अवचेतन मन क्या है | power of subconscious mind hindi

दोस्तो आज हम एक अद्भुत चीज के बारे जानने वाले है जिसका नाम है अवचेतन मन यानी  subconscious mind |अक्सर आपने कई जगह पर यह शब्द सुना होगा फरहा होगा या देखा होगा लेकिन बहुत से लोगो एसे है जो इस नाम से वाकिफ नहीं है | बहुत से लोग एसे भी है जो अवचेतन मन यानी  subconscious mind के बारे थोड़ा बहुत जानते तो है लेजिन उन्हे यह नहीं पता की इसका सही उपयोग करके क्या कुछ किया जा सकता है | तो बने रहिए हमारे ब्लॉग पर क्योकि आज हम जानेंगे की अवचेतन मन क्या है | अवचेतन मन की शक्तियाँ   (power of subconscious mind hindi) और इसका सही उपयोग कैसे किया जाता हाई ?

Advertisement

 

power of subconscious mind hindi | अवचेतन मन 

बहुत कम लोग ही इस बात को जानते है की  हर इंसानी दिमाग़ मे एक ऐसी पावरफुल चीज होती है जिसकी मदद से आप हर असम्भव काम को सम्भव कर सकते हो. जो चाहो उसे हकीकत मे पा सकते हो, हर बड़े से बड़े मुकाम को हासिल कर सकते हो. किसी भी लक्ष्य तक पहुंच सकते हो. दौलत, शोहरत, सम्मान, आत्मविश्वास, सुख, शांति सब कुछ हासिल कर सकते हो.

यहाँ तक तक की आप अपने गुस्से, अपनी फीलिंग्स और इमोशन्स को कंट्रोल कर सकते हो.

अवचेतन-मन-subconscious-mind

सिर्फ यही नहीं! इस पावर से आप अपने शरीर की कई तरह की छोटी बड़ी बीमारी को भी ठीक कर सकते हो.

ऐसा हज़ारो लोगो की जिंदगी मे हो चुका है और लाखों लोगो कि जिंदगी मे हो रहा है.

अब तक मैंने जो भी बताया है साइंस भी इस बात को प्रूफ कर चुका है..

जानता हूं अभी आपको ये बातें मज़ाक़ लग रही होंगी. लेकिन थोड़ा सब्र रखो और इस पोस्ट को आखिर तक पढ़ते रहो सब समझ जाओगे.

इस पावरफुल चीज का नाम है अवचेतन मन (subconscious mind). चलिए इसे विस्तार से समझते है-

 

 

 

क्या होता है अवचेतन मन? What is the subconscious mind?

इंसानी मन – मस्तिष्क   “मानसिक चेतना”  के आधार पर दो अवस्थाओं मे बटा होता है पहली अवस्था होती है चेतन मन यानी conscious mind दूसरी अवस्था होती है अवचेतन मन, यानी  subconscious mind.

 

चेतन मन वह अवस्था है ज़ब हमारा मन और शरीर हमारी इच्छा अनुसार कार्य करते है. जैसे मान लो आपको 10 मंजिल ऊंची इमारत पर जाना है आपके सामने दो रास्ते है सीढ़ियाँ और लिफ्ट. आपने तुरंत लिफ्ट से जाने की इच्छा जताते हुए अपने कदमो को लिफ्ट की तरफ बढाना शुरू कर दिया.

यानी आपकी बोडी वैसा ही rispons करने लगी जैसा आपने सोचा और चाहा.

 

वहीं दूसरी तरफ हमारा अवचेतन मन,वह अवस्था ज़ब हमारा मन और शारीर हमारी इच्छा के बिना अपने आप ही सही तरीके से काम करने लगता है.

 

Advertisement
  • जैसे – सपने दिखाई देना,
  • खुद को बचाने के लिए अचानक से आपके हाथ पैरो का हरकत मे आना…
  • पलकों का झपकना,
  • चलते या भागते वक़्त हाथों का अपने आप नियमबद्ध तरीके से आगे पीछे होना.

 

तो दोस्तों यह तो अब समझ गए होंगे कि चेतन मन और अवचेतन मन क्या होता है.

चलिए अब समझते है कि – 

 

चेतन मन और अवचेतन मन किस तरह कि मानसिक और शारीरिक गतिविधियों को कंट्रोल करते है.

  • ज़ब हम किसी चीज के बारे सोच रहे होते है विचार कर रहे होते है..
  • ज़ब हम कोई लॉजिक अथवा अनुमान लगा रहे होते है..
  • ज़ब भी किसी चीज पर गहरा चिंतन कर रहे होते है और
  • ज़ब हम छोटे बड़े डिसीजन ले रहे होते है.

