नटखट रोल को दर्शकों ने

 

चाव से देखा था। मेहमूद और एन.सी. सिप्पी इसके निर्माता थे। अनवर के कहने पर मेहमूद अमिताभ से मिलें। मेहमूद ने अमिताभ से सिर्फ इतना ही पूछा था कि नाचना आता है या नहीं, और अमिताभ का जवाब था, थोड़ा-थोड़ा मगर सीख लूँगा।

 

 

मेहमूद ने ताजमहल होटल के डांसिंगफ्लोअर पर बैंड की ताल पर अमिताभ को नचाकर देखा और ‘ओके’ कर दिया। 1972 में प्रदर्शित यह फिल्म फर्स्ट-रन में तो ज्यादा नहीं चली थी, लेकिन बाद में यह जब-जब भी चली, इसने निर्माताओं की झोली को लबालब भरा।

 

 

अमिताभ बच्चन की असल कामयाबी amitabh bachchan

दोस्तों अमिताभ बच्चन को असल कामयाबी13 फिल्मों के बाद 1973 में आई फिल्म जंजीरमें मिली और इस फिल्म में उन्होंने अपना पहला लीड रोल निभाया था और ये फिल्म उस समय की सबसे ज्यादा सफल फिल्म साबित हुई

 

और इस फिल्म की मदद से अमिताभ बच्चन रातो रात सुपरस्टार बन गए और लोग उन्हें एंग्री यंग मैन के नाम से पहचान ने लगे बस यहीं से अमिताभ बच्चन की फ़िल्मी करियर की सफलता शुरू हो गई और इसके बाद उन्होंने एक के बाद एक अदालत और अमर अकबर एंथनी जैसी कई सुपरस्टार हिट फिल्मों में काम किया।

 

 

 

सुपरहिट जंजीर – सुपरहिट अमिताभ amitabh bachchan-amitabh bachchan success story

‘जंजीर’ (1973)के सुपरहिट होने के पहले तक अमिताभ ने जिन एक दर्जन फिल्मों में काम किया, उनमें ‘बॉम्बे टू गोवा’/ परवाना/ आनंद/ रेशमा और शेरा तथा ‘सात हिंदुस्तानी’ के अलावा प्यार की कहानी/ बंसी-बिरजू/

error: Content is protected !!