 

तब, इन सब चीजों को हमारा चेतन मन कंट्रोल कर रहा होता है.

 

वहीं दूसरी तरफ अवचेतन मन

  • हमारी भावनाओं को
  • हमारे विश्वास को
  • हमारी आदतों को
  • हमारी फीलिंग्स जैसे
  • गुस्सा, दुख,ख़ुशी,उतत्सुकता,
  • कामुकता (sex),निराशा, जैसी भावनाओं और
  • उम्मीदों को कंट्रोल करता है.

 

यहाँ तक की हमारी सभी पुरानी यादों को समेट कर रखने का काम भी अवचेतन मन ही करता है.

 

पुरानी यादों मे बीते हुए कल कि वो छोटी बड़ी घटनाए शामिल होती है जिनमे जो भी देखा सुना और करा होता है,

इन्ही के आधार पर हमारा तजुर्बा बनता है और इन्ही के आधार पर हम बड़ी बड़ी कल्पनाए कर पाते है..

और देखा जाए तो यही सारी चीजे,  हमारी life को कंट्रोल करती है.

 

अब जो बातें मैंने शुरू मे बताई थी कि हम जो चाहे वो पा सकते है हर चीज मे सफल हो सकते है, तो आखिर इन सब के पीछे अवचेतन मन कि क्या भूमिका होती है.

 

इससे पहले आपको यह समझना होगा कि – 

 

हमारा अवचेतन मन कैसे काम करता है. how our subconscious mind works

हम जिंन्दगी मे जो भी देखते है सुनते है और जिंदगी मे जो भी घटनाएं घटित होती है, अवचेतन मन इन सब को एक डाटा के रूप मे अपने अंदर स्टोर कर लेता है.

Advertisement

 फिर इन्ही deta के आधार पर ही हम जिंदगी मे बड़े बड़े फैसले ले पाते है, और अच्छे बुरे की पहचान कर पाते है, क्रिएटिव ideas सोच पाते है. बड़ी बड़ी कल्पनाए कर पाते है.

सिर्फ यही नहीं,  अवचेतन मन और भी बहुत सारे काम करता है जैसे आदतों के आधार पर बिलीफ का निर्माण करना.

 

जी हाँ,  आपने अक्सर सुना होगा और शायद करके भी देखा होगा की किसी भी चीज की गर आदत डालनी हो या छोड़नी हो तो उस काम को 21 दिन तक लगातार करते रहो. और वाकई मे ऐसा करके लोगो को पॉजिटिव रिल्जल्ट मिले है.

 

तो हम आपको बता दें की इसके पीछे भी सारा लॉजिक अवचेतन मन का ही होता है.

 

क्योंकि अवचेतन मन जीवन मे बार बार होने वाली घटनाओ को अपने अंदर स्टोर कर लेता है,यानी आप जो काम बार बार करते हो अवचेतन मन उसे आपकी आदतों मे शामिल कर देता है.

इन्ही आदतों के आधार पर हमारा बिलीफ सिस्टम तैयार होता है.

फिर इसके बाद हमारा बिलीफ सिस्टम अपना काम करना शुरू कर देता है.

आदतों के आधार पर बिलीफ सिस्टम कैसे काम करता है?

जैसे मान लो,

किसी की आदत है रोज सुबह उठ कर कसरत वगैरा करने की तो उसका ये बिलीफ बन जाता है की सुबह जल्दी उठना और कसरत करना तो बहुत आसान है. और अगर किसी की आदत है देर तक सोने की तो उसका बिलीफ होगा की सुबह उठकर यह सब बहुत मुश्किल काम है तो.

दोस्तों इसी बिलीफ के आधार पर बाकी के भी तमाम फैक्टर एक्टिव होना शुरू हो जाते है.

जैसे आत्मविश्वास का बढ़ना, अपनी क्षमताओं को समझना, बड़ी बड़ी कल्पनाए करना.

 

इस तरह अवचेतन मन पर्दे के पीछे से छुप कर सभी कार्य को अंजाम देता है.

 

यह तो आप समझ गए कि अवचेतन मन का क्या काम होता है और यह किस तरीके से काम करता है.

 

Advertisement

चलिए अब जानते है,

जीवन मे बड़े बड़े मुकाम हासिल करने मे अचेतन मन कि क्या भूमिका होती है.

  1. जानकारी
  2. लगातार प्रेक्टिस
  3. तजुर्बा
  4. नया सीखते रहना और क्रिएटिव करते रहना
  5. हौसला और विश्वास.

 

अब आप सोचोगे कि मै इन चीजों के नाम क्यों गिना रहा हूं. दरअसल ये जिंदगी के वो फैक्टर है जिनके आधार पर हम एक सफल इंसान बन पाते है.

 

और ये सभी फेक्टर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अवचेतन मन से जुड़ी होती है.

 

पहला फैक्टर है जानकारी.  किसी भी जानकारी को हासिल करने के सिर्फ तीन तरीके होते है,

  1. देख कर
  2. सुनकर
  3. पढ़ कर 

 

ज़ब हम हम ऐसा करते है तो यह हमारे अवचेतन मन मे स्टोर हो जाती है. हमारा अवचेतन वहीं समझता है जिन चीजों पर हम मानने और जानने लगते है.

 

दूसरा है लगातार प्रयास –

ज़ब हम किसी भी कार्य को लगातार करते है तो हमें उस काम कि आदत पड़ने लगती है यानी ये इस बात को दर्शाता है कि हमें धीरे धीरे उस काम मे कुशलता हासिल हो रही है.

फिर इस आधार पर हमारा बिलीफ बनना शुरू होता है जिस वजह हमारा अवचेतन मन हमें बार बार यह सूचित करेगा कि हम उस काम को अच्छे से कर सकते है. यानी विश्वास और आत्मविश्वास दोनों को बढाने का काम अवचेतन मन ही करता है.

 

इसी तरह जीवन मे बार बार किये जाने वाले कार्यों के परिणामो से हमारा तजुर्बा बनता है.

 

फिर इन्ही तजुर्बा के माध्यम से हम जीवन मे नया और क्रिएटिव करने सोच और क्षमता विकसित करते है.

 

फिर आधार पर हमें जीवन मे बड़े बड़े मुकाम हासिल होने लगते है.

 

Advertisement

अवचेतन को समझाओ, अवचेतन मन मे अच्छी आदते डालो.

 

अवचेतम मन कैसे समझता है?

ज़ब हमें ये  समझाया या बताया जाता है कि ये काम गलत है ये गन्दा काम है ऐसा नहीं करना चाहिए तो इसकी सूचना सीधा हमारे अवचेतन मन तक पहुँचती है जो भविष्य मे हमें कोई भी गलत कार्य करने से और गकत मार्ग कि तरफ जाने से रोकता है.

 

जीवन मे जो भी अच्छा बुरा देखेंगे, सुनेंगे वही हमारा अवचेतन मन ग्रहण करेगा और वैसी ही प्रतिक्रिया देगा.

 

इसीलिए कहते है कि आप जो भी देखोगे सुनोगे पढ़ोगे समझोगे  वहीं आपके अवचेतन मन मे स्टोर होगा फिर उसी अनुसार आप कर्म करोगे.

 

24 घंटे काम करता है अवचेतन मन 

नींद मे चेतन मन भी पूरी तरह से सो जाता है. लेकिन अवचेतन मन 24 घंटे एक्टिव रह कर अपना काम करता रहता है, सोते वक़्त सपनो का आना भी अवचेतन मन मे चल रही सोच का ही परिणाम होती है.

क्योंकि सोते वक़्त भी हमारा अवचेत मन अपना काम करता रहता है.

 

चलिए जानते है

 

हमारा अवचेतन मन सबसे ज़ादा एक्टिव कब रहता है. और किस तरह से इसका फायदा उठाया जा सकता है.

हमारा अवचेतन मन रात को सोने से ठीक 5 से 10 मिनट पहले सबसे ज़ादा एक्टिव रहता है.

 

इसलिए सोने से ठीक 9 से 10 मिनट पहले आप जो भी सोचोगे जिन भी चीजों पर विचार करोगे..तब आपका अवचेतन मन आपके सोने के बाद उन्ही चीजों पर अपना काम करना शुरू कर देगा.

 

हलाकि ज़ादातर लोग ज़ब सोने ही वाले होते है तो वो लोग ठीक 9 से 10 मिनट पहले अपनी दिन भर की बुरी चीजों को याद करते है, ओहो आज ऐसा हुआ, आज मै यह नहीं कर पाया, आज मै वो नहीं कर पाया, अरे उसने मुझे ऐसा बोला,और भी बहुत कुछ, यानी सारा जोर नेगेटिव चीजों को सोचने मे लगा देंगे.

 

Advertisement

फिर ये सब सोचते हुए आप तो सो जाते हो लेकिन आपका अवचेतन मन सोचे हुए इन सभी नेगेटिव thoughts को समेट कर रख लेता है. जिस वजह से कई बार सपने मे भी उसी तरह का करते हुए नजर आते है.

 

जिसका नतीजा ये होता है की आपके जागते ही आपका चेतन मन भी तुरंत एक्टिव हो जाता है और अवचेतन मन, रात भर की सोची गई तनाम नेगेटिव बातें आपके चेतन मन को सूद समेत वापिस कर देता है.

 

(क्योंकि एक्टिव होते ही चेतन मन कभी खाली नहीं बैठता वो तुरंत अपने काम पर लग जाता है उसका काम है सोचना और सोचने के लिए उसको सभी सूचनाए अवचेतन मन से मिलती रहती है.)

 

फिर दिन भर आपके दिमाग़ मे घूम फिर कर वहीं बुरे thoughts चलते रहते है और आप परेशान होते रहते है दुखी होते रहते है इस तरह आपके दिन खराब होते रहते है. इन वजहो से आपका मन भी नेगेटिव विचारों को सोचने पर मजबूर हो जाता है.

 

और यही चीजे आपकी life मे तब तक चलती रहती है ज़ब तक आपके subconscious mind के पास पॉजिटिव thoughts नहीं पहुँचते.

 

तो मेरे दोस्त अब तो ये आप समझ ही गए होंगे की करना क्या है.

 

जी हाँ आपको रोज सोने से पहले आख़री 9 से 10 मिनट जितना हो सके उतने अच्छे और सकारात्मक विचारों को सोचना है.

 

हो सक  तो रोज मेडिटेशन कि मदद से अध्यात्म से जुड़ कर अपने अवचेतन मन कि ताकत को बढाओ.

 

रोज motivatiinal video देखो inspirational किताबें पढ़ो, अपनी life और करियर के बारे सकारात्मक सोचना शुरू करो.

 

खुद को ये विश्वास दिलाओ की मै जरूर सफल हूंगा..

मै सफलता की ओर बढ़ने लगा हूं, मेरे अंदर हर मुकाम को हासिल करने की ताकत है. मुझे अपना ये काम करने मे मज़ा आरहा है.

Advertisement

 

बस इसके बाद देखना दोस्तों आपको हफ्ते भर मे पॉजिटिव results दिखना शुरू हो जाएंगे.

 

 आपकी life बेहतर होना शुरू हो जाएगी. आपकी अंदर काम को करने की एक अलग लेवल की एनर्जी दिखाई देगी. 

 

निराशा के बादल हटने लगेंगे ओर आपका मन उतत्साह से भरने लगेगा.

 

आपकी माइंड मे एक से एक करिएटिव ideas आने लगेंगे. आप अपने अंदर एक अद्भुत ऊर्जा का अनुभव करने लगोगे.

 

क्यों, क्योंकि आपका अवचेतन मन अपने काम पर लग चुका होता है. 

 

इतिहास इस बात का गवाह है की अब तक जो इंसान अपने अवचेतन मन की शक्तियों को समझ कर उसके अनुसार चलने लगा है उसने दुनियां मे अविश्वसनीय और अद्भुत काम करके….

 

कई बड़े से बड़े मुकाम हासिल करके “इतिहास रचे है” और दुनिया भर के लोगो के लिए एक इंस्पिरेशन बने है.

 

जिसमे कई महापुरषो के नाम शामिल है, जैसे, स्वामी विवेका नन्द, महात्मा गाँधी, मदर ट्रेसा, नेंसल मंडेला,

 

ओर.अब आपकी बारी है…इस तरह अवचेतन मन से जीवन मे कुछ भी हासिल किया जा सकता है | हमारा अवचेतन मन किन्ही जादुई शक्तियों से कम नहीं है.

 

 तो दोस्तों अवचेतन मन यानी  subconscious mind  कि यह जानकारी आपको कैसी लगी? कमेंट करके जरूर बताना आज अपने  अवचेतन मन यानी  subconscious mind  कि इस पोस्ट को पढ़ कर क्या सीखा.  

Advertisement

 

ज़ादा से ज़ादा लोगो मे यह जानकारी शेयर करो ताकि वह भी अवचेतन मन यानी  subconscious mind जानकारी से अपने जीवन को सफल बना सके.

 

इन्हे भी पढे –

मोक्ष प्राप्ति का मार्ग 

उदासी मे भी सकारात्मक रहना सीखे

Self development tips hindi 

अध्यात्म क्या है for self improvement

Best learning habits moral story 

 

 

ज्ञान से भरी किस्से कहानियों का रोचक सफर | यहाँ मिलेंगे आपको तेनाली रामा और बीरबल की चतुराई से भरे किस्से ,  विक्रम बेताल की कहनियों का रोचक सफर , भगवान बुद्ध की कहानियाँ , success and motivational stories और ज्ञान से भरी धार्मिक कहानियाँ 

 

moral-stories-in-hindi

 

 

 

 

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Leave a Comment